जय गुरुदेव सतयुग तो नहीं ला पाए, खुद के लिए अरबों की संपत्ति बना गए

Anand Pradhan : मथुरा के एक चर्चित बाबा जय गुरुदेव कल गुजर गए…ये वही जय गुरुदेव हैं जिन्होंने ८० के दशक में दूरदर्शी पार्टी बनाई थी और लोगों को ‘सतयुग’ लाने का सपना दिखाते थे…१९८० के आसपास गाजीपुर में उनके नारे गांव-गांव और कस्बों दिखते थे और टाट पहने उनके भक्त भी…वे सत्ता में पहुँचने का सपना देखने लगे थे…१९८० से १९९७ तक उन्होंने चुनावों में अपने सैकड़ों प्रत्याशी उतारे…वे कहा करते थे कि जो अपने भक्तों को टाट पहना सकता है, वह उनसे कुछ भी करा सकता है…लेकिन सतयुग तो नहीं आया, अलबत्ता जय गुरुदेव ने अपने लिए ‘सतयुग’ का इंतजाम कर लिए…सुबूत है उनका आश्रम और अरबों की संपत्ति… बाबा रामदेव से कम भक्त नहीं थे उनके…फिर किस मुगालते में रहते हैं बाबा रामदेव?

        Shahid Akhtar मुगालते में रहने वाले बाबाओं की अभी कमी नहीं हैं…बाबा आएंगे और जाएंगे…यह सिलसिला शायद चलता रहेगा
 
        Manish Kumar Neurosurgeon Beyond examples and exceptions, success is different from efforts . . .
 
        Manish Kumar Neurosurgeon aise, mujhe bhi koee baabaa pasand naheen . . .
   
        Vimal Chandra Pandey zindagi jeete waqt pata kahan chalta hai ki ek din supurd-e-khak honge sapne bhi jism ke sath sath 😉
    
        Yashveer Kshatriya babao m dam ho ya na ho par maulvio m to dam hai…………….
     
        Shyam Krishna aur vah subhash chandra vasu vali bat kanpur men kya hua tha jara yah bhi likhen
      
        Rajshekhar Vyas ‎..ek bar jaygurudev ban ne se pahil inhi jay gurudev ne apne aap ko 67/68 main apne aap ko "subhash chandra bose "bhi ghoshit kiya tha aur janta ne unki khub pitai ki thi jab wo 1980 main baba bane tab is "tat baba 'ke khilaf raviwar main humne ek badi story bhi ki thi………
        
        Shalini Narayanan ‎Anand Pradhan ji, yeh vahi Jai Gurudev hain jinka Tajmahal jaisa mandir Agra ke raste mein bana hai?
         
        Puja Shukla वैसे ऐसे आरोप उनपर आजतक नहीं लगे थे, इनके समर्थक पूरे पूर्वांचल भर में थे बाबा की अपनी राजनैतिक पार्टी भी है
         
        Rakesh Gaurana Baba to wo ATM machine hain jo unake chaalak aur sansarik chele design karte hain. baba ke rahte parasites ki tarah muft ka maal udate hain. Baba to roz saadgipoorn jivan jite hain ya usaka naatak karte hue chale jate hain , unaki kamaai ka kuchh upayog nahin kar pate, jahir hain koi aur mauj karte hain
         
        Parmanand Shastri aap batlayen ham batlayen kya…
         
        Arbind Jha Anand sir kiya kisi ke marne ke upraant kya use pr aarop lagana kya thik hai?
         
        Saurabh Bajpai anad ji koi bhi baba ho sabhi k paas karodo ki sampati hai
         
        Saurabh Bajpai log raa dev ko terget kyo kar kare hai satya sai ko koi kuch kyo nahi kahta hia
         
        Matsyendra Prabhakar आस्था का कोई विज्ञान नहीं होता !!! कोई भी बाबा किसी को बाँधकर नहीं बुलाता भाई आनन्दजी, वह भी अपनी बुद्धि और कौशल से विचारों की उसी तरह से ‘खेती’ करता है जैसे कि समाज के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों से लेकर अनेक स्वयम्भू तबके और हम ‘नारद कुल’ के लोग करते हैं और बरबस कर रहे हैं! जनता मूर्ख है तो किसी बाबा ने उसको ज्ञानवान बनाने का ठेका तो नहीं ले रखा है! यह भारत में ही नहीं, अमेरिका-रूस-ब्रिटेन में भी होता है, ‘भगवान रजनीश’ से लेकर हरे राम-हरेकृष्णा और ‘इस्कॉन’ के उदाहरण साक्षात् हैं !!
         
        Tahira Hasan बाबा का अपने भक्तो को टाट के कपडे पहनवाना कोइ नया आरोप तो नहीं है …..जब की बाबा सामान्य कपडे पहनते थे ….. रही बात संपत्ति की को भारत के इस तरह के सभी बाबाओं ने जनता से अकूत संपत्ति इकठ्ठा की है और उनके भक्त भी अनगिनत होते है .यह लोग सतयुग लाने ,कैंसर ठीक करने या कृपा बरसाने के सपने दिखाते है . मुझे इस प्रकार के सारे बाबा एक जैसे लगते है..
         
        Adil Ahmad Khan sir bhakto ne to taat pahna per baba ne khud to poori umar resham pahna…
         
        Neeraj Saransh बाबाओं की हकीकत लोग कब समझेंगे…लगता है कि दसावतारों को पीछे छोड़ देंगे ये बाबा लोग…हर बार कोई नया चोला पहन…नई दुनिया का वादा करने चला आता है…हर बार हम भुलावे में आ जाते हैं…थमे ये सिलसिला…तो बेहतर होगा…हकीकत दिखाने के लिए आपका आभारी हूं सर
         
        Sandeep Gupta it is the way communication to make full to world. some body using spiritualism, some body using red flag, some body using cast-ism to fulfill their wealth and power.
         
        Sandeep Gupta people are not able understanding baba and political leaders their objective. they are involve only earning money. media is also involve in their game.
         
        Matsyendra Prabhakar धनञ्जयजी और धीरेन्द्रजी तरफदारी के लिये आपका शुक्रिया.
         
        Anil Shukla anandji, Mathura mein jis jagah jaigurudev ne apna tajmahaliya ashram bana rakha hai, wah UPSIDC ki zameen(jo darasal laghu udyogon ke liye avantit hetu prastavit hai) par avaidh kabze ke roop mein hathiyaya viraat plot hai. kuchh saal pahle UP. vidhan sabha ki standing committee ne is avaidh qabze se bedakhli ka prastav pass karke shasan ko diya tha tab se har saal jaanch ke naam par sthaniya DM. aur SSP. UP. shasan se is binah par6 maah ka stay maang lete hein ki wahan har 6 mahine par bhakton ka bhandara hota hai aur koyi karrvaee''law & order" ka sankat khada kar degi. kal mukhyamantri pita putra unke 'PARTHIV" shareer par malyarpan karke media se kah aaye the'' baba ke saath ek yug ka ant ho gaya." durbhagya se wahan moujood kisi patrakar bandhu ne ye nahi poochha ki kya ab rajneetigyon aur noukarshahon ki madad se dharmik pandon dwara sarkari zameeno par awaidh qabze ke yug ka ant ho gaya hai?
         
        Ramesh Kumar Singh Ham sochate hain ki india me illitiracy jyada hone ke karan aise baba falte fulte hai magar kaise kaise log inke chele hai,aap log jante hi hain.
         
        Mrityunjay Kumar Tripathi बाकी बातें एक तरफ, हमें उनका शाकाहारी का संदेश अच्‍छा लगा, जिसकी बदौलत सैकड़ों निरीह पशुओं की जान बच जाती है।
         
        Niranjan Kumar i agree your statenent
         
        Tiwari Rakesh YAH DUNIA AK JANGAL HAI VIBHINN BHANGIMAO KE SATH SATTA AUR SAKTI KA MAXIMUM BHAG PRAPT KARANA MANUSYA MATRA KA LAKSYA HAI.
         
        Yogesh Singh तो क्या इंसान प्रयास करना छोड़ दे ? नया इतिहास लिखने के लिए पन्ने जोड़ने ही पड़ते हैं . मैं नहीं जानता रामदेव क्या सोचते हैं . पर मैं ऐसा ही हूँ .

आनंद प्रधान के फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *