“आम आदमी पार्टी का हाथ जिन्दल साहब के साथ”

Thakur Gautam Katyayn : जिन्दल साहब देश में सबसे अमीर उद्योगपतियों में से एक हैं. इनकी सालाना आमदनी देश में सबसे ज्यादा है. इनकी तनख्वाह ही करीब सत्तर करोड़ रुपये सालाना है. इसमें इनकी शेयरों और संपत्ति से आमदनी को नहीं जोड़ा गया है. जिन्दल साहब कांग्रेस पार्टी के हैं लेकिन बंगाल में जिन्दल साहब के लिये ज़मीन छीनने के लिये जंगल महल के आदिवासियों पर मार्क्सवादी पार्टी ने भयंकर ज़ुल्म किये.

जब आदिवासियों ने कहा कि हम पर हुए ज़ुल्मों के लिये सरकार कम से कम हमसे माफी तो मांगे तो सरकार ने आदिवासियों पर ज़ोरदार हमला बोल दिया और नाम दिया गया 'आपरेशन लालगढ़'. आज उस इलाके को अशांति में झोंक दिया गया है और अब तृणमूल कांग्रेस के लोग जिन्दल साहब के लिये ज़मीन छीनने के लिये वहाँ के नौजवानों को सरकारी बंदूकें दे रहे है और इस गैरकानूनी सेना को भैरव वाहिनी नाम दिया गया है.

जिन्दल साहब की अपनी प्राइवेट जेलें भी हैं. जब कोई आदिवासी जिन्दल साहब को ज़मीन देने से मना करता है तो उसे उठवा लिया जाता है और जब तक वह अपनी ज़मीन देने के कागजों पर दस्तखत करने को राजी ना हो जाये, उसे इन जेलों में पीटा जाता है. जिन्दल साहब के कई पावर प्लांट ऐसे भी हैं जो वन भूमि पर बनाए गये हैं और सरकार को सूचना के अधिकार में स्वीकार किया है कि ज़मीन जिन्दल साहब को दी ही नहीं गयी लेकिन जिन्दल साहब वहाँ पावर बना रहे हैं और सरकार को ही बेच रहे हैं.

कुछ मामलों में सामाजिक कार्यकर्ताओं की कोशिशों से जिन्दल साहब को कोर्ट के नोटिस भी जारी हुए हैं पर आज तक सरकार कोर्ट का एक भी नोटिस जिन्दल साहब के किसी नौकर को भी नहीं दे पायी. जिन्दल साहब ने इंडिया अगेंस्ट करप्शन को भी चंदा दिया. भ्रष्टाचार मिटाने के नाम पर बनी नई आम आदमी पार्टी अरविन्द केजरीवाल ने दूसरे उद्योगपतियों के बारे में तो थोड़ा बहुत बोला लेकिन जिन्दल साहब के बारे में आज तक एक शब्द नहीं बोला.

    Sanjay K Chaudhary इस चोंचलेबाजी की भी पोल बहुत जल्द खुलने वाली है…भारतीय राजनीति में ऐसे कितने धूमकेतु आए और समय की गर्त में विलीन हो गए….वैसे मुगालते में अगर कोई जीना चाहे तो उसे कौन रोक सकता है भला…!
 
    Amit Singh is hamam men sabhi Nange hain koi kam koi jyada …dekhiye kya hota hai inka bhi ase abhi koi bara aarop nahi hai chanda dena na galat hai aur na hi lena kisi se bhi
 
    Niloo Ranjan आप नवीन जिंदल और सीताराम जिंदल को एक ही समझने की गलती कर रहे हैं। इंडिया अगेंस्ट करप्शन को चंदा सीताराम जिंदल ने दिया था और आप जिस जिंदल की कारगुजारियां बता रहे है व केजरीवाल के साथ जिसका फोटो लगाया है वो नवीन जिंदल हैं। नवींन जिंदल कांग्रेस पार्टी के सांसद भी हैं।
    
    Thakur Gautam Katyayn अमितजी आप का कहना सही है की लेना-देना गलत नहीं है, किन्तु 'जैसा होगा अन्न वैसा होगा मन' इस बात को तो ध्यान में रखा ही जा सकता है.
     
    Thakur Gautam Katyayn नीलू भाई, फिर सबों के नकारात्मक गुणों को सामने लाने वाले के मुँह से 'नवीन जिंदल' के लिए कुछ क्यों नहीं निकल रहा है, उनके उपलब्धियों को भी 'आम आदमी' तक क्यों नहीं लाया जा रहा. यह तो निश्चय ही आश्चर्य वाली बात हुई ना. 🙂
     
    Amit Singh Bhai sahab jab ham kisi se chanda lete hai to ye nahi dekhte hain ki samne wala kahan se paisa laya hai bas paisa diya aur ham rasid kat diye kam se IAC to apne website par nam sahit dikhaya hai ki hame kisne kahan se chanda diya aur sabhi aandolan chanda se hi chalta hai …ye paisa aandolan ke liye diya gaya tha na ki party ke liye …
     
    Amit Singh aashcharya to hai lekin kejriwal kisi par koi anargal aarop aaj tak nahi lagaya hai agar aapke pas kuchh sabut hai to aap unko likh sakte hain aur uska ek copy mere ko bhi mail kar digiyega mai bhi bhej dunga …jitna ka sabut hota hai utna hi aarop  lagata hai wo kyoki wo janta ki agar kuchh idhar udhar kiya to hamko warwad kar dega ye sab ….Navin Jindal par muh band rakha hai to kuchh karan hoga ….aaj tak BJP kyo nahi uthayee is mudde ko ya phir aur koi party kyo nahi uthata hai ….yah bhi to samjh se pade hai.

ठाकुर गौतम कात्यान के फेसबुक वाल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *