कांग्रेसी-भाजपाई जब बलात्कारी और रिश्वतखोर साबित हुए तब अराजकता नहीं फैली!

Aj Singh Anna : संसद में हमारे सांसद ब्लू फिल्म देखते हुए पकडे गये, अराजकता नहीं फैली! संसद में सांसदों ने रिश्वतखोरी के नोटों के बंडल लहराए मगर अराजकता नहीं फैली! कांग्रेस का नेता नारायण दत्त तिवारी तीन-तीन वेश्याओ के साथ पकड़ा गया, वो अराजकता नहीं थी! अभिषेक मनु सिंघवी ऐसे ही कारनामे में लिप्त था, तब भी अराजकता नहीं फैली! भवरी देवी केस में मदेरणा हत्यारा, बलात्कारी पाया गया, तभी अराजकता का प्रश्न नहीं आया!

भाजपा के राघव जी अपने नौकर से ही सम्बन्ध बनाते पकड़े गये मगर भाजपा ने उसे भी 'अनैतिक-राष्ट्रवादी' मान लिया, अराजकता नहीं फैली! फूलन देवी डाकू सांसद और राबड़ी देवी जैसे अंगूठाछाप मुख्यमत्री बन गईं, मगर अराजकता नहीं फैली! राजा भइया, मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद, लालू यादव, मुलायम यादव जैसे चोर, गुंडे, घोटालेबाज़ सांसद बन गये मगर अराजकता तब भी नहीं फैली… यदुरप्पा, निशख, कलमाड़ी, कनोमोज़ी ने हजारो करोड़ का घोटाला करके देश पर महंगाई थोप दी, दिल्ली पुलिस ने बाबा रामदेव को सन्यासी से शलवार कुरता पहन कर दम दबाकर भागने पर मजबूर कर दिया लेकिन अराजकता थी की फैलने का नाम ही नहीं ले रही थी!

दिल्ली पुलिस रेडी वालों से लेकर रेड लाइट के दलालों तक से पैसा खाने में इमानदारी से लगी है मगर कमबख्त अराजकता नहीं फैली इसलिए दोस्तों… यकीन कीजिये… भ्रष्ट, निकम्मी, रिश्वतखोर पुलिस और राजनीती को ठीक करने में अरविन्द ने जो हिम्मत दिखाई है, उससे भी अराजकता नहीं फैलेगी.. अरविन्द ने कहा था, राजनीति अगर कीचड़ है तो इस कीचड़ में उतरना ही पड़ेगा…हाँ.. भाजपाइयों और कांग्रेसी के लिए ये अराजकता ज़रूर है… अब इसका एक ही इलाज है… पानी पीकर अरविन्द को गालियां और डिस्प्रिन की 2-2 सुबह-शाम गोलियाँ…..

एजे सिंह अन्ना के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *