जनसंदेश टाइम्स और पीएफ विभाग मिलकर पचा रहे दो साल से पीएफ

मैं 8 माह तक जनसंदेश टाइम्स गोरखपुर में कार्यरत था और मै परमानेंट कर्मचारियों में से एक हूँ. बड़े आश्चर्य का विषय है कि सरकारी पीएफ विभाग इस बात को जानते हुए कि आज तक गोरखपुर जनसंदेश टाइम्स के कर्मचारियों का एक भी रुपया खाते में नहीं जमा हुआ, कोई भी क़ानूनी कार्रवाई नहीं कर पा रहा. 
 
दो वर्षों के लगभग इस संस्थान को पूरे होने जा रहे हैं परन्तु आज तक किसी कर्मचारी का पैसा पीएफ खाते में नहीं जमा हुआ. इस बाबत कई ईमेल मैंने भेजा परन्तु कोई जवाब नहीं दिया गया. यहाँ तक कि कोई उच्च अधिकारी भी इसका जवाब नहीं दे रहा है. ये साफ़ जाहिर है के विभाग के अधिकारियों की मिली भगत है जिसका नतीजा है कि बिना रोक टोक जनसंदेश टाइम्स का कार्य प्रगति पर है. 
 
मै संस्थान छोड़ चूका हूँ और अपने पीएफ की जमा राशि के लिए प्रयासरत हूँ. कृपया आप इस आवाज को अपने न्यूज़ के माध्यम से प्रकाशित करें जिससे कुछ भ्रष्ट अधिकारियो कि आँखें खुले और अपने पद कि गरिमा का ध्यान रखते हुए कर्मचारी हित में कार्य करें.
 
भवदीय
अनुज पाण्डेय
पूर्व कर्मचारी 
IT विभाग जन्संदेश टाइम्स
गोरखपुर
 
नीचे अनुज पाण्डेय के द्वारा विभिन्न अधिकारियों को इस संबंध में भेजे गए मेल दिए जा रहे हैं
 
———- Forwarded message ———-
From: anuj pandey <anujforuandme@gmail.com>
Date: 2013/12/5
Subject: Fwd: मेरे भविष्य निधि की जानकारी (Aug 2012 – March 2013) ( यह मेल भविष्य निधि तथा श्रम मंत्रालय के ध्यानार्थ है )
To: cpfc@epfindia.gov.in, cvo@epfindia.gov.in, acc.csd@epfindia.gov.in, secy-labour@nic.in, acpandey@nic.in, "sro.gorakhpur@epfindia.gov.in" <sro.gorakhpur@epfindia.gov.in>, singh.balbir@nic.in, "ro.kanpur@epfindia.gov.in" <ro.kanpur@epfindia.gov.in>
 
 
यह मेल भविष्य निधि तथा श्रम मंत्रालय के ध्यानार्थ है 
 
मेरा ये प्रयास जून २०१३ से शुरु हुआ और आज तक कोई संज्ञान में लेने वाला नहीं है .
आप सभी सम्बंधित अधिकारियो से निवेदन है कि कर्मचारी हितों को ध्यान में रखते हुए इस ईमेल को संज्ञान में लेवें तथा आवश्यक कार्यवाही हेतु निर्देश जारी करे. 
मेरे अथक प्रयास के बावजूद गोरखपुर epf कार्यालय मुझे जवाब देने में आज तक असमर्थ रहा. 
महोदय बड़े आश्चर्य का विषय है के एक कंपनी जनसंदेश टाइम्स गोरखपुर विगत दो वर्षो से अपने कर्मचारियों का PF खाते में कुछ भी जमा नहीं कर रही और आपके विभाग को सूचना देने पर भी आज तक कोई कार्रवाई नहीं हो रही. क्या कोई ऐसा सरकारी नियम है जिसके तहत employer बिना PF जमा किये अपना संस्थान चला सकता है? अगर ऐसा कोई नियम है तो मुझे अवगत कराये. 
अब मुझे लगता है कि गोरखपुर EPF तथा जनसंदेश टाइम्स की आपस में कोई मिली भगत है जिसका परिणाम है कि आज तक बिना PF अकाउंट में पैसे जमा किये संस्ंथान आराम से कर्मचारियों के हितो का दमन करते हुए, बेरोक टोक चला रहा है. 
मेरे कई प्रयासों के बावजूद आज तक जवाब नहीं दिया गया. मुझे अपने परिवार को चलने के लिए अपने खाते का PF अमाउंट तुरंत दिलाने हेतु निर्देश जारी करें. 
 
आज तक ना तो लोकल स्तर से ना ही उच्च अधिकारियों के स्तर से कोई जवाब आया है. 
माना कि हमारे देश में करप्शन का स्तर बढ़ गया है परन्तु क्या इसका असर इतना है कि कोई भी विभाग तथा उच्च अधिकारी कर्मचारियों के अधिकारों को नज़रंदाज़ कर सकते हैं? 
 
मेरा आप लोगों से निवेदन है कि मुझे उस कानून के बारे में बताएं जिसके तहत कोई संस्थान बिना कर्मचारियों का PF जमा किये हुए कई वर्षो से अपना संसथान चला सके जैसा के मेरे केस में जनसंदेश टाइम्स ने किया और आज भी किसी कर्मचारी का कोई भी पैसा EPF खाते में नहीं जमा हो रहा है. 
 
कृपया इस ईमेल को पूरा देखे और मुझे निर्देशित करे कि मैं किस तरीके से अपने अधिकार के पैसे EPF विभाग से लूं. 
और अगर जनसंदेश टाइम्स गोरखपुर नियमों को ताक पर रख कर या अधिकारियों के साथ साठ गांठ कर अपना संस्थान चला रहा है तो इसकी जांच करा कर दोषियों को दण्डित करें. 
भ्रष्टाचार से ऊपर उठकर कर्मचारी हितों को ध्यान में रखते हुए इस मामले को संज्ञान में लेवें.
 
भवदीय
अनुज कुमार पाण्डेय
9984616125
गोरखपुर
 
———- Forwarded message ———-
From: anuj pandey <anujforuandme@gmail.com>
Date: Mon, Jul 29, 2013 at 10:36 AM
Subject: मेरे भविष्य निधि की जानकारी (Aug 2012 – March 2013)
To: "secy.president@rb.nic.in" <secy.president@rb.nic.in>
Cc: "sro.gorakhpur@epfindia.gov.in" <sro.gorakhpur@epfindia.gov.in>
 
Respected Mam,
After making so much effort regarding my Provident Fund release till date I am still struggling for solution. Though it is not possible to approach directly to Respected President but I am making this effort for solution . I am approaching to the higher officials because now the condition in country is getting worst as the small government units are not doing there part. And it is impossible for us to visit door to door for our rights . Mam please go through the below mail regarding my Provident Fund release . I have also attached a small reply from grievances cell of PF office Gorakhpur (UP) . 
It is my humble request from you to do some favour from your side if possible.
 
Regards
Anuj Kumar Pandey
 
 
———- Forwarded message ———-
From: anuj pandey 
Date: Monday, July 29, 2013
Subject: मेरे भविष्य निधि की जानकारी (Aug 2012 – March 2013)
To: m.sarangi@nic.in, rk.sharma56@nic.in, bs.bhatia@nic.in, m.sheshu@nic.in, hobaclko@cbi.gov.in, "m.kharge@sansad.nic.in" <m.kharge@sansad.nic.in>, "rk.kataria71@nic.in" <rk.kataria71@nic.in>
Cc: "sro.gorakhpur@epfindia.gov.in" <sro.gorakhpur@epfindia.gov.in>, usgrevance@rb.nic.in, rti-pmo.applications@gov.in
 
Kind attention 
Shri. Chirabrata Sarkar ( Rastrapati Bhawan)
Shri Sis Ram Ola, (Labour and Employment Minister)
 
Shri Syed Ekram Rizwi (Central Public Information Officer, Deputy Secretary, Prime Minister's Office)
 
Sir, 
It is very unfortunate that being a citizen of INDIA neither employer is taking care of his employees not government is able to pay attention to there citizens .  Really unfortunate Indian citizen I am. Despite my several request , till date no one is able to even suggest me for my provident fund amount release. I am pretty much sure that internally the PF department has send some technical explanation to the ministry or higher authority that my employer Jansandesh Times has not deposited the amount to PF office since they launched office in Gorakhpur. It seems that PF department is working in favour of companies not in favour of employees.  If PF department is saying that amount is not deposited then I want to know what action they have taken against them ??? As far my knowledge every employer has to deposit PF on monthly basis.  And Jansandesh Times Gorakhpur is working since Jan 2012 and till date not a single rupee is deposited. 
I know the government departments have specific technical answers about the grievances but is there any moral responsibility remaining in PF department??? 
In my first mail I have requested from them to guide me in getting my PF amount ASAP but they haven't replied  till date. The reply i have got is via there grievances cell for which i have complaint separately on epf india website (snapshot attached)
 
I have marked copy of this mail to previous senders as well as officers from Labour ministry , Rastrapati Bhawan and Centra Public office PMO Indai. I request from all the concern persons to take initiative and suggest.  
 
Anuj Kumar Pandey
9415321166
 
 
———- Forwarded message ———-
From: anuj pandey 
Date: Friday, June 28, 2013
Subject: मेरे भविष्य निधि की जानकारी (Aug 2012 – March 2013)
To: "sro.gorakhpur@epfindia.gov.in" <sro.gorakhpur@epfindia.gov.in>, "m.kharge@sansad.nic.in" <m.kharge@sansad.nic.in>, "rk.kataria71@nic.in" <rk.kataria71@nic.in>
Cc: "ro.kanpur@epfindia.gov.in" <ro.kanpur@epfindia.gov.in>
Respected Sir,
 
Till now I have not get any information or suggestion about my issue except from the greviances cell . The griviance cell informed me that Jansandesh Times is a new concerne and they have not uploaded the pf amount for 2012-13. Is there provision to be applied against the employers, if they are not depositing PF amount on time?? 
Every one knows this fact that pf amount was not deposited by Jansandesh Times Gorakhpur , but what can I do if they have not deposited amount .  I need my full and final PF amount and kindly suggest me in this direction. Its three months now since I left this organization. Do i have to wait for few years to get my money. Why not any action taken against the organzation for not depositing PF amount on monthly basis. These all point I amrequesting you to inquire and take some action so that I may able to get my amount. 
I am attaching the griviance reply for ur kind consideration.
My purpose of sending mail is to get my PF amount ASAP. If my approach is wrong then I am expecting some reply from the receivers of this mail. In case some legal actions needed from my side then do suggest to me.
 
 
Regards
Anuj kumar pandey
9654548728
 
 
On Monday, June 17, 2013, anuj pandey wrote:
To,
Shri. Mallikarjun Kharge,
Labour and Employment Minister
 
Sir, I need your help in resolving my Provident Fund related issue which I have mentioned below. Before sending this matter to you I have mailed my problem to the concern Gorakhpur PF office along with copies marked to seniors , but got no response till now. I am expecting some guidance from you because now a days employers were taking there employees for granted . In my case till date I don't know my PF status .Infact I have come to know from internal sources that till date no PF is deposited by the Employer Jansandesh Times Gorakhpur. I don't know whether this information is true or not but keeping in mind of and employees rights I need ur help in getting my PF.
 
Regards
Anuj Kumar Pandey
 
 
 
2013/6/14 anuj pandey <anujforuandme@gmail.com>
महोदय
मेरा नाम अनुज कुमार पाण्डेय है। आपको मेल लिखने का आशय जन्संदेश टाइम्स गोरखपुर में मेरी भविष्य निधि से सम्बंधित जानकारी ना मिलने के विषय में है।
श्रीमान जी मेरी नितुक्ति अगस्त 2012 में परमानेंट कर्मचारी के तौर पर आईटी विभाग में हुई । मैन मार्च2013 में त्यागपत्र दे दिया । तत्पश्चात मैंने संस्थान से निवेदन किया के मेरी तनख्वाह तथा pf जो बकाया है वो मुझे उपलब्ध करा देवें। बमुश्किल किसी तरह मुझे मेरी बकाया तनख्वाह तीन महीने बाद प्राप्त हुई। परन्तु आज तक मुझे मेरे pf की जानकारी बार-बार मांगने के बाद भी संसथान द्वारा उपलब्ध नहीं करायी गई। महोदय मुझे पैसों की तत्काल अवशाकता है क्यूंकि मैं अब नौकरी में नहीं हूँ और मुझे अपने पत्नी तथा 5 साल की बच्ची के पालन पोषण के लिए इसकी आवश्कता है। मेरे पास नियुक्ति से सम्बंधित मेल, कंपनी द्वारा खोले गए सेलरी अकाउंट का स्टेटमेंट तथा experiance certificate है। मुझे ये भी जानकारी मिली है की अभी तक किसी भी कर्मचारी का गोरखपुर में भविष्य निधि जमा नहीं की गयी है (यह जानकारी आतंरिक सूत्रों से प्राप्त हुई है) जो कि कर्मचारियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। महोदय मेरा आपसे सविनय निवेदन है कि इस मामले की गंभीरता को समझें और मुझे जल्द से जल्द मेरे हक के पैसे दिलाने की कृपा करें वरना मेरे या मेरे परिवार के किसी भी सदस्य के साथ किसी भी तरह से पैसों की वजह से अनहोनी के पूरे जिम्मेदार जनसंदेश टाइम्स गोरखपुर या इस ग्रुप के मालिकान होंगे।
कृपया इस मामले की जांच कर मुझे भी स्थिति से अवगत कराये तथा आगे की कार्यवाही के लिए मुझे निर्देशित करें।
 
भवदीय
अनुज कुमार पाण्डेय
09654548728
09415321166
 
अनुज पाण्डेय जनसंदेश टाइम्स, गोरखपुर के आईटी विभाग के पूर्व कर्मचारी हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *