आमिर खान के पीछे पगलाये हुए अखबारों-चैनलों, जरा ये भी पक्ष सुन लो

Bhavesh Nandan : कल हुए एक “अदभुत खगोलीय घटना” में एक सितारा पटना के जमीन पर एक ढ़ाबे पर उतर आया, सबसे बड़ी बात कि सितारे ने लिट्टी-चोखा भी खाया… है न कमाल कि खबर…. अब इतनी बड़ी और दुर्लभ घटना हुई तो न्यूज तो बनता है.. न्यूज चैनल, "सोशल साइट्स" और आज अखबारों में यह छाया है… क्या ये पत्रकारों का “महानता” भर है या हमारी गुलाम मानसिकता या फिर पेड न्यूज का मामला.. क्योंकि यह सबको पता था कि वो अपने सीरियल के प्रचार के लिए पटना आये थे और आगे जा रहे हैं.. उस खबर को प्रायोजित तरीके से दिखाया जा रहा है, जो कि खबर ही नही है ….आमिर कि महानता …निभायी दोस्ती… रिक्शे वाले के यहाँ बने बाराती.. ये वही महान आमिर खान हैं, जिन्होंने अपनी फिल्म "पीपली लाईव" के गाने “महंगाई डायन……” के 20 लोक गायकों को एकमुश्त 1500 रुपये में ही निबटा दिया था (जबकि उन्हें पता था कि महंगाई डायन सबको खा रही है..).. ये मनरेगा की मजदूरी से भी कम था.. जबकि उसी फिल्म के प्रचार में आठ करोड़ फूंके गए थे.. पत्रकारों और संस्थानों को अपना इस्तेमाल होने देने से बचना चाहिए…

        Gaurav Sinha dalali sanskriti matra hai
 
        Nishant Kumar jaha sach na chale waha jhooth sahi aur jaha haq na mile waha loot sahi bhavesh ji……..
 
        Wajeeh Ahmed Tasawwur khabar yahi he aor fir wada yad rakhna kam bari bat nhi he …
        ye wo parasnality he jahan khade ho jayenge mela lag jayega … ye to kismat he apni apni
    
        Shalini Shukla Patrakaro ka hi kaam hai kisi ko bhi arsh se farsh or farsh se arsh tak lana.
     
        Pushkar Kumar Mishra भावेश भाई, हम भारतीये हैं भूलने के आदत है…बड़े-बड़े नरसंहार भूल जाते हैं, घोटाले भूल जाते हैं, अन्यायपूर्ण नीतियों के नतीजे भूल जाते हैं, लेकिन व्यक्तिव और जलवा हमेशा याद रखते हैं…. मीडिया? उसे क्या चाहिए?? न्यूज? खबर? नहीं-नहीं… उसे चाहिए जिससे उसकी 'टी आर पी' बढे चाहे वो मंदिर से मिले या लिट्टी-चोखा की दूकान से…….
        आप इन व्यक्तिपुजक मानसिकता को बदल नहीं सकते…. अगर यह 'मानसिकता' बदल जाती तो अपना देश और देशवासी…. इतने 'मजबूर' न होते???
       
        Wajeeh Ahmed Tasawwur Khabar to yahi he na shalini ji ki jis me logon ki dilchspi ho… jo kuch alg hat kar ho …
        ab agar kutta admi ko kat leta he to ye necheral bat he lekin admi agar kutta ko kat le to yeh khabar highlight hogi hi….usi tarah supar star Amir pahli bihar aye wo vi achanak to khabron me chaye rahe ko koyi bat nhi
        
        Bhavesh Nandan ‎Wajeeh Ahmed Tasawwur Ji … खबर सिर्फ वही नहीं है जिसमे लोगों कि दिलचस्पी हो … लोगों कि दिलचस्पी पर जाईयेगा तो उनकी दिलचस्पी बहुत ही ज्यादा है अलग तरह कि है …काफी दिलचस्प लोग हैं … खबरों कि परिभाषा बताते वक्त अपनी जिम्मेवारी का भी भान हो हमें …
         
        Jairudra Jha jai maa bharti
         
        Wajeeh Ahmed Tasawwur Are Bhai Amir khan Avineta hen neta nhi esiliye wada yad rha aor driver dost ke bete ki shadi ko yadgar bna diya ….
         
        शशांक शेखर bihar lambe samay se bade sitron se dur raha hai……..yahan jane wale bade sitren surkhiyan le hi lete hain…….
         
        Shalini Shukla Bilkul sahi har insaan ko apni jimmedari ka ehsaas hona chahiye, chahe hum ho ya aap ho.
         
        Wajeeh Ahmed Tasawwur Shi bat he apni zimmedari ka ehsas har roffesniol me pahli prathmikta honi chahiye lekin jab logon ke dilchaspi ka saman nhi hoga to us paper ya chainal ka anjam kya hoga? jab bans hi na rhega to bansuri kahan se bajegi
         
        Shalini Shukla desh me or bhi bahut kuch aisa hota hai jinhe highlight karne ki jyada jarurat hai.
         
        Wajeeh Ahmed Tasawwur ek bat btayiye ek taraf Nirmal baba andhwishwas faila kar paisa ka ambar lga rhe hen dusri taraf sarak ke kinare jadu ka khail ya hath ki rekha dekh kar kismat btane wale baba vi kuch paisa bator kar pet bharte hen ab agar dono khabar do chainal par dekhaya jaye to log kon si khabar zyada dekhenge….?

भावेश नंदन के फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *