चालीस पार का कोई पत्रकार अपने बेटे को पत्रकार नहीं बनाना चाहता

Pankaj Shukla : "40 के करीब के किसी ऐसे मौजूदा पत्रकार को जानते हैं क्या, जो अपने बच्चों को न्यूज़ मीडिया में करियर बनाने की कोशिश का समर्थक हो?" किसी पेशे की इससे ज्यादा दुर्गति और क्या होगी जिसे अपनाने वाले इसे अपने ही घर में पनपते न देखना चाहते हों..

    Alok Nandan Great saying!!!
 
    Prashant Pandey सत्य वचन सर…दरअसल खबरों के बीच यहां अपनी ही खबर नहीं होती और दुनियाभर के हक-हकूक की बात तो हम करते हैं मगर अपने हक़ के लिए इस तथाकथित डेमोक्रेटिक मीडियम में कोई जगह नहीं। सबकी आखों में एक सी जलन..रिबेलियस होने के तो मूर्खता मान लिया गया है।
 
    Ajay Nautiyal lagbhag 2 saal pahle desh ke rajdhaani ke ek pratishtith rashtriya akbhar samuh ke sampadak mahodaya se baatchit me unhone bhi maana tha ki we apne bachchon dwara is peshe ko naa chunane ke faisle par jyada khush hain.. lekin ek sawaal par waajib afsos bhi raha jab hamare aapke beech se hi kuuch tathakathit buddhijeevi patrakar media sansthanon me jaakar sunhare sapno ki tasveer pesh kar rahe hote hain, bajaay paardarshita dikhane ke..
   
    Raahul Saumitra Media me ane se pahle mai v es tarah ke logo se nafrat karta tha..jo media me na ane ki salah dete the..lekin ab mai khud logo ko mana karta hoon..jabki media me mera ab tak safar theek thak raha hai..
    
    Pankaj Shukla Prashant Pandey – कह दो कोई न बने पत्रकार…।
     
    Pankaj Shukla Ajay Nautiyal – पत्रकारिता का बेड़ा गर्क करने में इन स्कूलों ने भी कोई कोताही नहीं बरती। ये सपने दिखाते हैं, बच्चे पैसे खर्च करके सपने देखते हैं और फिर निकल पड़ते हैं इसी कीमत वसूलने।
     
    Yogesh Garg जयपुर में एक वरिष्ठ पत्रकार जिन्होने सारी उम्र इस पेशे मे निकाल दी उनसे सलाह लेने गया था कि इस पेशे मे हाथ आजमाया जाये की नही ,मुझे बेहद रुचि है समाज की आवाज बनना चाहता हूं ।
    उन्होने दो बाते कही … "अपनी कलम को बेच सकते हो तो स्वागत है खुश रहोगे और सबको खुश रखोगे "
    और अगर हजम करने की ताकत नही है जमीर जोर मारता है तो भटकते रहो इस चैनल से उस चैनल, इस अखबार से उस अखबार … थक जाओ … घर वाले ताने मारने लगे तब छोड़ छाड़कर कोई और राह पकड़ लेना …
    उनका बेटा इन्जिनीयर है …
    
    Pankaj Shukla Raahul Saumitra – लोकतंत्र के इस चौथे खंभे में बाकी तीन खंभों को देखकर ही दीमक लगी, लेकिन इसकी तेज़ी हैरान करने वाली है।
     
    Anagh Sharma दुख और चिँता दोनोँ की ही बात है ये..
     
    Anand Shukla पत्रकारिता एक चौथें स्थान का हैं,पर फिर भी यह किसी से कम नहीं हैं और यही लोगो की सही-गलत का फैसला न कर जनता फैसला करती हैं,और लोगों को सही अंजाम तक लानें वाला एक पत्रकार ही हैं,चाहें कोई भी खबर होँ….खबर लानें वाला तो रिपोर्टर ही हैं।यें लोगों को जागरुक करतें हैं,और सत्य वचन से प्रदर्शित करते हैं।
     
    Deoki Nandan Mishra kya bat kahi pankaj ji aapne….bilkul sahi kaha aapne mai to apne kisi janne wale ko bhi patrkar banne ki salah nhi deta.
     
    Subhash Dave अंग्रेजी में एक किताब है .. नो माई सन नेवर.. किताब पुरानी है लेकिन इस पेशे पर आज भी पूरी तरह सटीक बैठती है।..
     
    Subhash Dave किताब में पत्रकार पिता अपने पुत्र को पत्रकारिता में आने के लिए क्यों मना करता है इसकी बातचीत बाप बेटे में लिखी गई है। मौका मिले तो जरूर पढ़ें।
     
    Mayank Negi ager sab esa hi karege to kya hoga ese mai……………kaha tak bacchege…………ese mai saamana karo
     
    Mayank Negi mai fir bhi patrakaarita hi karga…………..pata ni kyu………….par karuga……….
     
    Mayank Negi ji insaan patrkaarita mia fayde dekh kar raha hai…………..vo mat hi aaye to accha hai………….vese bhi ek baap apne bete ko kaise dalaai karte dekh sakta hai
     
    Avichal Sharma I think some things ..are inborn..if a person is a good in language and not comfortable in science stream ..he normally opts for creative field..Journ/adv..etc..he opts it coz of lack of options
 
    Ishita Mishra main tumhare vicharon se sahmat nahi hun avichal…esa kah kar tum patrakarita ka ek tarah se apman kar rahe ho…agar kuch ho nahi paye to journalism main ghus aao is bat main sahmati thodi mushkil hai…
 
    Ravi K Vaish Ek kurwa SACH..
   
    Neel Pant Pankaj je kya khubsorti se ek kadwa sach kahe diya apne . Maan ko chhogaye yah baat badhai sach ke liye.
    
    Praveen Vashishta Bhai saab aapki baat mai dam hai. meri vyaktigat soch ye h ki bachche jo banna chahe unhe banne den. Is peshe mai jayda problem un logo ke kaaran aai h jo khuch na ban paye to patrakar hi ban gaye. Electron media ke aane ke baad to glamour ka aisa rang chadha desh-dunia se bekhabar ek puri pidhi isme gus gai. Chote shaharo mai to halat ye h ki note ke badle channelo ki id kharid li gai h. Kai "Bhai log" rojana "shikar" ki talash mai nikalte hai.
     
    Avichal Sharma Ishita Mishra ..person should always play on his strength no matter how tough the field is…for ex..me ..If i would hav opted engineering i am sure..at present i would not hav completed it…Thats what i wanted to convey some qualities are inborn ..if u try to fit in a field blindly following others..or in lure of money ..u can meet a dead end..thats what i mean to say.. i am a journalist and would never disgrace it till i am in the arena.
     
    ईश्वर चन्द्र उपाध्याय ji bilkul sach kaha aapne..
     
    Roopendra Srivastava sach………….ek ……yeh bhi……sach
     
    Abhishek Nagpal koi cheez achhi ya buri nahi hoti sirf hamari soch usko aisa bna deti hai…
     
    Atul Singh politics aur acting ko chhodkar sabka yahi hal hai …kyonki har profession ki next generation kuch aur bhi kar sakti hai ….but ye dono ki next generation aur kuch nahi kar sakti ..
 
    Manoj Singh मैने ना तो देखा और ना ही सुना…….खुद मैं भी इसका समर्थक नहीं हूं…..

पंकज शुक्ला फिल्मकार और पत्रकार हैं. इन दिनों टीवी 9 मुंबई से जुड़े हुए हैं. उनका यह लिखा उनके फेसबुक वॉल से लिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *