इलाहाबाद में विकास, अरुणाभ व विनीत ने ज्वाइन किया आई-नेक्स्ट, शशिकांत पहुंचे कैनविज टाइम्स, सात और इधर से उधर

इलाहाबाद में इस समय नौजवान पत्रकारों में भगदड़ मची हुई है। हाल ही में 10 ने संस्थान बदलकर नई जगह ज्वाइन कर लिया। इनमें ज्यादातर ऐसे नवयुवक खबरनवीस शामिल हैं, जिनके बारे में कहा जा सकता है कि उनकी पत्रकारिता की ट्रेनिंग अभी-अभी पूरी हुई है और वे अब मैदान में है, कलमबाजी का करतब दिखाने के लिए। इनमें पांच लड़के ऐसे हैं, जो अनुभवी, अनुशासनप्रिय व कलम के धनी संपादक डेली न्यूज एक्टिविस्ट के जेपी सिंह की पाठशाला से निकले हैं।

इनमें विकास गुप्ता, जो अभी तक ‘डेली न्यूज एक्टिविस्ट’ में थे, ने ‘आई-नेक्स्ट’ ज्वाइन कर लिया है। विकास ने पत्रकारिता की शुरूआत ‘युनाइटेड भारत’ से शुरू की थी। यहां से वह अमृत प्रभात गए, जहां पर कई एक चर्चित खबरें ब्रेक कर उन्होंने इलाहाबाद की पत्रकारिता में अपनी जोरदार उपस्थिति दर्ज करायी। इसके बाद उन्हें डेली न्यूज एक्टिविस्ट के संपादक जेपी सिंह ने अपने यहां बुला लिया था। जहां पर वह अपनी कलम में धार देने के अलावा पत्रकारिता के वे तमाम ‘गुरु’ सीखे, जिसकी बदौलत नौकरी और धमक दोनों बची रहती है।

‘डेली न्यूज एक्टिविस्ट’ के स्टार रिपोर्टर शशिकांत सिंह ने ‘कैनविज टाइम्स’ इलाहाबाद में चीफ रिपोर्टर के पद पर ज्वाइन किया है। शशिकांत ने पिछले साल हिन्दुस्तान बदायूं ज्वाइन कर लिया था, जहां हिन्दुस्तान प्रबंधन ने उनके साथ चीटिंग की। महीनों काम कराने के बाद न तो ज्वाइनिंग लेटर दिया और न ही पेमेंट। बाद में वह वहां से हताश होकर पुनः ‘डेली न्यूज एक्टिविस्ट’ लौट आए थे। शशिकांत सिंह की गिनती बेहद कर्मठ व ईमानदार पत्रकार के रूप में होती है।

‘डेली न्यूज एक्टिविस्ट’ के ही पत्रकार परवेज कैनविज टाइम्स तो नागेन्द्र अब जनसंदेश टाइम्स पहुंच गये हैं। वहीं आई-नेक्स्ट में बतौर स्टाफ रिपोर्टर कार्यरत रहे अजीत शुक्ला ने रीवां मध्यप्रदेश में राजस्थान पत्रिका ज्वाइन किया है। जनसंदेश टाइम्स में डेस्क पर कार्यरत अरुणाभ मिश्र ने भी आई-नेक्स्ट ज्वाइन कर लिया है। जबकि आई-नेक्स्ट से राजस्थान पत्रिका उज्जैन पहुंचे विनीत तिवारी एक बार फिर आई-नेक्स्ट इलाहाबाद लौट आए हैं। अमृत प्रभात के रिपोर्टर दिलीप पटेल ने राजस्थान पत्रिका रीवां तो अशोक शुक्ला ने जन संदेश टाइम्स इलाहाबाद छोड़कर शहडोल मध्यप्रदेश में राजस्थान पत्रिका ज्वाइन कर लिया है।

इलाहाबाद से राजीव चन्देल की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *