”चार सौ पृष्ठों का ‘समकालीन सृजन’ का संस्‍मरण विशेषांक बेजोड़ है”

Prem Chand Gandhi :  ‎'समकालीन सृजन' का संस्‍मरण विशेषांक आया है। करीब 400 पृष्‍ठों का यह अंक अपने आप में बेजोड़ है। साहित्‍यकारों के साथ देश-विदेश के बेहद रोचक और पठनीय संस्‍मरणों के कारण यह अंक निश्‍चय ही संग्रहणीय है। वरिष्‍ठ कवि मानिक बच्‍छावत के संपादन में इस पत्रिका ने पहले भी अपने विशेषांकों से पाठकों का ध्‍यान आकर्षित किया है। इसमें मेरा भी एक यात्रा संस्‍मरण पाकिस्‍तान की यात्रा पर है। पाठकों के फोन आने से लगता है कि पाकिस्‍तान की आम अवाम के बारे में हमारी धारणाएं कितनी ग़लत हैं, जिन्‍हें मैंने रेखांकित किया है और पाठकों को इन पर आश्‍चर्य होता है। अंक मंगाने के लिए आप मित्र प्रियंकर पालीवाल Priyankar Paliwal से फेसबुक पर संपर्क कर सकते हैं।

        Satyanarayan Soni bahut khoob………. badhai ho…. abhi samprk krte hain……………..
 
        Sameer Shrivastava Bahut khoob…. Badhaiyan.
 
        Divikramesh Ramesh Samkaleen Srijan ek ke baad ek sthayi mahattva ke anknikaal raha hai aur vaha bhi biba kisi Khemebaaji ke. Aap aur Manik jee ko Haridik Badhai. Ank ki prati ki pratikshaa hai. Sambhavata aap se Wardha mein bheint hogi. subhkamnayen. -Divik Ramesh
    
        Rajiv Ranjan badhai,
     
        Manoj Abodh सुंदर
      
        Dinesh Thakur khabar ke liye shukriya Premchand ji.. aur lekh ke liye badhaayi.
       
        Ajit Wadnerkar शुक्रिया भाई । मंगाने का बंदोबस्त करते हैं ।
        
        Mukesh Sharma Canada mein kaise order karein
         
        Veena Sethi nichaya hi chahiye,ek prati mere liye bhi………….!
        
        Amit Sharma badhai sir! mangaana hi padega
         
        Surya Narayan yah vahi patrika hai na jiske sampadak kabhi Shambhunathji hua karate the!patrika ka pata bhi dijiye.

प्रेमचंद गांधी के फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *