‘इंडिया टीवी’ मीडियाकर्मियों के लिए बना ‘गुलामी टीवी’ … अनुराग मुस्कान के इस्तीफे से खुलासा

Yashwant Singh : इंडिया टीवी में नौकरी करने वाले अगर खुद इस्तीफा देते हैं तो उन्हें छह महीने की सेलरी इंडिया टीवी में जमा करानी होगी, तभी रिलीव हो सकते हैं, वरना इंडिया टीवी उन पर मुकदम ठोक देगा. अगर इंडिया टीवी उन्हें नौकरी से निकालता है तो उन्हें तीन महीने की सेलरी देगा. ऐसा कांट्रैक्ट लेटर में लिखा होता है. क्या यह गुलामी का कांट्रैक्ट लेटर नहीं है? चर्चा है कि इंडिया टीवी के एंकर अनुराग मुस्कान इंडिया टीवी छोड़कर इंडिया न्यूज गए तो उन्हें छह महीने की अपनी सेलरी के बराबर रकम इंडिया टीवी को देना पड़ा. तब भी इंडिया टीवी के मैनेजिंग एडिटर विनोद कापड़ी ने उनका इस्तीफा अस्वीकार कर दिया. यह कैसी नौकरी है भाई? यह कैसा मीडिया है भाई? यह किस तरह का सरोकार है दोस्तों?

Bal Krishna : kya baat hai
 
Bhushan Shakya : ये दास प्रथा का आधुनिक स्वरुप है।
 
Suraj Sharma : बुरी बात है
 
Manoj Kumar Saxena : not fair bhai
 
Aparna Shastri : y BHRASHTACHAR ka dusra pehlu h
 
Devanand Yadav : नौकरी है कि गुलामी …
 
Shambhu Kumar Sinha : Hairani hui ye jankar
 
Dhirendra Pandey : बंधुआ मजदूर
 
Vikash Gupta : patrakaar par pratibahdh…………
 
Chandra Bhushan : jo bhi yuva aaj patrakarita me kasdam rakh rahe ha ve khud ko soch le .. ki hamara bhavisy thik hoga ya nahi .. tabhi koi kadam le .. yah namuna hai… abhi kitni aisi kahaniyaa roj ho rahai hai .. chamak damak par n jaye .. vichar jarur kare ..
 
Aaditya Karn : Apne log hi jab shosit kare toh…toh dusro ko kya kahna
 
Devendra Surjan : इसका अनुराग की मुस्कान पर कोई फर्क न आया होगा . वह राशि इण्डिया न्यूज ने जमा कराई होगी. यही चलन है इन दिनों.
 
Sushant Shukla : sahab indino media mein media kam aur bussiness jyada ho gaya hai

शशांक शेखर : "ye loktanra ka chautha khamba hai"……
 
Pankaj Mishra : वैसे दोनों के टोन और टेनर में कोई अंतर नही
 
Arvind Tripathi : ye vahi kaapdi hai na jisne shikhndi ki trah apni patni ke peticot men chhupkar vaar kiyaa thaa……
   
Raj Kamal : आज के जमाने में कुछ लोग "मेडिया" नहीं हैं बल्कि "भेडिया" बन चुके हैं। ऐसे लोग पत्रकार-वेश्या के नाम से पुकारे जाएँ तो बेहतर होगा। जो मीडिया इस तरह की रंगदारी को अपने समाचार में सम्मिलित करती, वो खुद ही समाचार बनी जा रही है। लेकिन बोले कौन, छपे कौन, सब के सब नंग-धडंग है अनियमितता के हमाम में।
 
शशांक शेखर : sikhandi to samne khada tha…
 
Shabnam Khan : Wakayi?
   
Devi Prasad Gupta : ये खबरों के बाजारी सौदागर हैँ
    
Raj Kamal : Arvind Tripathi….haan arvind bhayi, ye wahi shikhandi hai….jo kuchh media waalon se paisey khaakar apni patni ko aagey kar ke beyimaani aur jhuth kaa khel khelaa tha. Aisey logon ko agar aur kuchh paisa de diyaa jaaye to ye log langtaa-naach tak karne ko taiyaar ho jaayein.
     
Vikram Sharma : yashwant bhai,ye hi wo pakwan hai jo unch dukaan pe rakha hai,khair aap toh waqif hai,lekin ye purana tareeka hai inka,
 
Rishi Kumar Singh : कहां तक किस्से बटोरेंगे…ईटीवी छोड़ने वाले बहुत लोग मुकदमें झेल रहे हैं।
 
Pradeep Chandra Pandeay : जब पत्रकारिता मीडिया हो गयी तो यह दुर्दिन देखना ही है। चोर उच्चके, माफिया, धनबली, दबंग पत्रकारिता के पेशे में आ गये। आजादी के बाद से अब तक पत्रकार के वेतन, मानदेय को लेकर स्पष्ट नीति नहीं। एक पत्रकार दुनियां भर का दर्द शव्द, सांस, विश्वास से कलम, की बोर्ड, कैमरे से पिरोता है लेकिन उसका दर्द समझने को कोई तैयार नही है। चिन्ता करने की कोई बात नहीं। जिस तरह से नयी पीढी का पत्रकारिता क्षेत्र से मोह भंग हो रहा है हम रहें न रहे वह दिन जरूर आयेगा जब पत्रकार उसी तरह प्रोत्साहित किये जायेंगे जिस तरह से आज शेर संरक्षित किये जा रहे हैं। हां तब तक देर हो जायेगी।
 
    Vikram Sharma : kya hoga is desh ka
   
    Yashwant Singh : Rishi Kumar Singh सही कहा आपने. ईटीवी में भी बंधुवा मजदूरी का बांड भरवाया जाता है… इस पर कई खबरें हम लोगों ने प्रकाशित की थीं. लैटेस्ट क्या है, बताइए, उसे भी उठाते हैं…
    
    Jhulan Agrawal : YASHWANT BHAI AAJ KE PATRAKAAR PATRAKAARITA SE HAT KAR THEKEDARI AUR MANTRI ,MLA KE CHAPLUSI KAR RAHE HAI AISA KIYO HO RAHA HAI….
     
    Mehmood Ali : Wo baat bad mai… Pahle india tv ko esa contract banane se pahle ye sochlena chahiye ki, employe agar job chhode to 6 month ki salary aur company hatae to 3 month ki… Employe job contract sing karne ke baad kya apna 100% imandari se de paega? Wo work karte samay khud sochega ki is company ne mere sath bhed bhaw kia h jo shaed use hamesha yahi yaad dilaega, jab tak wo INDIA TV mai rahega…
   
    Vikram Sharma : kitne patarkar apko apne office me property dealing karte nazar ayenge,aur ap logo ye batao kya propery dealer jo karte h wo ek patrkar ko shobha deta h,par wo bhi kar rhe h ye
   
    Raj Kamal : en laggebaajon aur hanak rakhne waalon ko sahi aadmi nahi miltaa jawaab dene waala. Sahara India mein bhi khoob laggebaaji hai aur hanak bhi hai……lekin main Asst. Regional Manager jaisey senior management post par rah kar sahara ke andar apni hanak banaaye rakha, apni imaandari par aanch nahi aane di…….antatah……bahut hee unche ohde waale ko maine nanga kiya to management mulur-mulur dekhti rahi…..main samajh gaya ki yahan maugon ki jamaat hai……bas mainey ye nahi socha ki designation, company aur salary…..bas resign thok diyaa…….aaj sahara se baahar hokar bhi apni hanak banaaye huye hoon…….publicly oppose kartaa hoon….kabhi apne article se to kabhi grahaksewa.com ke through investors ke complain par apna sujhaaw dekar. bas sahi aadmi mil jaye to achchhe achchhon ki tikki sidhi ho jaati hai. haan lekin ek baat hai, tikki sojhaa karnaa hai kisi kaa to aapke andar imaandari honi chaahiye, saahas honaa chaahiye aur buddhi bhi honi chaahiye…..nahi to pachhad khaakar ke apney chitt ho jaana padtaa hai ees ladaayi mein.
 
    Dhyanendra Singh Chauhan : Ye " media " hai yahaa kuch bhi ho sakta hai .
 
    Raj Kamal : @mehmood ali…..mehmood bhayi, aap patrkaaritaa jagat se judey huye nahi hain shaayad. Isliye aisi baat kar rahe hain. ye wo sansaar hai jahan harek tarah ke durvichaar, durvyvhaar aur neech prayaas kiye jaate hain apne virodhi ke liye. Yashwant bhayi par mukadmaa tak thonk diyaa gaya, inko daraane ke liye ki ye kuchh media ka bhandaafod kar rahe the. Lekin yashwant bhayi ke himmat kaa main kaayal hoon, thoda bhi adeeg nahi huaa ye bandaa……bas ladaayi jaari rakhi…..aaj wo log sasure siyaar ki tarah maand mein ghuse huye hain aur yashwant bhayi ki sher-garzana aaj bhi facebook par gunj rahi hai. Door ke dhol badey suhaawne hote hain bhaayi, jab kaan par bajne lagega na to kahiyega ki door hataawe re, bada annas bar raha hai.
 
    Vikram Sharma : Raj Kamal bhai kai baar hum sahi hote hai,humari baat bhi sahi hoti hai,aur logo ko bhi humari baat sahi lagti hai,par wahi log jo hame sahi kehte hai wo humare sath chod dete hai kyuki unhe lagta h ki iske pange me meri job na chali jayi,warni falti ki dramabazi humne bhi nh jheli,resign muh par de kar mara
 
    Robin Singh : कृपया कोई ऐसे मेन मीडिया (चैनल या अख़बार) का नाम बताइए जो बंधुआ मजदूरी और नए पत्रकारों के शोषण से दुरी बनाये हुआ हो..?? बड़ा आभार होगा…
   
    Keshav Pandey : अगर कोई कांट्रेक्ट सामान्य कानूनों की अनदेखी कर के बनया गया है तो उसे चुनौती दी जा सकती है. बहुत सी कंपनियां अनाप-शनाप शर्तों का करार करवा लेती हैं, जिन्हें कोर्ट निरस्त कर देता है. बस, लड़ने-भिड़ने वाली बात है.
    
    Raj Kamal : Robin Singh, अरे महराज, हम तो रोज झेलते हैं यही सब। फोन आएगा की आप बहुते बढ़िया लिखते हैं, हमारे मैगजीन/अखबार के लिए लिखिए। आप फ्री में लिखते रहिये तो सम्बन्ध बहुते बढ़िया रहेगा, लेकिन अगर जे कभी खाली ई कह दिए की भाई ई महीना में थोडा दिक्कत हो गया है पईसा का, आप जरा हमारे इन्टरनेट का बिल भर दीजिये 950 रोपेया का तो देखिये अईसे भागेगा लोग जैसे की आपसे कब्बो बाते नहीं हुआ था, कौनो सम्बन्धे नहीं था। अगर पईसा मत मांगिये तो आप बहुते बढ़िया लिख रहे हैं और अगर जे पईसा मांग दिए तो आप जईसा घटिया लिखने वाला कोई नहीं है। हा हा हा हा ……ई हाल है पत्रकारिता का। अगर पत्रकार, पत्रकारिता के साथ-साथ और कौनो रोजगार न करे त भुक्खे मर जाए। पत्रकारिता का मतलब ई है की आप दिन भर खेती कीजिये, दोकान पर बयिठिये, नौकरी कीजिये और शाम में आकर के पत्रकार बनके लिखिए। कहे का मतलब ई है की पत्रकारिता को रोजगार समझे तो "गेल्लअ बेटा", रोजगार कोई और कीजिये और पत्रकारिता सुख के लिए कीजिये, तब तो परिवार चल जाएगा नहीं तो झेलिये।
 
    Meetesh Dixit : Business h bhai…..kam se kam bina btaye nikalta to nhi h…kuch chanel to salary b nhi de rhe.
 
     राजन शुक्ला : रोबिन भाई दर्द जो दिलो में है वह आप के जरिये जुबा पर आ गया …बहुत खूब
   
   Jitendra Kumar Tiwari : यह मीडिया की वर्तमान सि्थति है. जिसका दोष बाजारीकरण को जाता है. आने वाले समय में यह कंपनियां क्या-क्या करने वाली यह तो वही जाने.. भगवान इनसे बचाए दोस्तों.
    
    Robin Singh : राज भईया और राजन भईया.. अरे हमहू बहुत देखले हईं ई नौटंकी तब्बे ता कहत हईं.. और राज भईया ई बहुत अच्छा लाइन कहला की पईसा केर नाम लेते तुह्से घटिया कौनो लेखके नहीं हाहाहा..
     
    Rajendra Rao : उत्तम खेती, मध्य्म बान, निषिध चाकरी…….
     
    Yashwant Singh : ek dost ne ye msg sms kiya hai mujhe- इस मामले में अलका सक्सेना बनाम आजतक मुकदमे की नज़ीर काम आ सकती है। जब 2001 में वह आजतक छोड़कर ज़ी गई थीं तब आजतक ने एंकरों पर यह शर्त लगा रखी थी कि वो नौकरी छोड़ेंगे तो छह महीने तक किसी दूसरे चैनल पर दिख नहीं सकते। अलका सक्सेना पर कंपनी ने मुकदमा किया और उन्होंने ये मुकदमा इस बिना पर जीता कि हर शर्त दो-तरफा होनी चाहिए। अगर कंपनी उन पर ये शर्त लगा रही है तो बदले में वो उन्हें क्या दे रही है। .. ये भी बिलकुल वैसा ही मामला है। संभवतः ये फैसला सुप्रीम कोर्ट का था। बाकी डिटेल अलका जी बता सकती हैं।
     
    Him Mi : Hahahaha.. aisa bhi hota hai?
     
    Yashwant Singh : baaki, Madan Tiwary ji es maamle mei legal opinion batayen? es maamle ko yu hi nahi chhod dena chaahiye. bhadas es mudde pe stang lega aur legal case bhi karenge ham loag.
     
    Mohammad Abu Saleh : yashwant ji ! ye 3 month ya 6 month notice period hota hai aur agar aap tatkal istefa dete hai without notice serve kiye ya co. terminate karti hai without notice unko 3-6 mnth ki salary pay krni padti hai ya fir mutual understanding ho jaye to thik hai ! ye rule to har co. me hote hai isme naya aur galat kya hai ?
     
    Ankur Srivastava : Him Mi, apna TV 18 badhiya hai… ab tum to ander ka haal janti hi ho sh sh sh sh sh
 
    राजन शुक्ला : लेकिन बात बही पर अटकती न साली खबरनवीसी उगली जाये न निगली जाये ………इसका फायदा लैय जाओ लैय जाओ …
 
   Yashwant Singh : Mohammad Abu Saleh भाई, हर कंपनी और मीडिया कंपनी में फर्क होता है. दूसरे, जरूरी नहीं कि गुलामी की प्रथा शुरू हो गई हो तो हर कोई इस प्रथा को आपकी तरह सही मानने लगे. कंपनियां अगर अपने हित में इकतरफा कांट्रैक्ट कराती हैं, कांट्रैक्ट में शोषण की भावना निहित है तो वह अनैतिक है, अमानवीय है, और इसका कानूनी तरीके से विरोध किया जा सकता है. उपर मैंने अलका सक्सेना बनाम आजतक के मसले का जिक्र किया है, पढ़िए और आपसे गुजारिश है कि अपने हक, कर्तव्य, अधिकार के प्रति सचेत रहिए… वरना इस दुनिया में, धूमिल के शब्दों में, रामनामी बेचने और रंडियों की दलाली करने में बहुत फर्क नहीं है, दोनों से मुनाफा होता है, अगर विचारहीन होकर काम करें तो दोनों काम में कोई फर्क नहीं है, लेकिन आपकी चेतना ही आपको अच्छे बुरे के बीच के बारीक फर्क को पकड़ने समझने को प्रेरित करता है.
    
    Madan Tiwary : Yashwant Singh सर जी मुझे लगता है कि एकबार एग्रीमेंट देख लेना जरुरी है। जहां तक मुझे पता है , अगर आप नौकरी छोडने के पहले नोटिस दे देते हैं तथा एक समय निर्धारित कर देते है छोडने का तो कुछ भी नही देना पडेगा। वैसे भी छोडने वाले को और हटाने वाले को दोनो को बराबर का भुगतान करना होगा अगर बिना सूचना नौकरी छोडते है । नोटिस देने के बाद छोडने पे एक पैसे भुगतान की बात नहि होगी। हां एम्प्लायर अगर हटाता है तो उसे पैसा देना होगा, एक और बात सिर्फ़ अपनी मर्जी होने के ारण किसी को नही हटाया जा सका , हटाने के लिये स्ट्रांग कारण होा चाहिये और कर्मचारी को अपनी बात रखने का एक मौका मिलना चाहिये । यह नियम है ।
     
    Robin Singh : राजन भईया .. उसी खबरनवीसी को मरने के लिए तो हम जैसे लोग फेसबुक पर आते हैं.. कम से कम पहले से ही संतोष तो रहता है की मार्क जुकरबर्ग तो कुछ देने से रहा
     
    Yashwant Singh : Madan Tiwary एग्रीमेंट की कापी मंगवा रहा हूं. तभी कुछ हो पाएगा. मीडिया में गुलामी की हालत तो देखिए कि कोई इसका विरोध नहीं कर रहा. पापी पेट के लिए लोग हर तरह के समझौते स्वीकार कर मीडिया में काम कर रहे हैं और दुनिया के शोषण के विरोध में, जमाने के खराब अच्छे के बारे में जनता को लेक्चर पिला रहे हैं, पर अपने शोषण पर चुप्पी साधे हैं… हद है यार..
     
    Vimal Joshi : Pan da….Rporter b to poonji k ujarti mazdor hi h…..Seva chetra k ujarti mazdor. Aftarol…….Na kaho se dosti na kahu se bair Jaise jumlo ka sach b to inhe samjhna h…
     
    Sanjeev Singh : yah kuch is tarah hai ki patrkaar ko channel ne banaya ki chenal ko patrkar ko.
    
    Anadi Saxena Mahuaa : sir stinger ko to kuch bhi nahi milta hai
     
    Mehmood Ali : Shaed hum bhool gae ki, ye media bhi insaan ki soch ka avishkar h… Aur koi avishakar esa nahi ho sakta ki wo insano ka durvevahar kare aur janta ke samne per tikae khadha ho sake.
     
    Anadi Saxena Mahuaa : unki aawaj kon uthaega
     
    Madan Tiwary :Yashwant Singh श्रम कानूनो का सबसे ज्यादा उलंघन मीडिया के क्षेत्र मे हीं हो रहा है, लड जाइयेगा तो सभी चैनल और अखबार वालो की नानी याद आ जायेगी ।
    
    राजन शुक्ला : यसवंत जी काफी पहेले भड़ास पर आपकी कानपुर में एक जॉब के दौरान का लेख पढ़ा था जिसमे रात में किसी को फ़ोन किया फिर जाते वक़्त कुते भो/भो कर रहे थे कुछ इसी तरह का लेख था ठीक से याद नहीं …आपने हिम्मत की और जॉब को लात मार दी लेकिन सब नहीं कर सकते …………
 
    मयंक सिंह नेगी : बेहद गम्भीर दुर्भाग्य है आप का हमारा …सब का ….पैसे पैसे …सरोकारिता गयी तेल लेने …कया हमारे देश मै कोइ ऐसा इंसान नही है जिस का खुद का एक न्यूज़ एजेंसी हो ..बड़े लेवल पर ..जहा पैसे की कोइ औकात ना हो …बस सरोकारिता और सरोकारिता …सामाजिकता से अथाह प्रेम हो ………..बहुत से लोग है जो करोडो रूपये दान करते है ……इस के बदले एक न्यूज़…कहलाये ..सरोकार परक ,,,,और सामाजिक हितो की रखवाली के लिए ………..ये दान किये से बड़ा होगा
 
    Madan Tiwary : Yashwant Singh मीडिया बहुत हद तक खुद जिम्मेवार है अपने शोषण का। आजतक कोई एक ऐसा मंच नही बना पाया जिसका उपयोग अपनी लडाई लदने के लिये करे , जो भी मंच बना वह कार्पोरेट घरानो के दलाल पत्रकारो ने बनाये और उसपे काबिज है। आज हला बोल की जरुरत है । मंच छिन लेने की जरुरत है ।
   
    Amit Kumar Bajpai : bhaiya pel do inko…
    
    Raj Kamal : Anadi Saxena Mahuaa……."उनकी आवाज कौन उठाएगा" …….. अरे ये तो वही बात हो गयी की "अर्थी" कौन उठाएगा। अर्थी उसकी उठती है जो खुद उठ कर चलने वाला नहीं होता। आवाज उसकी उठायी जाती है जो गूंगा हो। यही सबसे बड़ी समस्या है, जिसके साथ जुल्म हो रहा है वो मने मने पुआ पकाए और दुसरा केहू उसके फेवर में आवाज उठावे। हा हा हा ….. अईसा मौकापरस्त लोग के &^&*^ में अगर इम्प्लायर खूंटा ठोकता है तो बढ़िया बात है, काहे की ऊ &^%^ है ही खूंटा ठोंकने के लायक। पहले अपने हक़ की लड़ाई खुद उठाईये, फिर देखिये लोग स्वतः आपके साथ होंगे। आज भी ये दुनिया हिम्मती इन्सान के साथ चलना पसंद करती है, डरपोकों के साथ नहीं। मैं भी अकेला चला था, किसी को नहीं कहा था की भाई हो तू चलोगे मेरे साथ, भाई हो तुम उठाओगे मेरा आवाज।
 
    Robin Singh : Yashwant Singh सर.. कोई बोलता क्यूँ और लड़ता क्यूँ नहीं इसके जवाब में एक कहानी सुन लीजिये.. एक दरोगा जी रहें चुलबुल पांडे.. कैसो लेन-देन कई के थानेदारी मिलल.. दरोगा जी बड़ा क्षेत्रे में चटक गईलें जनता भी उनकरा के पसंद करे लागल.. तबले कप्तान साहब के ट्रांसफर हो गईल नवा कप्तान अयीलें.. ईयते खान चुलबुल पांडे जी के थानेदारी से हटा देहलें.. अब चुलबुल पाडे जाये ते कहा जाये.. ते उनहू के पूजा-पाठ करे के पडल अब.. चुप मर के रंग से थानेदारी करत बाणे और जौन पूजा-पाठ में खर्च आईल ओके मैनेज करत बाणे… So the moral of the story is- कि अगर चुलबुल पांडे अपने हक की लड़ाई लड़ते तो उन्हें कोई न कोई इलज़ाम लगा के थानेदारी तो क्या लाइन हाज़िर भी करवा दिया जाता.. और उनकी सुनता कौन जिस अधिकारी के पास जाते उसकी ही पूजा करनी पड़ती.. तो इतना टेंशन लेने से अच्छा है न की थानेदारी संभालिये और पूजा का खर्च तो थानेदारी रही तो चार दिन में निकल आयेगा थोडा मनेजमेंट और करना पड़ेगा.. आखिर कुल मिला के हमारा भी तो उद्देश्य यही है..
 
    Raj Kamal : @madan tiwary…….मदन भाई, आपके बात से मैं पुर्णतः सहमत हूँ। मैं तो साफ़ तौर पर कहता हूँ की "शोषण उसी का होता है जो शोषण के लायक होता है।" जब इस तरह के एग्रीमेंट साईन कराये जाते हैं तो लोग इनकार क्यों नहीं करते ? उस समय पईसा देखाई देता है, सेलरी दिखाई देती है। स्वाभिमान बेच डालते हैं लोग पईसा, सेलरी, सुख के लिए। इन लोगों से तो लाख बेहतर कुम्भ मेला में का नागा-बाबा लोग हैं, आभाव में जीते हैं लेकिन स्वाभिमान से जीते हैं। भाई, एक बात साफ़ है, इस दुनिया में अगर आप सच हैं, ईमानदार हैं और नैतिक हैं तो तईयार रहिये हजार मुश्किलों से जूझने के लिए। मैं हजार मुश्किलों से झेला हूँ, लेकिन मर तो नहीं गया ? आज भी स्वाभिमान जीवित है मेरा। सीना ठोंक कर आज भी कहता हूँ की कोई शोषण कर के तो देखे मेरा। यशवंत भाई के साथ जो हुआ था वो शोषण करने वालों की पूरी जमात की करामत थी, लेकिन देखिये पट्ठा सीना तान कर और मूंह चिढा कर आज भी लिख रहा है की नहीं ? नानी मर गयी शोषण करने वालों की।
 
    Madan Tiwary : Raj Kamal सर जी चाहे कान्ट्रेक्ट हो या कोई कानून या सरकारी आदेश , उसका देश के संविधान के अनुकुल रहना एक अनिवार्य शर्त है। कभी भी दो व्यक्ति अपनी मर्जी से भी कोई इस तरह का कान्ट्रेक्ट नही कर सकते जो देश के संविधान और कानून के प्रतिकुल हो ।
 
    Dhirendra Pandey : आश्चर्य है देश में अभी भी बँधुआ मजूरी चल रही है ?
   
    Shailendra Singh : जुबां पे तलवार कलम में अंगार रखते है , ज़ेहन में जो हर वक्त अपने अखबार रखते है , आज उनका भी सौदा उनकी भी तिजारत , कौन नहीं अब दौलत के तलबगार लगते है !!
 
    Dhirendra Pandey : मैं तो ये सोंच सोंच के पगला रहा हूँ की करोड़ की तनख्वाह वाले का क्या होगा ?
   
    Ajay Singh Sikarwar : Ye midiea jagat ke liye sharmindagi bhari baat hai
 
    Rishi Kumar Singh : अब ये कहां मुमकिन है कि पत्रकारों का कोई ठोस संगठन खड़ा कर लिया जाये। उनके हित टकराते हैं। मंदी में जब छंटनी हुई थी तो लोगों को संगठन के बारे में बात करते सुना था। हालांकि कोई एसोसिएशन बना या उसने पत्रकारों के लिए संघर्ष करने की बात सोची फिलहाल तो ध्यान में नहीं आ रहा है । एक दिक्कत यह भी है, आज ऐसे पत्रकार बहुत हो गये हैं, जो आई हेट डर्टी पॉलिटिक्स में विश्वास रखते हैं।
 
    Raj Kamal : एक बात गौर करने लायक है और सतर्क रहने लायक है की कोई भी व्यक्ति नौकरी के समय भूल कर भी स्वयम का हस्ताक्षरित एवं खाली स्टैम्प पेपर न दे। साथ ही कुछ कम्पनी मांग करती है की इस तरह के स्टैम्प पेपर के साथ दो चेक भी दिया जाए हस्ताक्षर करके यानी ब्लैंक चेक ……… चौंकिए मत …….ये सिलसिला जारी है और बेधड़क जारी है। होता ये है की खाली स्टैम्प पेपर पर जो आपके द्वारा हस्ताक्षरित है, उसपर अपने मन मोताबिक शर्तें लिख दी जाती हैं। जो खाली चेक है, जिसपर आपने हस्ताक्षर कर के दिया है, उस पर रिकवरी राशि (जो भी कम्पनी चाहती है) वो भर देती है। फिर मुकदमा का खेल शुरू होता है।
 
     Vikash Mishra : बहुत खूब पत्रिकारिता , नौकरी और कांट्रेक्ट जय हो …….. तभी तो पत्रिकारिता है कहाँ, नौकरी है और उसका कांट्रेक्ट ……. जय हो पत्रिकारिता का कांट्रेक्ट करने वालों की
 
    Raj Kamal : जहाँ तक मुझे विश्वास है की अगर मज़बूरी के कारण कोई व्यक्ति किसी नियोक्ता के साथ इस तरह के शर्तों पर अपनी स्वीकृति व्यक्त भी करता है तो इसका गलत फायदा कोई नियोक्ता नहीं उठा सकता। कानून केवल कागजी शर्तों पर ही नहीं बल्कि मानवीय हितों और संवेदनाओं को देखते हुए भी फैसले सुनाता है। इसलिए बेहतर होगा की इस मामले में किसी अनुभवी वकील से वार्ता कर मामले को आगे बढ़ाया जाए। समय तो लगेगा लेकिन न्याय गलत नहीं होगा।

    Raj Kamal : @vikash mishra ji……sahi kaha aapney……shaayad aapke ees comment par ORIGINALS ko kuchh sikhne ko mil jaaye…..filhaal to freelancers aur citizel journalists ees majburi se baahar hain aur swabhimaan ke saath likh rahe hain……kuchh log to originality ke chakkar mein swabhimaan ko bechkar roti khaa rahe hain….ha ha ha…….sabkuchh contract par hai yahan tak ki ijjat aur swabhimaan bhi…..yahi kaaran hai ki majburi bataakar wo sab karne ko taiyaar hain jo anaitikta aur charitrahinta ki shreni mein aata hai……aisey original patrkaar se to behtar gali kaa kutta hai jo kam se kam bhoonktaa to hai samaaj ki rakhwaali ke liye ?
    
    Chandan Srivastava : 6 महीने की सेलरी जमा किये बिना भी इम्प्लॉय रिजाईन कर दे तो भी चैनल कुछ नही कर पायेगा. कोर्ट मे जाने पर ऐसे कॉंट्रैक्ट के लिये मजबूर करने पर उल्टा फैसला भी आ सकता है.
 
    Shravan Kumar Shukla : बाप रे.. यह तो अंगेजों के शासनकाल की याद दिला रहा है.. इन्हें ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए.. वैसे अगर यह शुरूआती सेवा शर्तों में शामिल थी तो कुछ किया भी नहीं जा सकता..! हां आगे से लोग सतर्क रहें और ऐसी किसी भी कंपनी के पिछवाड़े लात मार दें.. न जाए.. पहले से ही दलाली में टॉप है यह..यहां जालसाज़ भी एक नंबर के बैठे हुए हैं!
 
    Shravan Kumar Shukla : अलका जी से संपर्क करना पड़ेगा.. शायद वो कुछ सुझाव दे सकें. ! लेकिन आजतक जैसा यहां बोंड नहीं था कि कहीं काम नहीं कर सकते .. इस दिशा में भी ध्यान देने की जरूरत है .. ((((Yashwant Singh ek dost ne ye msg sms kiya hai mujhe- इस मामले में अलका सक्सेना बनाम आजतक मुकदमे की नज़ीर काम आ सकती है। जब 2001 में वह आजतक छोड़कर ज़ी गई थीं तब आजतक ने एंकरों पर यह शर्त लगा रखी थी कि वो नौकरी छोड़ेंगे तो छह महीने तक किसी दूसरे चैनल पर दिख नहीं सकते। अलका सक्सेना पर कंपनी ने मुकदमा किया और उन्होंने ये मुकदमा इस बिना पर जीता कि हर शर्त दो-तरफा होनी चाहिए। अगर कंपनी उन पर ये शर्त लगा रही है तो बदले में वो उन्हें क्या दे रही है। .. ये भी बिलकुल वैसा ही मामला है। संभवतः ये फैसला सुप्रीम कोर्ट का था। बाकी डिटेल अलका जी बता सकती हैं।))
 
    Sushma Kumari : bas….yahi media hai ji……….:):):)
 
    Rohit Pant : gulami humaarer khoon main hai ,kahaan taq bachoogee
     
    Yashwant Singh : आप सभी लोगों को फीडबैक और कमेंट के लिए धन्यवाद. अगर कोई इंडिया टीवी के कांट्रैक्ट की कापी उपलब्ध कराने में मदद करे तो बड़ी मेहरबानी होगी. yashwant@bhadas4media.com
    
    Sushil Gangwar : private job hi gulami hai mere bhai ..
     
    Ansh Dwivedi : kai aur channel aisa hee kar rahe…..for eg – tv9
     
    Sneha Mishra : kafi uljalool contracts ke khilaf awaz uthani chahiye
     
    Yashwant Singh : Ansh Dwivedi give detail frnd. what is nature of contract of tv9?
     
    Ansh Dwivedi : tv9 bangalore mein ek frnd tha……….unse bond sign karaya gya…….3 saal se pehle agar job chodi toh 3 lakh rs. ya 6 mahine bina salary kaam karna hoga……job chodne par usse ek dhamki bhara notice bhi agya hai……
     
    Rahuldev Dev : Anna hazare, Aur Arvind Kejriwal Aise logo ke khilaf andolan kren
     
    Vikash Mishra : "बहुत महीन है मीडिया का मुलाजिम भी , खुद खबर है पर दूसरों की लिखता है" ………. यशवंत भैया हमारे यहाँ एक कहावत कहते है " दूध मलाई भौजी खय्ये तो गाँ D मरान देवर जय्यें " …….. ऐसे बधियों के बंधुआ मजदूरों का कोई इलाज नहीं है ये मलाई का कटोरा जब भी देख्नेगे तब पिछाड़ी खोल कर लेट जायेंगे l
     
    Susil Tivari : ये नौकरी नही बन्धुआ मजदूरी है .नीचे वाले पत्र्कार क्या कह्लाते होंगे पता नही
     
    Shailendra Singh Yadav : yashwant ji ye sirf india tv ka hee mamla nahi hai ye kahani to har ek news channel ki hai
     
    संदीप द्विवेदी : दुनिया को अपना हक मांगने का पाठ पढ़ाने वाले अपने हक के लिए कब लड़ेंगे?
     
   Neeraj Karan Singh : ये गुलाम लोकतन्त्र की गुलाम मीडिया है।… और फिर भी हम इस पर वर्ग करते हैं। कोई भी आगे नहीं आना चाहता। ये सभी को पता है एक दिन गाज सब पर गिरेगी लेकिन फिर भी मौन हैं।
     
    Alok Ratn Upadhyay : दूसरों के शोषण के खिलाफ़ आवाज़ उठाने वाला पत्रकार खुद कितना शोषित है ये कोई नहीं जानता….
 
    Pradeep Dey : कहते है या ऐसा कहा जाता है कि मिडिया लोकतन्त्र का चौथा स्तम्भ है | न्यायपालिका को छोडकर शेष स्तम्भ इस देश पर शासन करते है, तो ऐसे शोषण होना बहुत आम बात है, वैसे भी उदारीकरण के अन्तर्गत मिडिया एक इन्डस्ट्री के समान है या कहा जाए आज कल जिस तरह मिडिया का रवैया है Now media (maximum News channel & print media) is an broker-agent between कार्यपालिका & आम जनता |
 
    Mamta Sharma : media gulami,tension aur shoshad ki job ho ghai hai yaha mehnat karne walo ko nahi dhurrt aur chatookaro ko promotion milta hai…
     
    Sudha Aditya Upadhyay : शोषण के खिलाफ जनता की आवाज के साथ आपनी आवाज मिलाकर चलने का दावा करने वाले चैनल की ये हालत है तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि समाज का आइना कहा जानेवाला वर्ग ..पत्रकार कितना शोषीत है…बाहर से तड़क भड़क की ये दुनिया अंदर से कितनी विरान है…खोखली है
 
    Raees Ahmad Siddique : Ye Rastey b hamne hi dikhaye he corporate gharano ki gulam media ko…. ab ye haay pukar kyun????????
 
Kamlesh Matheni : बड़ा पत्रकार छोटे पत्रकार का दुश्मन, फिर कोई उस बड़े पत्रकार का दुश्मन, बस चलता रहता है। हम पत्रकार हैं तो कर्मचारी भी हैं और शोषित होना तो हमारा कर्तव्य बन गया है। एकजुट हुये बिना कोई हल निकलने वाला नहीं है। लेकिन एकजुटता भी तभी सामने आती है जब किसी उच्च पदस्थ व्यक्ति के हितों को चोट लगती है।
   
Yogesh Sharma : Now where is Mr.Katju hiding.
    
Dhruv Rautela : wo aadmi kabhi kisi ki madad nahi karte even uttarakhand ki bhi nahi ..usme bhi jaati dekhte hai..yadi thakur hua to fir…

Pankaj Praveen : pagal hi join krte honge es channel ko
 
Manish Sachan : हर जगह का यही हाल है,
 
Manish Sachan : नहीं पंकज जी जाते तो ठीक ठाक लोग ही हैं, हां निकलने पर पागल ही हो जाते हैं
 
Bhupendra Sharma Sonu : यशवंत सिंह जी आपकी बात सौ फीसदी सही है, मगर मैं आपको बता दूँ कि हमारे एक सहयोगी मलखान सिंह, जो दैनिक जागरण धामपुर में रिपोर्टर हुआ करते थे, उनकी मौत उनके नए मकान के निर्माण के समय छत से गिरकर हो गयी, जब उनकी मौत का समाचार दैनिक जागरण के हेड ऑफिस को मिला तो उन्होंने उनके सारे रिकॉर्ड ख़त्म कर दिए! ताकि कोई ये क्लेम न कर सके कि उक्त व्यक्ति दैनिक जागरण से जुड़ा हुआ भी था, फिर ये तो आम बात है कि इंडिया टीवी के एंकर अनुराग मुस्कान को इंडिया टीवी छोड़ने भी नहीं दिया जा रहा है, आज यदि नौकरी करनी है तो गुलामी करनी ही पड़ेगी, मैं आपको बता दूँ कि मैं भी कुछ इसी मज़बूरी का सामना कर रहा हूँ
 
Dhirendra Giri : dukhad h… aisa haal h to OMG…!!
 
Er Ganesh Jee Bagi : नौकरी करने वाले को कुछ संस्थान नौकर (बंधुआ) समझने लगते हैं ।
 
Sanjay Mishra : media vimarsh men patrkaaron ka shoshan kab vishay banega?
 
Lochan Singh : ना पत्र है ना कार है बोतल से सारोकार है जिसकी सरकार है उसी का पत्रकार है इसे झूठा साबीत करो तो ये सब ठीक हो जायेगा

Chandan Kumar Singh : अरे यशवंत जी, कम से कम तीन महीने की सैलरी तो देता है निकालते हुए…
 
Amit Gandhi : क्या बोले भाई हम ….गाली निकलता है …..कभी हम भी गुलाम हुआ करते है ….एक पर एक एम …….टाईप लोग है ……
 
Yashwant Singh : Amit Gandhi क्या कांट्रैक्ट लेटर की कापी मुहैया करा सकते हैं? हम लोग इस पर लीगल प्रोसीजर शुरू करना चाहते हैं. मेरी मेल आईडी है yashwant@bhadas4media.com
 
Mughees Choudhry : kya ho gya hai india ko, kya ye phir se ghulam ban jaega apne hi logo ka,
 
Asif Khan : supreme court me PIL daal dijiye kapdi vapdi ko bulavd aajayega.. mool adhikar ka ullanghan hai ye..
 
Priyanka Hemnani : sareaam dadagiri h
 
Thakur Satish : Adhikansh aisa he hota hai….Reporter hamesa janta ki aawaj ko uthata hai jab khud par van aati to aawaj band ho jati hai….
 
Vishal Singh : India tv most bakwaas news chanel… India naam ki insult karta hai.. Bekar k news ye media nai corporate ho gaya hai… Jise patrkaar nai marketing manager chahiye hote hain..
 
Amit Kumar Srivastav : This is almost similar condition to all news channel. Salary delay for almost six months is normal. These news channel have downgraded the quality journalism.
 
Robin Rastogi : ye to dheek hai pr intrn ka haal pucha hai kbhi?
 
Sarvesh Pathak : Bhaiya ab to aise hi patrakarita ka bhoot utara jaega.

भड़ास4मीडिया के संपादक यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *