गिफ्ट को लेकर मचा घमासान, पत्रकारों में चले लात-घूंसे

झांसी। नामचीन बिल्डरों द्वारा एक होटल में पत्रकारवार्ता का आयोजन किया गया था। इस पत्रकारवार्ता में मात्र 30 पत्रकारों को ही बुलाया गया था और इसके बाद पत्रकारवार्ता शुरू होते ही करीब 60 से ऊपर पत्रकार पहुंच गये। इसके बाद पत्रकारवार्ता के बीच में ही पत्रकारों को एक-एक सूटकेस बांटी जाने लगी। इसी बीच पत्रकार पत्रकार वार्ता भूलकर सूटकेस लेने में लग गए और जिसको सूटकेस मिलता गया वो सूटकेस लेकर चलता गया। इसी बीच वहां पर सूटकेस कम पड़ गये और इसी को लेकर वहां पत्रकारों में आयोजकों के सामने ही लात-घूंसे चलने लगे और विवाद की स्थिति पैदा हो गई।

आयोजकों ने जब यह सब देखा तो तत्काल उन्होंने भी पत्रकार वार्ता बंद कर स्थिति संभालने में लग गए। बाद में मामला बिगड़ता देख आयोजकों ने सदर बाजार स्थित एक दुकान की पर्चिंयां बाकी बचे पत्रकारों को पकड़ा कि इस पर्चीं से बाद में सूटकेस मिल जायेंगे। इसके बाद ही पत्रकार वहां से निकल लिए। सबसे बड़ी बात तो यह रही कि इस पत्रकार वार्ता में एक-एक अखबार से तीन-तीन पत्रकार थे। जिनकी वजह से यह सारा मामला बिगड़ गया। वहीं रही-सही कसर साप्ताहिक अखबार वालों ने आकर निकाल दी। अधिकातर साप्ताहिक वालों का अखबार प्रिंट तो होता नहीं है, लेकिन पत्रकार वार्ता में सबसे आगे बैठ जाते हैं खाने-पीने और गिफ्ट पाने के लिए। पत्रकारों में आज हुऐ घमासान को देखकर हर कोई यह कह रहा था कि पत्रकार है या फिर भिखारी। ऐसे कुछ पत्रकारों ने पत्रकारिता नाम को कलंकित कर दिया है।

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *