ऐसा क्या बोल दिया कि रायपुर से भगा दिए गए डा. कुमार विश्वास?

Pankaj Jha : कुमार विश्वास की बड़ी बेईज्ज़ती हुई रायपुर में भाई. अब इन लोगों को अपने बड़बोलेपन के लिए जगह-जगह कहीं पिट न जाना पड़े. Dr. Kumar Vishwas एक कवि सम्मलेन में भाग लेने रायपुर आये थे. शहर की कई संस्थाओं ने उनके सम्मान में कार्यक्रम का आयोजन किया था. तब-तक उन्होंने बिना किसी प्रमाण या बात के प्रदेश के बारे में बोल दिया. उसके बाद उन्हें दुत्कारते हुए सभी संस्थाओं ने भर्त्सना की और सभी सम्मान समारोह रद्द कर दिया गया. भागे बेचारे.

Pankaj Gupta : Tulsidas ne kaha ki kaliyug mai sajjan log hi apmanit hoge

Shravan Kumar Shukla : hahaha … lekin main viswash ji ke sath dil se khada hu.. Kavi vishwas ke sath.. Rajneta viswas ke sath nahi

रजनीश के झा : यहाँ सच बोलना मना है 

Pankaj Jha : यहां भी वही समस्या हो गयी बेचारे के साथ Shravan Kumar जी. बेचारे निकले थे हरि भजन को लेकिन ओटन लगे कपास. तो फिर रायपुर की तासीर थोड़ी अलग है. ज़रूरत से ज्यादा सम्मान करना यह शहर जानता है लेकिन आपसे भी तमीज में रहने की अपेक्षा करता है. बेचारे.

Shravan Kumar Shukla : Pankaj Jha ji… manta hu..lekin is tarah se beijjati nahi karni chahiye thi.. aakhir rajneta bad me bane hain..mudde bhi unke sahi hain.. lekin yeh sab jis bayaan par hua..us bayaan ko jaane bagair main kya kahoon? unka bayaan uplabdh karaya jaae guru..fir dekhte hain .. virodh karna hai ya nahi? Wait & Watch …! 

Saurabh Tripathi : हा हा हा ….क्या बात है …जियो रायपुर… कुमार विश्वास से मैंने एक बार उनके वाल पर सवाल पूछा था कि IAC के लोगों के खिलाफ जो भ्रष्टाचार के आरोप हैं उनकी जांच के लिए अरविन्द केजरीवाल ने जो तथाकथित आन्तरिक लोकपाल बनाया है वो सही जांच करेगा इसकी क्या गारंटी है ?….बस इसी सवाल पर उन्होंने मुझे ब्लाक कर दिया था …और आज रायपुर वालों ने उन्हें ही ब्लाक कर दिया …जय जय

Pankaj Jha : कोई ऐसी भी बेईज्ज़ती नहीं हुई है Shravan जी. छत्तीसगढ़ के लोग दुनिया के सबसे अच्छे इंसान हैं. बस विश्वास के सारे सम्मान समारोह रद्द कर दिए गए और आधारहीन आरोप लगाने के लिए थोड़ा बहुत निंदा-भर्त्सना आदि. शेष कुछ खास नहीं. हां, किसी अन्य राज्य में होते तो लप्पड़-थप्पड़ की गुंजाइश बन सकती थी. उन्हें आगे से मेजबानों को इज्ज़त देने की तमीज सीखना होगा थोड़ा.

Pankaj Jha ठीक कह रहे हैं Saurabh भाई. बड़े असहिष्णु लोग हैं ये. तुकबंदी ही करके अपनी रोजी चलाते ये वही अच्छा था इनके लिए. आखिर विदूषकों की भी एक जगह तो है ही समाज में. लेकिन राजनीति एक गंभीर क्षेत्र है. एक लालू के मसखरेपन से ही राजनीति परेशान है. यहां और गुंजाइश नहीं है.

Saurabh Tripathi : ..तुकबन्दियाँ भी दो कौड़ी की ……केवल इंजीनियरिंग कालेजों के सड़क छाप मजनूओं के लायक

Shreekumar Menon Gudhiyari यही तो आप लोग करते हो पंकज जी, कांग्रेस के विरुद्ध कोई बोलता है तो उसके लिए ताली बजाते है और फिर वही जब भाजपा के विरोध में बोलते है तो उसके साथ मारपीट तक करने की बात कर देते हैं… लगता है की रमण सरकार के 5 मंत्रियो के भ्रष्टाचार के सबूत सामने लाने के की गई घोषणा से चिंतित आर नाराज हैं आप लोग..


भाजपा की पत्रिका से जुड़े पंकज झा के फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *