Connect with us

Hi, what are you looking for?

No. 1 Indian Media News PortalNo. 1 Indian Media News Portal

सुख-दुख...

कानपुर मेडिकल कॉलेज में पुलिस बर्बरता और कनपुरिया मीडिया का सच

एक मार्च को दैनिक हिंदुस्तान में खबर पढ़ कर मुझे पता चला कि कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी स्मारक मेडिकल कॉलेज के छात्रों और वहाँ के सपा विधायक इरफ़ान सोलंकी के बीच संघर्ष हो गया है। अखबार ने लिखा है कि विधायक हैलट अस्पताल के सामने मेडिकल स्टोर पर खड़े थे. सामने मेडिकल छात्रों ने एक वृद्ध को बाइक से टक्कर मार दी, उसने कुछ कहा तो वे उसे पीटने लगे. विधायक ने उन्हें समझाने के लिए अपना गनर भेजा तो उससे भी भिड़ गए. विधायक खुद पहुंचे तो उनके गाल पर थप्पड़ मार दिया. गनर ने गन तानी तो लड़कों ने विधायक के सिर पर पत्थर मार दिया और भारी पथराव कर दिया. विधायक का सिर फट गया और वे अपने साथियों के साथ जान बचा कर भाग आए.

एक मार्च को दैनिक हिंदुस्तान में खबर पढ़ कर मुझे पता चला कि कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी स्मारक मेडिकल कॉलेज के छात्रों और वहाँ के सपा विधायक इरफ़ान सोलंकी के बीच संघर्ष हो गया है। अखबार ने लिखा है कि विधायक हैलट अस्पताल के सामने मेडिकल स्टोर पर खड़े थे. सामने मेडिकल छात्रों ने एक वृद्ध को बाइक से टक्कर मार दी, उसने कुछ कहा तो वे उसे पीटने लगे. विधायक ने उन्हें समझाने के लिए अपना गनर भेजा तो उससे भी भिड़ गए. विधायक खुद पहुंचे तो उनके गाल पर थप्पड़ मार दिया. गनर ने गन तानी तो लड़कों ने विधायक के सिर पर पत्थर मार दिया और भारी पथराव कर दिया. विधायक का सिर फट गया और वे अपने साथियों के साथ जान बचा कर भाग आए.

बाद में सपाई वहाँ आए और उन्होंने मेडिकल स्टोर में तोड़ फोड़ कर दी. अखबार ने दूसरे दिन खबर छापी है कि विधायक के साथ हुई झड़प में एक मेडिकल छात्र की मौत के बाद प्रदेश में डॉक्टरों की हड़ताल से मचा हाहाकार. आगरा, झांसी, कानपुर, इलाहाबाद में सभी तरह की स्वास्थ्य सेवाओं के ठप होने की बात लिखी है. यह खबर भी केवल सनसनी पैदा करने वाली है. कानपुर में मेरे जो भी संपर्क थे मैंने उनसे जानकारी ली. पता चला कि हैलट अस्पताल के सामने विधायक इरफ़ान सोलंकी खड़े थे. किसी ने अचानक अंदर से कार का दरवाज़ा खोला जिससे बाइक से आ रहे मेडिकल के छात्र टकरा गए. इसी को लेकर कहासुनी हो गई. बाद में एसएसपी यशस्वी यादव ने फ़ोर्स लाकर मेडिकल होस्टलों में बर्बरतापूर्ण कार्रवाई की.

अखबारों की खबरों से भी पता चलता है कि पुलिस ने एसएसपी यशस्वी यादव की अगुआई में मेडिकल छात्रों पर बर्बरता पूर्वक होस्टलों में घुसकर लाठी चार्ज किया है. चालीस से अधिक लड़के चोटिल हुए हैं, छः लड़कों के फ्रैक्चर है, एक लड़के की मौत हो गई और एक लड़का मेदांता हॉस्पिटल के आईसीयू में भर्ती है. पुलिस ने न सिर्फ मेडिकल छात्रों पर हॉस्टल में घुसकर लाठीचार्ज किया बल्कि मीडिया कर्मियों के कैमरे तोड़ दिए और उनपर भी लाठी चार्ज किया है. कई पत्रकारों को गंभीर चोटें आई हैं. नूतन ठाकुर जो खुद आईपीएस की पत्नी हैं और जनहित के मुद्दों पर अक्सर याचिकाएं दायर करती रहती हैं, उन्होंने मेडिकल कॉलेज की स्थिति का जायजा लेने के बाद एसएसपी यशस्वी यादव की बर्बरतापूर्ण कार्रवाई के विरुद्ध मानवाधिकार अध्यक्ष को लिखा है. इसके बावजूद दैनिक हिंदुस्तान जैसे अखबार जैसे विधायक द्वारा बना कर दी गई रिपोर्ट को ही प्रकाशित कर रहे हैं और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने पूरी घटना को ही बाइपास कर दिया तो वजह समझ में आती है.

आप दो मार्च के हिंदुस्तान अखबार को देखेंगे पहले दो और अंतिम दो यानी पूरे चार पृष्ठ का विज्ञापन उत्तर प्रदेश सरकार का छपा है. चुनाव का समय है और पेड मीडिया के इस दौर में कोई मीडिया घराना क्यों सत्ता पक्ष के विरुद्ध जाएगा. भले ही सत्ता पत्रकारों के सिर फोड़ डाले. आखिर वे एक तरह के मज़दूर ही हैं और उनकी जान की कीमत मीडिया मालिकों के आर्थिक हितों के आगे बहुत मामूली है.

उत्तर प्रदेश में गुंडागर्दी सारी हदें पार कर चुकी है. नेता कुछ भी करने के लिए स्वतन्त्र हैं. एसएसपी यशस्वी यादव ने यह सिद्ध कर दिया कि सत्ता का वरदहस्त उनके ऊपर हो तो उनके जैसे अफसर हिटलर और मुसोलिनी को भी पीछे छोड़ सकते हैं. इन्हीं इरफ़ान सोलंकी विधायक ने १६ जून को आईएएस अधिकारी रितु माहेश्वरी के ऑफिस में घुस कर गुंडागर्दी की जिसकी उन्होंने रिपोर्ट लिखाई और १७ जून को उन्हें अरेस्ट किया गया. इस खबर की वीडियो क्लिप इंडिया टीवी पर पड़ी है. कुछ महीने पहले ही रामपुर में एक चिकित्सक की सरकारी गुंडों ने पिटाई की. उनका कहना था कि वह प्राइवेट प्रैक्टिस करता था. यह बात सुनने में अच्छी लगेगी कि नेता यह तो अच्छा काम ही कर रहे हैं डॉक्टरों को पीट-पीट कर प्राइवेट प्रैक्टिस रोक रहे हैं.

डॉक्टरों का कहना है कि यह सब पुरानी खुन्नस की वजह से हुआ. दरअस्ल उत्तर प्रदेश की सरकारी स्वास्थ्य व्यवस्था उससे भी कहीं बदतर है जैसी हम सोचते हैं. लेकिन शासन व्यवस्था का उद्देश्य उसे सुधारना नहीं है बल्कि वह उसे ऐसा ही बनाए रखना चाहती है और उसी के प्रयासों से वह इस स्थिति में है. अगर वह उसे सुधारना चाहती तो गुंडों की तरह मारपीट करने के बजाय वह न सिर्फ उस चिकित्सक पर कार्रवाई करती बल्कि प्रदेश में जितने भी सरकारी चिकित्सक प्राइवेट प्रैक्टिस करते हैं उन पर कार्रवाई करती. दस-बारह जनवरी के आसपास फिरोजावाद के ज़िला अस्पताल में इमरजेंसी में तैनात चिकित्साधिकारी को बिना किसी वजह के एक स्थानीय नेता ने पीटा. बात यह थी कि कुछ लोग आधी रात को शव लेकर आए और वे रात को ही उसका पोस्टमॉर्टम कराना चाहते थे.


इसे भी पढ़ें-देखें..

कानपुर कांड : दो जरूरी वीडियो और कुछ अहम तस्वीरें, ताकि सनद रहे


शाम पांच बजे के बाद पोस्टमॉर्टम करना नियम के विरुद्ध है यानी पोस्टमॉर्टम दिन की अच्छी रौशनी में ही किया जाता है. कुछ विशेष परिस्थितियों में जिलाधिकारी की अनुमति पर रात को पोस्टमॉर्टम किया जा सकता है. इस पोस्टमॉर्टम के साथ ऐसी कोई विशेष परिस्थिति नहीं थी पर वे लोग अपने राजनीतिक दबाव से ज़िलाधिकारी से अनुमति ले आए. रात में डॉक्टर को कॉल किया. डॉक्टर को आने में थोड़ा विलम्ब हुआ तो नेताजी ने इमरजेंसी में काम कर रहे डॉक्टर को पीट दिया. ये कुछ उदहारण मात्र हैं उत्तर प्रदेश की क़ानून व्यवस्था के.

ये छात्र कानपुर मेडिकल कॉलेज में मेडिकल की पढ़ाई करने आए हैं. विधायक के रुतबे के लिए एसएसपी ने न सिर्फ उनके साथ बर्बरता की है बल्कि प्रोफेसरों के साथ भी मारपीट की है. तमाम छात्रों पर फर्जी मुक़द्दमे लगाकर उन्हें बंद कर रखा है. डॉक्टर्स के सभी संगठनों को इन बच्चों की मदद के लिए आगे आना चाहिए.

Advertisement. Scroll to continue reading.

बर्बरता के प्रमाण के लिए नीचे दिए गए दो वीडियो देखें.. क्लिक करें…

https://www.youtube.com/watch?v=TcBU4tCME4o

xxx

https://www.youtube.com/watch?v=oTagHWYLWWU

लेखक डा. रामप्रकाश अनंत मेडिकल प्रैक्टिशनर हैं और भड़ास के रेगुलर रीडर हैं. कानपुर कांड को लेकर अगर आप भी कुछ कहना, बताना चाहते हैं तो भड़ास के पास [email protected] पर मेल कर दें.


संबंधित खबरें…

कानपुर में पत्रकारों को पीटे जाने के खिलाफ चंदौली में पत्रकारों ने निकाला जुलूस

xxx

मीडियाकर्मियों-डाक्टरों को पीटने वाले कानपुर के एसएसपी यशस्वी यादव को निलंबित करो : सिद्धार्थ कलहंस

xxx

कानपुर कांड को लेकर एमसीआई और पीसीआई को भेजे गए पत्र में नूतन ठाकुर ने क्या-क्या लिखा है, यहां पढ़ें

xxx

Advertisement. Scroll to continue reading.

डॉक्टरों की पीठ तोड़ सबक सिखाने जैसी बात कह एसएसपी यशस्वी यादव पुलिसवालों को उकसा रहे थे (पढ़ें पूरा पत्र)

xxx

कानपुर कांड के लिए एसएसपी यशस्वी यादव जिम्मेदार, कार्यवाही की मांग

xxx

आईपीएस यशस्वी यादव के 'यश' से कानपुर को मुक्त कराएं : संजय शर्मा

xxx

यूपी सरकार के लिए बेइज्जती का कारण बने अखिलेश के पसंदीदा आईपीएस यशस्वी यादव

xxx

कानपुर में सरकारी गुंडा बनी पुलिस, डाक्‍टरों के बाद मीडियाकर्मियों पर तोड़ी लाठियां

xxx

कानपुर में कई मीडियाकर्मियों का कैमरा टूटा और कइयों की हड्डियां…

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

… अपनी भड़ास [email protected] पर मेल करें … भड़ास को चंदा देकर इसके संचालन में मदद करने के लिए यहां पढ़ें-  Donate Bhadasमोबाइल पर भड़ासी खबरें पाने के लिए प्ले स्टोर से Telegram एप्प इंस्टाल करने के बाद यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia 

Advertisement

You May Also Like

विविध

Arvind Kumar Singh : सुल्ताना डाकू…बीती सदी के शुरूआती सालों का देश का सबसे खतरनाक डाकू, जिससे अंग्रेजी सरकार हिल गयी थी…

सुख-दुख...

Shambhunath Shukla : सोनी टीवी पर कल से शुरू हुए भारत के वीर पुत्र महाराणा प्रताप के संदर्भ में फेसबुक पर खूब हंगामा मचा।...

प्रिंट-टीवी...

सुप्रीम कोर्ट ने वेबसाइटों और सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट को 36 घंटे के भीतर हटाने के मामले में केंद्र की ओर से बनाए...

विविध

: काशी की नामचीन डाक्टर की दिल दहला देने वाली शैतानी करतूत : पिछले दिनों 17 जून की शाम टीवी चैनल IBN7 पर सिटिजन...

Advertisement