काश!! मेरा ये असमंजस खत्म हो जाए

असमंजस

-हरमीत मल्होत्रा-

भगवान ने सबको दो किस्म की आँखें दी हैं
एक वो जिससे वो देखते हैं
और एक वो जिससे वो सही देखते हैं

सबके पास कान हैं
पर कुछ उनसे सुनते हैं
और कुछ उनसे समझते हैं

जुबां सबके पास है
कुछ लोग वो बोलते हैं जो लोग सुनना चाहते हैं
और कुछ लोग वो बोलते हैं जिसके बाद दुनिया उसी बात को जपती है

सभी को भगवान ने दिल, दिमाग, समझ से नवाज़ा है
कुछ लोग इसका इस्तेमाल सफल ज़िंदगी की चाह में लगा देते हैं
कुछ लोग सफलता के नए आयाम तय करते हैं

किस्मत का पिटारा सबके लिए है
कुछ लोग पिटारे को लेकर घर चले जाते हैं
कुछ लोग उसमें सामान खुद भरते हैं

शब्द सभी के पास हैं
कुछ उनका इस्तेमाल करते हैं
और कुछ सही इस्तेमाल करते हैं
कुछ इनका इस्तेमाल सफल लोगों से अपनी सफलता की चाह की तलाश में इस्तेमाल करते हैं
कुछ इनका सफल इस्तेमाल करते हैं

कुछ लोग हीरा पहनना पसंद करते हैं
कुछ कोयले से हीरा पहचानते तराशते हैं

पहली किस्म के लोग ऊंचाई तक पहुँचते हैं
दूसरी किस्म के लोगों के लिए ऊंचाई की कोई सीमा ही नहीं

पहली किस्म के लोग दुनिया में सफल दिखते हैं
दूसरे खुद की नज़रों में
ये वो हैं जो रास्तों पर चलते नहीं
बल्कि अपने रास्ते खुद बनाते हैं

पहली किस्म के लोगों को दूसरे के नाम की सीढ़ी चाहिए
दूसरी किस्म के लोग चलते-चलते अपने लिए ऊंचाई बनाते हैं
सीढ़ी दूसरों के लिए नीचे बनती जाती है

ये दूसरे किस्म के लोग सामाजिक तौर से सफल होते हैं
और पहले खुद की नज़रों में

दुनिया में पहली किस्म के लोग दिख रहे हैं
जिनके मुह में ज़बान है पर शब्द नहीं
शब्द हैं पर सही नहीं
शब्दों का इस्तेमाल वहां जहां उनका स्वार्थ छिपा है
स्वार्थ ऐसा जिसकी सीमा नहीं
सीमा तय करना भी उनके बस में नहीं
अपना दिमाग नियंत्रित करने के लिए दूसरों के दिमाग पर निर्भर हैं
दिल अपना नीलाम कर चुके हैं
इंसानियत की तो परिभाषा ही नहीं आती
और वहीं दूसरी किस्म के लोग इंसानियत, दिल, दिमाग की सीमाओं से कोसों दूर अपनी ही उड़ान भर रहे हैं

जो इन सभी मोह माया की बन्दिशों से कहीं आगे जा चुके हैं
हमारी सोच जहाँ ख़त्म होती है, उनकी वहीँ से शुरू

काश!! ये असमंजस ख़त्म हो जाए
ये बंदिशें ख़त्म हो जाएं
सोच बदले
लोग बदलें
दुनिया बदले
नजरिया बदले

काश!! सही की चाहत ख़त्म हो जाए
काश!! सही की तलाश ख़त्म हो जाए
काश!! गूंगों के मुह में ज़बान आ जाये
काश!! मेरा ये असमंजस ख़त्म हो जाए
आमीन


Asamanjas

Harmeet Malhotra

Bhagwaan ne sabko DO kism ki aankhen di hai.
Ek wo jisse wo dekhtey hai.
Aur Ek wo jisse wo sahi idekhtey hai.
Sabke paas kaan hai
Par kuch unse sirf suntey hai.
Aur kuch unse samjhtey hai.
Zubaan sabke paas hai.
Kuch log wo boltey hai jo log sunna chahte hai.
Aur kuch log wo boltey hai jiske baad duniya usi baat ko japti hai.
Sabhi ko bhagwaan ne dil, dimaag, samajh se nawaaza hai.
Kuch log iska istmaal Safal zindgi ki chah mei laga dete hai.
Kuch log safalta k naye aayaam tay karte hai.
Kismat ka pitaara sabke liye hai
Kuch us pitaare ko lekar ghar chale jatey hai.
Kuch usme saamaan khud bhartey hai.
Shabd sabhi ke paas hain.
Kuch Unka istmaal karte hai.
Aur kuch sahi istmaal karte hai.
Kuch inka istmaal Safal logo se apni safalta ki chahat ki talaash mei istmaal karte hai.
Kuch inka safal istmaal karte hai.
Kuch log heera pehnna pasand karte hai.
Kuch koyle se heera pehchaante taraashtey hai.
Pehli kism ke log unchayi tak phunchte hai.
Doosri kism ke logo ke liye unchaayi ki koi seema hi nhi.
Pehli kism k log duniya mei safal dikhtey hai.
Doosre khud ki nazro mein.
Ye wo hai jo raasto par chaltey nahi.
Balki apne raaste khud banaate hai.
Pehli kism ke logo ko doosre ke naam ki seedhi chahiye.
Doosri kism ke log chalte chalte apne liye unchaayi bnate hai. seeddhi doosro ke liye neeche banti jaati hai.
Ye doosri kism k log samajik tor se safal hotey hai.
Aur pehle khud ki Nazron mei.
Duniya mei pehle kism k log dikh rahe hai.
Jinke mooh mei zubaan hai par shabd nahi.
Shabd hain par sahi nahi
Shabdo ka istmaal waha jaha unka swaarth chipa hai.
Swarth aisa jiski seema nhi.
Seema tay karna bhi unke bas mein nhi.
Apna dimaag niyantrit karne k liye doosro ke dimaag pe nirbhar hain.
Dil apna nilaam kar chukey hai.
Insaaniyat ki toh paribhaasha hi nhi hai.
Aur wahin doosri kism ke log insaaniyat, dil, dimaag ki seemaayon se koso door apni
hi udaan bhar rahe hai.
Jo in sabhi moh maaya bandisho se kahi aage jaa chukey hai.
Hamari soch jaha khatam hoti hai, unki wahi se shuru.
Kaash!!!
Ye asamanjas khtam ho jaaye
Ye bandishey khtam ho jaaye
Soch badle
Log badlen
Duniya badle
nazariya badle
Kaash..!! sahi ki chahat khtam ho jaaye
Kaash..!! sahi ki talaash khtam ho jaaye.
Kaash..!! Goongo ke mooh mein zubaan aa jaaye.
Kaash..!! Mera ye Asamanjas hi khtam ho jaaye.
Amen

हरमीत मल्होत्रा आजाद पत्रकार हैं. उनसे संपर्क bubly.malhotra@gmail.com के जरिए किया जा सकता है. फेसबुक पर हरमीत के पेज 'मेरी आवाज' तक https://www.facebook.com/MeriAwaazsun के जरिए पहुंचा जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *