कुछ बुराइयों के बावजूद कोई कितना असरदार काम कर सकता है, यह ‘तहलका’ से सीखें

Yashwant Singh :  जेल कोई बुरी जगह नहीं है तरुण तेजपाल जी. आप जाइए तो मैं एक प्रति 'जानेमन जेल' की भेंट करने आता हूं.. हां, बुरा है मीडिया का वो जेल जिसमें अपराध कोई कर गया और सजा दी जा रही किसी को.. तरुण तेजपाल के अपराध की गल्ती 'तहलका' को नहीं दी जानी चाहिए… 'तहलका' पिछले कई दशक से पत्रकारिता का आदर्श है… ऐसा नहीं कि 'तहलका' बुराइयों से अछूता है, पर इन बुराइयों के बावजूद कोई कितना असरदार काम कर सकता है, यह 'तहलका' से सीखना चाहिए… बाकी राजीव शुक्लाओं, बरखा दत्ताओं, सुधीर चौधरियों, आशुतोषों से भरी इस मीडिया के बारे में बात कर हम आप अपना ही मुंह काला कर लेंगे….

        Sachin Chaudhuri sir mujhae bhi chahiye ek parti JANEMAN JAIL…….
 
        संतोष त्रिवेदी यानी अंधों में काना राजा !
 
        Shriniwas Rai Shankar तहलका को न सही शोमा चौधरी को तो टीपी के साथ 'जानेमन जेल 'की हवा खाने को भेजा ही जाना चाहिए.तभी शायद तहलका को सजा से बचाया जा सकता है.
   
        Yashwant Singh Sachin Chaudhuri जी.. हम लोग तो खुद ही जानेमन जेल के ग्राहक ढूंढते रहते हैं.. अच्छा कि आज आप फंस गए लीजिए, यह लाइन लेंथ आजमाइए और जानेमन जेल पाइए… 'जानेमन जेल' को घर बैठे मंगाने के लिए आप किताब का नाम Jaaneman Jail, अपना नाम, पूरा पता पिन कोड सहित और अपना मोबाइल नंबर लिखकर 09873734046 पर SMS कर दें. किताब कुछ ही दिनों में आपके हाथ में होगी. मूल्य सौ रुपये से कम है और छूट के साथ उपलब्ध है.

        संतोष त्रिवेदी नहीं दूसरा विकल्प और आसान है,किसी को छेड़िए,जेल में ही जानेमन मिल जाएगी
 
        Kalyan Kumar जेल को ही जानेमन बना ले ये हर किसी के वश की बात नहीं सर जी..
 
       शिवानन्द द्विवेदी सहर Yashwant Singh भाई मैसेज तो कर दिया । मगर पेमेंट कैसे की जाय । सौ रूपये से कम
    
        Yashwant Singh सहर भाई, जब किताब आपके घर पहुंच जाएगी तब पेमें ट करना होगा…. Shailesh Bharatwasi आपको गाइड कर देंगे, अगर उनका मूड ठीक हुआ तो
 
        Harivansh Sharma चीर हरण की पीड तो भुगती ही है.
   
        आशीष कुमार 'अंशु' Bhai Talwar dampatti Dasna hee jane wale hain…..na jane us jail ka naam aate hee aap kyon yaad aate hain…
   
        Dhyanendra Singh Chauhan Muje bhi chahiye ..janeman jail
    
        Hemant Tyagi दीपक चौरसियांओं ,राजीव शुक्लाओं, बरखा दत्ताओं, सुधीर चौधरियों, आशुतोषों से भरी इस मीडिया के द्वारा की गयी दलालियों के बारे में एक सीरीज सोशल मीडिया और भड़ास पर क्यूँ ना चलाई जाए in dalalon ko janta ke saamne naga kiya jaaye Yashwant Singh bhai
      
        Aflatoon Afloo दुखद है कि आपको तहलका द्वारा खनन कॉर्पोरेशन्स की दलाली नहीं दिखती।विज्ञापन दरकिनार कर दें तो भी रपट और आलेख में दलाली साफ दिखती है।
       
        आशीष सागर दीक्षित कार्पोरेट और पूंजीपति लोगो अगर मीडिया को चला रहे हो तो आप और अधिक आशा भी क्या रख सकते है मगर है फिर भी लोक का 4 स्तम्भ !
       
        Atul Chauhan मित्र यशवंत सिंह जी………..जब जड़ों में रोग लगता है तो………असर तो पत्तों पर पड़ेगा ही
        
        Aflatoon Afloo वेदान्त के खिलाफ चले आदिवासियों के सफल और शान्तिमय आन्दोलन के खिलाफ तहलका ऐसी पेड न्यूज छापता था – http://archive.tehelka.com/story_main39.asp?filename=Bu210608newerain.asp
       
        Jayesh Agarwal शोमा चौधरी भी साथ चली जाए तो 'जानेमन जेल' हो जायेगा..
 
        Jayesh Agarwal वैसे भी गोवा की हवा में चचा तेजपाल लहराने लगते है.. जेल की तन्हाईयाँ शोमा का साथ और गोवा की हवा चचा तेजपाल की निकल पड़ी..
 
        Murar Kandari yashwant ji goa mat jaana kahi .
   
        Smita Mishra nobody is condemning tehelka…
 
        Murar Kandari aap to bhuktbogi hai
 
        Harish Baba There is no competion of tahalka. Patrika is so true n d reliable. Afterall tarun is just a man nothing else.
 
        Ashok K Sharma पत्रकारिता में डंके की चोट पर सच बोलने, सहानुभूति रखने और सच्चाई के साथ गलत समझे जाने वाले मुद्दों पर अभिमत व्यक्त करनेवाले यशवंत को सलाम!

भड़ास के एडिटर यशवंत के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *