उत्तराखंड में पुलिस ने किया धरा-उठाई का खेल शुरू

उत्तराखंड की पुलिस को मित्र पुलिस कहा जाता है, लेकिन राज्य की राजधानी में पुलिस चोरी और सीना जोरी पर उतर आई है। जी हां यहां पुलिस पहले तो रात में लोगों को दोपहिया वाहन चुपके से उठा ले जाती है और फिर बाद में लोगों से पैसे भी ऐंठती है.
मामला है देहरादून की कोतवाली का जहां पुलिस के जवान रात में गश्त के दौरान लोगों के 2 पहिया वाहन चुपचाप उठा ले जाते हैं और फिर पैसे का लेन देन करके उसे लौटाते हैं या फिर कहीं और जगह उसे बरामद कराकर अपनी पीठ थपथपाते हैं.
क्या है मामला-
मामला कोतवाली से मात्र 10 से 15 कदम की दूरी का है. जहां पर अक्सर लोग रात को अपने आहते में अपनी गाड़ियों को पिछले 30 – 40 सालों से रखते चले आ रहे हैं. लेकिन बीती रात जब 4 गाड़ियां गायब हुो गयी तो वहां रहने वाले स्थानिय लोगों ने कैम्पस की सीसीटीवी फुटेज खंगाले जिसके बाद पुलिस की इस करतूत का खुलासा हुआ और पता चला कि पुलिस के जवान ही गाड़ियों को ले गए हैं. जब इस मामले की शिकायत पीड़ित लोगों ने कोतवाली थाने के इंस्पेक्टर महोदय से की तो वो अपने दल बल के साथ पहुंचे और पीड़ितों को ही धमकाने लगे लेकिन इंसपेक्टर साहब ने मामले को तूल पकड़ता देख सिपाहियों को गलत तो ठहराया पर लोगों को मामले को आगे बढ़ाने पर भविष्य में किसी तरह की एफआईआर न लिखने तक की धमकी दे डाली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *