कुलपति विभूति राय ने अपने खिलाफ चल रही जांच में अपना बयान मानव संसाधन विकास मंत्रालय को भेजा

Sanjeev Chandan : कल से मैं खुद को ताकतवर महसूस कर रहा हूँ. राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का सम्मान करते हुए उनसे थोड़ा कम. कल मैं मानव संसाधन मंत्रालय में पेश किया गया एक दस्तावेज पढ़ रहा था. दरअसल दारोगा कुलपति 'विभूति राय' के खिलाफ जांच चल रही है. विभूति ने जांच के सन्दर्भ में अपना बयान जो मानव संसाधन विकास मंत्रालय को भेजा है, उसमें वह अपने को बेहद इमानदार और कर्तव्य निष्ठ बताते हुए सफाई देते हैं कि यह तो मैं (संजीव चन्दन ) और Rajeev Suman हैं, जो देश भर के वरिष्ठ मीडिया कर्मियों को, कई संसद सदस्यों को बरगला रहे हैं, जो विभूति के खिलाफ जांच की मांग करते रहे हैं या खबरें बनाते रहे हैं.

मजेदार है कि हमारे बरगलाने में कैग और केन्द्रीय विजिलेंस आयुक्त भी आ चुके हैं. विभूति कहते हैं कि कुछ अवैध डिग्रियों, नियुक्तियों के जो प्रसंग हैं वह हमारे द्वारा इस इर्ष्या से उठाये जा रहे हैं कि हमारे साथ पढ़ने वाले वहां नियुक्त कर दिए गए और हम नहीं हुए. अब हमारी इर्ष्या में कैग तक शामिल है, जो कई नियुक्तियों को अवैध मानता है, अब उनमें कुछ नियुक्तियां वैसी भी हैं, जिनमें हमारे क्लासमेट या बैचमेट भी शामिल हैं. मानव संसाधन मंत्रालय ने स्वयं 18 नियुक्तियों को अवैध बताया है या उन्हें विवादित बना रखा है. बेचारा दारोगा कितना भला आदमी है. वह अपने बचाव में कहता है कि उस पर महिला विरोधी होने का आरोप भी मनगढ़ंत और हमारी साजिश है. अब २०१० के अगस्त के टीवी फुटेज तो उपलब्ध होंगे न, जहाँ जनाब दारोगा जी और एक इन्स्पेक्टर आलोचक 'छिन्न-नाल' का नायाब आइडिया लेकर आये थे. और तो और, दारोगा यह भी कहते हैं कि जो उन्होंने चोर गुरु अनिल राय पर कोई कारवाई नहीं की है या उस पर मेहरबानियाँ बख्श रखी है, वह सब इसलिए कि स्वयं मंत्रालय ऐसी अकादमिक चोरियों को कापी राईट के दायरे में नहीं मानता. यह जवाब उस समय दिया जा रहा है, जब कई प्रोफेसरों और कुलपतियों तक की नौकरी इस अकादमिक चोरी के कारण गई है. एक तो चोरगुरु के सहधर्मी चोर जामिया मिलिया से ही हटाए गए हैं. तो क्या हम सचमुच इतने ताकतवर हो गए हैं….! Sandeep भाई, हमारी ताकत के कई राजों में से एक राज तो आप खुद भी हो, थोड़ा दारोगा को भी बताओ भाई. फिलहाल तो हमें दारोगा के जवाब का जवाब मंत्रालय को भेजना है ताकि उनके 'सगोत्रीय भाई बंधु' उन्हें क्लीन चिट न दे दें ……..!!!

        Tara Shanker brave! keep it up sir!
 
        Sameer Sameera aakhir bhai kiska ho
 
        Jitendra Narayan संघर्ष जारी रहे….
   
        Manoj Kumarjha संजीव जी, इनकी अनियमितताओं के बारे में कई खबरें आई हैं। ये लेखक होने के नाम पर ये सब कर रहे हैं। मैं ऐसे कुछ लोगों को जानता हूं, जो किसी भी दृ्ष्टि से प्राध्यापक बनने के लायक नहीं थे, जिन्हें इन्होंने नियुक्त किया और बाद में उनमें से एक जो अपने-आप को कवि मनवाते हैं, एक वरिष्ठ आलोचक के दामाद हैं, दिल्ली यूनिवर्सिटी में रीडर बन गए। उन पर लाख रुपये का लैपटॉप ले उड़ने का आरोप है….
    
        Ajamil Vyas ये घटियापन पूरे देश में है। ऐसे गिरोहों सरकारों का भी संरक्षण प्राप्त है। जिसकी पूँछ उठाओ वही मादा निकलता है।
     
        Sanjeev Chandan Ajamil Vyas, सर यह मुहावरा जेंडरड है . हालांकि आप सन्दर्भ स्पष्ट है .
      
        Ajamil Vyas मै तो आपके हौसले की दाद देता हूँ। आप इनके खिलाफ आवाज़ तो उठा रहे हैं। लेकिन ये मानिये क़ि इनका कोई चरित्र नहीं है।अलाहाबाद में भी ऐसे मठाधीशों को नवनीत लेपन करने वाले कम नहीं हैं।
       
        Arti Mishra हाय रे दरोगा बाबू। लानत है तुम्हारी गलथेथरी पर।
        संजीव जी ठीक कह रहे हैं आप। छिनान प्रकरण के दौरान एनडीटीवी का फुटेज देखे सभी जिसमें मैत्रेयी पुष्पा के साथ किस बेशर्मी से पेश आ रहे है यह पुलिसवाला गुंडा। पुलिसवाला गुंडा है न बेशर्मी तो इनके नस-नस में होगी।
        
        Arti Mishra विभूति जी गलत बयानी ना करें। ईमानदार हैं तो डर क्यों रहे हैं? जाँच होने दे। दूध का दूध पानी का पानी सामने होगा। इनपर लगा दाग भी धुल जाएगा?
     
        Sanjeev Chandan हमारी ताकत का एक राज तो मैं बता सकता हूँ Yashwant Singh और उनका भड़ास . वैसे मोहल्ला लाइव ने हमारी ताकत थोड़ी कम कर दी है , नहीं तो प्रणव दा…
      
        Rajdhir Singh Bhai Sanjiv Chandan, aap bhi Vibhuti babu ka thoda buttering kar rahe hain….. Ek Hawaldar ko baar baar Daroga kah kar sambodhit karte rehte hain.
       
        Sanjeev Chandan Rajdhir Singh … हा …हा ..हा….

संजीव चंदन के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *