केजरीवाल के टायलेट में न्यूज चैनलों के कैमरे, प्रेस क्लब आफ इंडिया में केजरीवाल को लेकर पत्रकारों में दो फाड़

Yashwant Singh : अभी घर लौटा हूं. अरविंद केजरीवाल को सपोर्ट करने गया था. दिल्ली पुलिस विरोधी आंदोलन के पक्ष में. प्रेस क्लब के अंदर बैठा था. केजरीवाल आए और आते ही टायलेट की तरफ जाने का अनुरोध किया. प्रेस क्लब आफ इंडिया के डायरेक्टर और वरिष्ठ पत्रकार संजय सिंह ने उन्हें टायलेट का रास्ता दिखाया. केजरीवाल के टायलेट में घुसते ही कई न्यूज चैनलों के कैमरे टायलेट के उपर टंग गए. केजरीवाल चुपचाप खड़े देखते रहे. वे लौटे. उन्होंने शिकायत की. वरिष्ठ पत्रकार संजय सिंह टायलेट की तरफ पहुंचे और सारे कैमरामैंस को डांट पिलाई. तब जाकर सभी वहां से हटे. हद है यार. ये कैसी कूपमंडूकता है. कितना नानसेंस है. न्यूज चैनल हैं या गुंडई के औजार.

Yashwant Singh : प्रेस क्लब आफ इंडिया में अरविंद केजरीवाल एंड कंपनी की बैठक को लेकर प्रेस क्लब में दो फाड़ हो गया है. अग्रेजी अखबार के कुछ लोग इस बात पर आपत्ति कर रहे हैं कि अरविंद केजरीवाल को अंदर घुसने क्यों दिया गया. प्रेस क्लब के आसपास बैरीकेडिंग लगाए खड़े सैकड़ों पुलिस वाले लगातार प्रेस क्लब के भीतर आकर हग-मूत रहे थे, पर तब किसी ने उन पर आपत्ति नहीं की. लेकिन जब प्रेस क्लब में अरविंद केजरीवाल और उनकी टीम के लोग आए तो कई अंग्रेजी पत्रकारों के पेट में मरोड़ उठ गया. सूचना तो यहां तक है कि पेड मीडिया की एजेंट एक महिला पत्रकार ने एक रोज पहले राखी बिड़लान के प्रेस क्लब में आकर टायलेट यूज करने को लेकर न सिर्फ आपत्ति जताई और हो-हल्ला मचाया बल्कि उन्हें टायलेट यूज किए बिना बाहर जाने को मजबूर कर दिया. इस घृणित घटनाक्रम की सूचना पाकर कई वरिष्ठ हिंदी पत्रकारों ने महिला पत्रकार की गुंडई पर आपत्ति जताई. सूत्रों के मुताबिक इस महिला पत्रकार की हरकत के बारे में पता किया जा रहा है और इनकी सदस्यता रद्द करने को लेकर प्रेस क्लब की बैठक बुलाए जाने की तैयारी की जा रही है. कुछ पत्रकारों का कहना है कि जब कांग्रेस या भाजपा के लोग प्रेस क्लब में आते हैं तो उनते लिए पलक पांवड़े बिछाए जाते हैं. पर जब आंदोलनरत आम आदमी पार्टी के सीएम अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्री अंदर आते हैं तो कई पत्रकार खुलेआम विरोध शुरू कर देते हैं. क्या सिर्फ इसलिए कि आम आदमी पार्टी के लोग कांग्रेस भाजपा की गुंडई के खिलाफ लड़ रहे हैं… क्या सिर्फ इसलिए कि आम आदमी पार्टी के लोग पत्रकारों को उतना ओबलाइज नहीं करते जितना कांग्रेस भाजपा के लोग करते हैं…. आज पूरी शाम प्रेस क्लब में इसी बात की चर्चा होती रही कि क्यों अंग्रेजी मीडिया के ढेर सारे लोग इन दिनों आम आदमी पार्टी के खिलाफ किसी एजेंडे के तहत दुश्मन के रूप में काम कर रहे हैं…

भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.


उपरोक्त पोस्टों पर आए कुछ कमेंट इस प्रकार हैं…

Avanindrsingh Aman Bhaiya ye jo videshi media house hai na.. wo had kar di hai..
 
Kuldeep Bhardwaj "Tere maathe pe ye aanchal bahut hi khub hai lekin, Tu is aanchal se ek parcham bana leti to accha tha""
 
Vivek Narayan Singh हेने…….इहे कोश्चन तो सरकार के बारे में भी सब पूछ रहा है….एकदम नानसेन्स
 
Satish Pancham पीपली लाईव के नत्था जैसा हाल कर दिया लगता है
 
Niraj Modi Shukra hai media walo ne ye nhi dikhaya ki kejriwal ji aam toilet karte hai ya khas…..
 
Jayesh Agarwal राहुल गांधी आज जो भी हैं, वो पुरखों की वजह से हैं… और… अरविन्द केजरीवाल आज जो भी हैं वो मुरखों की वजह से हैं…
 
किशन गोयल अब ऐसा ना हो ..की पकड़ने भी मिडिया आ जाये
 
Shachindra Trivedi midia ki wajah se
 
Vivek Duklan Jayesh Agarwal@ well said… Aur biki hui media Ki vajah se Bhi…
 
Mukta Pathak sad
 
Saurabh Bajpai dalal
 
Sachin Agarwal पीपली लाईव – शौच का छिद्रान्वेश्ण !
 
Barjesh Kangra save journalism stop paid news
 
आशुतोष दीक्षित गजब भाई पहुंचे रहो… गणतंत्र का नया अध्याय फिर लिखा जाएगा … फिर से अधूरी ही सही
 
Arif Beg Aarifi india news walo ka koi relative delhi vidhansabha chunav me aap candidate se hara hai kya?shayad tabhi uski paid news ke paid patrkar gadho ki tarah renk rahe h kejriwal k khilaf
 
Syed Shahroz Quamar smiley
 
Vikas Tripathi are live coverage jo dikhana he..ho sakta he kejriwal ki peshab ka rang pata karne ke liye kaha ho akao ne…
 
Prashant Pathak wah kya baat hai vikas ji.
 
Mitra Ranjan जी साहब न्यूज़ चैनल ही हैं ये!!! पल-पल की रिपोर्टिंग करना इनका धर्म है,१५ मिनट की न्यूज़ ५ घंटे तक देखने को मजबूर दर्शकवृन्द अपना सर ठोकें तो उनकी बला से, वो तो न्यूज़ आप तक पहुंचा के रहेंगे
 
Priyanka Singh wo bechare wahi kar rahe the jo wakyi mein kejriwal chahte hain……….
 
Shivani Kulshrestha लघुशंका भी ठीक से करने नही देते। ये तो आदमी की मौलिक आवश्यकता है।
 
Braj Bhushan Dubey पत्रकारों का ऐसा करना उनके वाक एवं अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता अनु0 19 का हनन है साथ ही अरविन्‍द के अनु0 21 में प्रदत्‍त अधिकार (गरिमामय जीने) का हनन है।
 
Ashutosh Na Real अब ये ओवर हो रहा है। जल्दी ही इनको इनकी औकात में न बांधा गया तो बेलगाम हो जायेंगे
 
Prince Singh · Friends with Masaud Akhtar and 12 others
Kya bhai.unhe is chiz ki swatantrata to deni chahiy. mujhe to lag raha tha ki puri raat gujar du woha.
 
Anurag Jagdhari ऐसे पत्रकारों , ऐसी भ्रष्ट मीडिया को दुनिया भर की गालियां और दुनिया भर की हाय लगे …करमजले …बिकाऊ ……..
 
Sandeep Verma बेचारे न्यूस वालों को सनी लियों की तस्वीरे तो मिलती नहीं खीचने को ,अब कजरी भैया ही सही .
 
Sandeep Singh कैमरे के लिये ही तो सब कुछ करता है केजरीवाल अब का हुआ……
 
Arun Pathak aakhir ek cm ke m…… visarjan ki tasveer lene ka saubhagya jo mila tha becharon ko…… ha ha ha ha ha
 
Arun Sathi हद हाल है….
 
Sandeep Singh केजरीवाल के खिलाफ जो बोले सब बिके हुए है बाकी जो इनके साथ वो महापुरूष……. भइया आज से मै भी महापुरूष…..
 
Meenu Jain हद है बेशर्मी की १
 
Sunder Kumar Hamare gaon me kahte hai k jise koi kam na aata ho patrakar ban jao
 
Al Faisal Khan Aap jaha hum waha

Vinayak Vijeta क्या भाई, न्यूज़ चैनल वाले टॉयलेट से भी केजरीवाल का लाइव दिखाना चाह रहे थे क्या?
 
Choudhary Neeraj पीपली लाइव-2।
 
Shashwat Swatantra Yahii asli chehra h
 
Rajeev Ranjan Prasad नौटंकी करना और उसे दिखाना दोनो ही आर्ट हैं बुरा क्या माना केजरीवाल जी
 
Saran Ghai शर्म की बात है, इंसानियत भूल जाना निहायत घटिया हरकत है।
 
Shivani Kulshrestha मै तो भैया टायलेट नही रोक पाती । सुना है कि ज्यादा देर टायलेट रोकने से किडनी मेँ कुछ दिक्कत हो जाती है। अगर ये पत्रकार टायलेट पर ऐसे टीका टिप्पणी कर रहे है गलत है ये
 
Sandip Naik Toilet journalism in stinking moods of Delhi
 
Chandan Bangari शेम शेम
 
Rahul Sankrityayan ये पत्रकारिता है ?
 
Pramod Kumar this is real shame.
 
Suresh Kr Singh यह तो गलत है आप सही कहरहे है
 
Anurag Jagdhari ऐसे पत्रकारों , ऐसी भ्रष्ट मीडिया को दुनिया भर की गालियां और दुनिया भर की हाय लगे …करमजले …बिकाऊ ……..
 
Arun Sathi पतीत हो गए है पत्रकार भी, बदलाव के इस दौर में अब इसी के कचड़े की सफाई होनी है….और जरुर होगा….घाघ सब..गेंदरा ओढ़ के धी पीते है ..
 
Smita Mishra अंग्रेजीदां लोगो का चरित्र न आज़ादी से पहले बदला था न आज़ादी के बाद ..
 
Meetu Mee I was also confused a few days back whether mr.kejriwal is right or wrong…but was not saying anything against too…because when we beared all wrong since so many years so lets bear this also….lets giv this also a chance…. Hum.logo k paas qki khone k liye kuch bacha hi kaha hai..? but now this is crystal clear…. "Duniya sahi aadmi ko hi jeeney nhi deti.. Bura aadmi jeeta bhi hai aur logo ko peeta bhi hai" kejriwal k khilaaf aaj wo log bhi bol rahe hai…jo kal tak apni ** rahe the aur goongey ban kar bhi baithe the….kya isliye zubaan a gyi mooh mei qki sahi insaan ko dabaana asaan hota hai….aur galat insaan se ****** hai….? Ab iss sabse zada bada kya proof ho sakta hai prove karne k liye….ki kaun sahi kaun galat…ye wo log hai jo acha na kar sakte hai….na dekh sakte hai…aur galti se dikh gya toh dast lag jaate hai inhe…..
 
Sandeep Verma सरकार का आदेश आया था आन्दोलन कारियों को हगने मूतने की जगह ना दी जाए ,बीएस इसी आदेश का पालन उनके कारकुन कर रहे होंगे.
 
Journalist Rajan Chabba ऐसी हरकतें करने वाले बुद्धिजीवि कहलाने के हकदार नहीं हो सकते
 
Kumar Vinod चंपुओं का विरोध ही बताता है yashwant ji, ये आदमी कितना बड़ा खतरा हो गया है उनके लिए
 
Omprakash Pal they r protecting their politics
 
Naveen Naveen Avi v angrezi media wale ko ye hazam hi nahi ho raha hai angrezi na bolne ye dikat se bolne or sadak chap jiwan saili wale unse bade kaise ho gaye …
 
Naveen Naveen Bjp ko dilli se lokshabha ke liye candidate nahi mil raha hai …vijay goal,vijendra gupta,jadish mukhi sab mana kar chuke hain ..siddhu wapas punjab chale gaye
 
Dinesh Pal Singh प्रेस क्लब का शौंचालय आम आदमी के वश का नहीं है, इसे भ्रस्ट लोग ही afford कर सकते है!
 
Sujeet Kumar us angreji akhabaar ki mahila patrkaar ka naam ujaagar karne ki kripa karen , waise us par kya karwayi honi chahiye ye patrkaron ko hi tay karni hai
 
Rakesh Soni Koi bhi manushya khusbu ke saath nivrrat nahi ho sakta too phir is tarah ki pabandi kyo.kya ve log khushbu vaala………..
 
Vivek Joshi अरविंद को प्रेस क्लब की मेंबरशिप ले लेनी चाहिये ताकि आइंदा जब ऐसी नौबत आये तो असुविधा ना हो क्योंकि वह अपने साथ बतौर गेस्ट अन्य मंत्रियों को वहां ले जा सकें जब भी हाजत हो..वैसे यह अंग्रेजी पत्रकारों का ही मामला नहीं है ..मीडिया खुद हर जगह दो फाड है..वह भी प्रेस क्लब में..
 
Dinesh Pal Singh मीडिया जगत में भी सफाई की महती आवश्यकता है, वहां भी झाड़ू लगनी चाहिए.
 
Chandan Kumar Singh Meetu Mee you are 100%right
 
Harnam Singh Verma Aur yeh Press Club kya Presswalon ne apne kharche par chalaya huwa hai? bhaiyye,yeh building, uska poora taam jhaam yeh haramkhor patrakar khud nahi uthate. hum aap utha rahe hain

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *