कापड़ी ने माना यशवंत ने नहीं मांगी थी रंगदारी, उधार मांगा था

यशवंत अगर दलाल या रंगदारी मांगने वाला शातिर गुंडा है, तो उसका तो फैसला अब अदालत ही करेगी। लेकिन इतना तो हो ही गया है कि कापड़ी-चौकड़ी में रंगदारी देने-लेने वालों की तादात खासी है। न्‍यूज चैनल और पोर्टल के नाम पर चल रहे गंदा धंधा के खुलासे से अब एक नया हंगामा उठ गया है जब सी-न्यूज नाम के एक न्यूज चैनल के दिल्ली़ के ब्यूरो प्रमुख ने विनोद कापड़ी का इंटरव्यू किया था। तीन दिन पहले ही। लेकिन इस इंटरव्‍यू के बाद से कापड़ी के सिर मानो जैसे आसमान ही फटने लगा। जैसे ही इस पर कापड़ी के कदमों के नीचे जमीन खिसकी, इस शातिरनुमा पत्रकार ने इस इंटरव्यू के फुटेज को यू-ट्यूब पर से हटा दिया। खबर है कि पहले इस फुटेज को अपलोड और फिर उसे रिमूव करने की इस पूरी कवायद में खासी रकम दिया और लिया गया है।

भड़ास4मीडिया के संपादक यशवंत सिंह भले ही पिछले चार दिनों से जेल में बिना दारू-बिरयानी के तरस हो रहे हों, लेकिन यशवंत के नाम पर गुलछर्रे मनाने वालों की पौ-बारह है। कापड़ी और उसकी चौकड़ी में दीवाली का माहौल बताया जाता है। इस बेमुरव्वत और बेमौसम माहौल में चांदी काटने वालों की जेबों में यशवंत के कत्लं का खून रुपयों के तौर पर अब खूब खनकने लगा है। मामला कुछ इस तरह है। यशवंत को तो आप खूब जानते-पहचानते ही होंगे। न जानते हैं तो नोएडा के बड़े दारोगा प्रवीण कुमार के बयानों से भी आप यशवंत से जान ही चुके होंगे।

खैर, तो मामला यह है कि इंडिया टीवी के प्रबंध संपादक विनोद कापड़ी के झूठे बयान पर नोएडा के मनबढ़ एसएसपी प्रवीण कुमार के सौजन्‍य से यशवंत सिंह फिलहाल डासना जेल में हैं। यशवंत पर आरोप है कि उसने विनोद कापड़ी से बीस हजार रुपयों की रंगदारी मांगी थी। इंडिया टीवी की मसालादार खबरों जैसी स्क्रिप्ट की तरह एक ड्रामेटिक स्टो‍री रिपोर्ट पर लिखायी कि सड़कछाप गुंडों की तरह यशवंत ने बीच भीड़भरी सड़क उससे रकम मांगी थी। बहरहाल, विनोद कापड़ी ने इशारा किया और नोएडा एसएसपी प्रवीण कुमार ने यशवंत को जेल की हवा खिला दिया। लेकिन इस मामले पर कापड़ी की खासी किरकिरी हो गयी तो कापड़ी अपने बचाव में लोगों के सामने हाथ-पांव खोलने गये।

आगरा से हाल ही लांच हुए सी-न्यूज चैनल में कापड़ी ने इंटरव्यू में कुबूल कर ही लिया कि यशवंत ने कापड़ी से रंगदारी नहीं मांगी थी, बल्कि यशवंत ने कापड़ी से बीस हजार की रकम उधार के तौर पर एसएमएस कर मांगी थी। इस चैनल के दिल्ली ब्यूरो प्रमुख मुकेश चौरसिया ने कापड़ी के साथ हुई अपनी इस बातचीत के फुटेज को यू-ट्यूब पर अपलोड कर दिया। कहने की जरूरत नहीं कि मुकेश चौरसिया मीडियाखबर डॉट कॉम नाम के एक पोर्टल का सहयोगी है और मीडियाखबर नामक पोर्टल का मालिक है पुष्‍कर पुष्‍प। सूत्र बताते हैं कि अपनी बातचीत को अपलोड करने का कारण यह था कि इस तरह कापड़ी की मक्खन-मालिश हो जाएगी। पुष्‍कर पुष्‍प और मुकेश चौरसिया ने सभी परिचित न्यूज पोर्टल संचालकों को इस फुटेज का लिंक तथा फुटेज की ट्रांसस्क्रिप्‍ट तैयार कर भेज दिया ताकि उसके आधार पर यशवंत के खिलाफ माहौल बताया जा सके। मीडियाखबर डॉट कॉम के संचालक पुष्‍कर पुष्‍प ने केवल अपने पोर्टल पर इस खबर को फुटेज के लिंक के साथ प्रकाशित किया, बल्कि अन्‍य कई पोर्टलों ने इस खबर को प्रमुखता से छापा और लिंक भी डाल दिया। बताया जाता है कि इस इंटरव्यू और उसकी पोर्टल में छपी खबर के बाद कापड़ी खासा खुश भी था।

लेकिन कापड़ी के वकीलनुमा पत्रकारों-पुलिसवालों ने जैसे ही कापड़ी को यह खबर दी कि इस बातचीत में रंगदारी के बजाय उधार की बात जैसे ही लोग सुनेंगे, कापड़ी के कपड़े पूरी तरह धुल जाएंगे और कापड़ी नंगा हो जाएगा। यशवंत के पक्ष में इससे पूरा मामला भी पलट जाएगा और कोर्ट में कापड़ी के सारे आरोप हवा होकर यशवंत के चरणों में लोटने लगेंगे। क्योंकि अपनी रिपोर्ट में यशवंत पर कापड़ी पहले ही यह आरोप लगा चुका था कि कापड़ी से यशवंत से रंगदारी मांगी थी।

बताते हैं कि यह पता चलते ही कापड़ी के हाथों से जैसे तोते ही उड़ गये। अपनी इसी बदहवासी में कापड़ी ने मीडियाखबर डॉट कॉम के संचालक पुष्‍कर पुष्‍प और मुकेश चौरसिया से इस फुटेज को यू-ट्यूब से हटाने का अनुरोध किया, लेकिन बताते हैं कि इस पर मीडियाखबर डॉट कॉम वाले पुष्‍कर पुष्‍प और मुकेश चौरसिया कापड़ी से धंधे-पानी की बात पर उतर आये। यह देखते ही कापड़ी ने मीडियाखबर डॉट कॉम वाले पुष्‍कर पुष्‍प और मुकेश चौरसिया के सामने घुटने टेक कर बात शुरू कर दी। आखिरकार बात लेने-देने की शुरू होने लगी। विश्‍वस्त सूत्रों के अनुसार धंधे के ऐसे ही किसी एक मजबूत पायदान पर इन दोनों के बातचीत तय हो गयी। जानकारों का कहना है कि कापड़ी के प्रस्ताव को मीडियाखबर डॉट कॉम वाले पुष्‍कर पुष्‍प और मुकेश चौरसिया ने अपने पक्ष में तोड़ ही लिया और आखिरकार यू-टयूब पर कापड़ी का इंटरव्यू का फुटेज मीडियाखबर डॉट कॉम पर रिमूव कर दिया गया। नतीजा यह हुआ कि कापड़ी की जिस बातचीत को जिन पोर्टलों ने छापा था, उसके क्लिक करते ही यह मैसेज आने लगा कि दिस वीडिया हैस बीन रिमूव बाई द यूजर्स। इतना ही नहीं, खुद मीडियाखबर डॉट कॉम वाले पुष्‍कर पुष्‍प और मुकेश मुकेश चौरसिया ने भी अपने पोर्टल से इस फुटेज को रिमूव कर डाला।

उधर जैसे ही कई पोर्टलों को मीडियाखबर डॉट कॉम वाले पुष्‍कर पुष्‍प और मुकेश मुकेश चौरसिया की इस करतूत का पता चला, हंगामा खड़ा हो गया। इस करतूत की खबर पूछने के लिए जब पोर्टल संचालकों ने चौरसिया से तो, मीडियाखबर डॉट कॉम वाले पुष्‍कर पुष्‍प और मुकेश मुकेश चौरसिया का फोन ही नहीं उठाया गया। जाहिर है कि इस बातचीत और कापड़ी की बातचीत का प्रमाण खत्म डाला गया। सी-न्यूज चैनल संचालकों से भी मुकेश चौरसिया की इस करतूत का पता लगाने की कोशिश की गयी, लेकिन उनसे भी संतोषजनक नहीं मिल सका है। बहरहाल, कई संचालकों का सीधे-तौर पर आरोप है कि कापड़ी और मीडियाखबर डॉट कॉम वाले पुष्‍कर पुष्‍प तथा मुकेश चौरसिया के बीच भारी डील सम्पन्न हो गयी है।

लेखक कुमार सौवीर सीनियर जर्नलिस्‍ट हैं. वे कई अखबारों तथा चैनलों में वरिष्‍ठ पदों पर काम कर चुके हैं. इन दिनों स्‍वतंत्र पत्रकार के रूप में सक्रिय हैं. इनसे संपर्क 09415302520 के जरिए किया जा सकता है.


इसे भी पढ़ें…

Yashwant Singh Jail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *