जाने किसने भड़ास के एकाउंट में तैंतीस हजार दो सौ रुपये डाल दिए!

Yashwant Singh : कल देर सुबह जब जगा तो फोन में कई मिस काल और कई मैसेज दिखे. एक मैसेज भड़ास के बैंक एकाउंट से संबंधित था. लिखा था कि तैंतीस हजार दो सौ रुपये भड़ास के एकाउंट में क्रेडिट हुए. पता मुंबई का दिया गया था.. वहां से किन्हीं सज्जन ने डाला है.. पर मैं अब तक नहीं समझ पाया कि इसे किसने डाला और क्यों डाला है.. कहीं से पैसा बिन मंगाए, बिन बुलाए आ जाए तो इसका स्वागत किया जाना चाहिए पर मैं कल से थोड़ा चिंतित परेशान हूं..

अगर किसी ने भड़ास को आर्थिक सपोर्ट के लिए डाला है तो उसे कम से कम मुझे सूचित तो करना चाहिए था ताकि उनका आभार प्रकट कर सकूं… ऐसे छुपे रुस्तम मददगारों (अगर वाकई किसी ने मदद के इरादे से डाला हो, वरना ये भी हो सकता है कि बैंक वालों की गल्ती से इधर माल आ गया हो और जैसे ही गल्ती उन्हें पता लगे, पैसा वापस लेकर इसे दुरुस्त कर दें) से आह्वान है कि कृपया मुझे निजी तौर पर अपनी पहचान बता दें… यह सब लिखते हुए एक गुदगुदी भी तो है कि यार बिना मेहनत के तैंतीस हजार दो सौ रुपये मिल गए… हुर्रे… पार्टी शार्टी करते हैं….

    Ashish Awasthi hum aate hain udhar
 
    Ankit Agrawal Bhaiya, humien de dijye apni chinta.
 
    Abhinav Shankar संभल कर रहें। पता चला की अम्बानी के ऑफिस से आया है ताकि कल को आपको भी बदनाम किया जा सके की भैया देखो यशवंत तो मिला हुआ है, पैसे ले चूका है। #नेटवर्क18 ;))
 
   डॉ. अजीत आप का तो मन गया रक्षाबंधन….भाईसाहब…
     
    Yashwant Singh Ankit Agrawal चिंता ता चिता ता…
     
    Shravan Kumar Shukla शाम अभी बाकी है गुरूजी! आइए! रंगदारी बाकी हम भी वसूलना सीख ही गए हैं! हाहाहा सही कहा..! सावधान करना जरुरी है
     
    Raajdeep Varshney bhaia gar galti nikli to klpd ho jayegi
     
    Yashwant Singh पार्टी लेने को इच्छुक लोगों से अपील है कि तुरंत घर से निकलें और फिल्म सिटी पहुंचें… वहीं एजेंडा तैयार कर उस पर फौरन अमल कर दिया जाएगा…
     
    Shravan Kumar Shukla ठीक है! हम हैं ही!
     
    Ashish Awasthi bhai 100 -100 gram laga ke chalte hain ….. aaj nipta hi dalenge unsabo ko
     
    Yashwant Singh Abhinav Shankar भाई, कह तो आप सही रहे हैं लेकिन यह सभी जानते हैं कि हम लोग किसी छोटे मोटे मित्र दोस्त यार से तो पट सकते हैं लेकिन राडियाओं और अंबानियों से कतई नहीं.. जब राडिया टेपकांड वाला मामला हुआ था तो उनकी पीआर एजेंसी का एक सीनियर बंदा हम लोगों से मिलने मीटिंग के लिए पीछे पड़ गया… सीपी में मिलना तय हुआ.. मैं अपने साथ एहतियातन एक थर्ड मैन, जो एक वेबसाइट के एडिटर हैं, उन्हें ले गया… वो डील करने लगा… मैं बीयर पीता रहा… फिर अचानक उसे गरियाना शुरू कर दिया.. नीचे पान खाने के लिए जाने के दौरान… उससे कहा गया कि हरामखोर जाकर राडिया आंटी से कह देना कि हम जैसे सड़कछाप लोग तुमसे नहीं मैंनेज हो सकते, मैनेज हमेशा बड़े लोग होते हैं.. मेरे साथ जो साथी थे, उनने खूब आनंद लिया.. Sanjay Tiwari जी गवाही देंगे… तो भइया.. हम आपसे मैनेज हो जाएंगे और अंबानियों से आशुतोष – राजदीप …
     
    आर्य आकाश सिंह अंकु Sir ji Party na karke Us paise se kisi ki sahayta kar dijiye…. Jisse apko Aatmasantusthi ho
     
    Yashwant Singh हे हार्य आकाश सिंह अंकु… आप शायद भड़ासी गिरोह के अंदरखाने की कार्यप्रणाली से नहीं परिचित होंगे… हम लोगों के यहां जरूरतमंद को ही पार्टी दी जाती है… और, पार्टी देकर जरूरतमंद के भीतर नाना प्रकार की नैतिक भावनाएं व जोश भरी जाती है जो इस बाजारू और मंदी की शिकार दुनिया से दो-दो हाथ कर टिके रहने के लिए बहुत जरूरी है…
     
    Siddharth Pandey woh meharbani kuchh aisi kar gaye…shukriya ka mauka tak nahi diya humein Rakshabandhan ki hardik badhai Gurudev…
     
    Shravan Kumar Shukla Yashwant Singh क्या बात कही गुरू! सही कहा.. रादियाओं से बड़े लोग सेट होंगे.! हम तो अपने मर्ज़ी के मालिक हैं! जय हो! अगर यह पैसा अम्बानी से आया है तो कहो कि और भेजें! हम सब खा लेंगे, लेकिन उनसे हाथ नहीं मिलायेंगे! जैसे अंग्रेजो का धन लूटकर उनके खिलाफ लड़ाई .. ठीक उसी तरह यहां भी होगा.! मुझे भी भिजवाओ.! आईटीआर में मेंसन कर दूंगा कि यह हराम का पैसा था.. जो दारू और मुर्गे में उड़ गया!
    
    Shravan Kumar Shukla हाहा सही है.. Yashwant Singh हे हार्य आकाश सिंह अंकु… आप शायद भड़ासी गिरोह के अंदरखाने की कार्यप्रणाली से नहीं परिचित होंगे… हम लोगों के यहां जरूरतमंद को ही पार्टी दी जाती है… और, पार्टी देकर जरूरतमंद के भीतर नाना प्रकार की नैतिक भावनाएं व जोश भरी जाती है जो इस बाजारू और मंदी की शिकार दुनिया के लिए बहुत जरूरी है…
     
    आर्य आकाश सिंह अंकु Ji jarur…. Mai apko to kuch bta nhi sakta per sayad is duniya kuch hit hone ke liye sahi marg per chalte hai lekin bad me we apna marg aur maksad sab kuch alag (desh droh) kar lete hai…
     
    Saima Ali IBN7 के निकाले गए 300 स्टाफ में बराबर बांट दो …200 रख लो.!!!!!!!!
     
    Ankit Agrawal Yashwant Dono hi lene ki liye main film city pahunch raha hu.
     
    Rajnikant Gupta जरूरी नहीं है कि जो पैसा आया है उस का उपयोग पार्टी आदि में खर्च किया जाये इस का उपयोग अन्दोलन में भी किया जा सकता है जिससे 300 पत्रकारों के साथ नए पत्रकारो के लिए भी रास्ता साफ हो सके ……..
     
    Sanjay Tiwari जब भगवान देता है तो इसी तरह छप्पर फाड़कर देता है। वैसे राडिया प्रकरण वाली घटना सही है। बतौर गवाह हम भी वहां मौजूद थे। यशवंत के व्यवहार से मैं भी हतप्रभ था। पहले तारीफ और मेल मुलाकात फिर गाली। बाद में यशवंत ने कहा कि ये साले दलाल हैं। आपको पता नहीं। इसी तरह लोगों को फंसाते हैं।
     
    Pawan Kumar Bhoot bank will demand…….again. by mistak
     
    Abhinav Shankar बिलकुल सही Yashwant जी, मेरा तर्क भी यही है। मैं यही कहना चाहता हूँ की शायद राडिया के मार्फ़त आपका स्वभाव जान गया है इसलिए तो बिना बताये पैसे डलवा रहा है। पटने वाले लोगो को तो बता के पैसे दिए जाते हैं। न पटने वाले लोगों पर ही ऐसे हथकंडे आजमाए जाते हैं। वैसे मुझे कोई शक शुबहा नहीं है की ये पैसे अम्बानी या अम्बानी के लोगों के अलावा और किसी ने डाले हों। भई जब अर्थव्यवस्था की अर्थी निकल रही हो, हर किसी को नौकरी की चिंता ऐसी हो को अब गयी, तब गयी। और व्यवसाय वालों का तो गिरते रूपये के बदौलत ये हाल होने जा रहा हो की इससे अच्छा भीख का धंधा कर ले – ऐसी हालत में तैतीस हज़ार का गुमनाम 'दान' करने की हैसियत तो अम्बानी की ही हो सकती है.
    
    Rajnikant Gupta पत्रकारिता का सही मिशन यशंवत जी पूरा कर रहे है पर अफसोस कुछ लोगो के कारण पत्रकारिता को आज लोग दूसरी नज़र से देखते है हमें जो पढाई के दौरान पढाया जाता है और हम जव काम करना शुरू करते है तो हमरे ऊपर बैठे लोग इस के मायने ही बदल देते है ….अव पत्रकारिता नाम के लिए होती है जिसे उद्मोगपति आपना रक्षा कबज वना कर इंस्तमाल कर रहे है ..
     
    Dhiraj Bhardwaj ऐसा नहीं है अभिनव जी कि तैंतीस करोड़ या तैंतीस लाख का गुप्त दान है जो सिर्फ अंबानी ही दे सकता है.. औऱ अभी तो शाम भी नहीं हुई.. हो सकता है रात तक भेजने वाले व्यक्ति या ग्रुप या दोस्तों का क्लब बता ही दे..
     
    Praveen Mishra yashwant ji aap patrkaro ki ladai ld rhe ho to aap ki chinta krne vaalo ki kmi nhi hai.
     
    David Vinay badhai ho balle balle
     
    Abhinav Shankar क्या करें Dhiraj ji, षड्यंत्रकारियों के बिच रह रह कर दिमाग कुछ conspiracy theorist सा हो गया है। और गलती मेरे अकेले की नहीं है- इस देश में ऐसे ऐसे पहुचे हुए षड्यंत्रकारी है की मेरी हर थ्योरी 100 प्रतिशत सही साबित हुई है।
    
    महेश जायसवाल 'जोगी' सैकड़ो पत्रकारों को आईबीएन ने बहार का रास्ता दिखा दिया तो आन्दोलन हो रहा है…. उन स्ट्रिंगरों का क्या जो नौकरी पर होते हुए भी फूटी कौड़ी के मोहताज़ हैं…क्या उन्हें भी कभी इन्साफ मिलेगा …या सौ दो सौ की दिहाड़ी मजदूरी जो कभी मिलने वाली नहीं….उसी पर संघर्ष जारी रहेगा…. कुछ कीजिये
     
    Vinayak Vijeta mujhe mat bhuliyega..jo vinayak ko bhulega wo mayawati wale hathi ka………pakad kar julega… sorry hanthi ka sudh likhna bhul gaya..
     
    Prakash Singh kuch hamare khate me bhi dal den…
     
    Anjum Parwez bhai is paisa se un saheed sainiko k nam par ek "dridra narayan bhoj" karwa dijiye.
     
    Anupam Singh ..और आर्थिक सपोर्ट कृपया "डॉलर्स" में ही करें..
     
    Sanjay Kumar · अगर पार्टी का मुहूर्त बने तो हमको मत भूल जाइएगा. अगर कहीं बैंक अपनी गलती सुधार ले तो बैठकर रोने में मैं साथ नहीं दूंगा.
     
    Nishar Siddiqui Jisne bhi paisa dala hoga wo aapse kuch ummid karta hoga…kripya uske paise ka sadupyog kare party me kharch kar barbad na kare… aapse yahi appeal hai…..
     
    Abdul Noor Shibli kuchh din dekh lein paisa account mein bacha rahe to party karein kahin wapat laut gaya to ……………..
     
    Hariom Garg गुप्तदान भी कोई शब्द होता है यशवंत जी ……!
     
    Vikash Singh party ke liye nhi patrakirita ke liye diya hoga…
 
    Shashi Bhushan Singh aisa na ho ki baad me denewala kah de ki aapne rangdari wasooli hai.
 
    Subhash Gupta Parti to banti hai dear!
 
    Prashant Singh yashwant bhaiya kabhi kabhi aap chhote bache ki tarah likhto bada maja ata hai
   
    Vijay Tiwari kya baat hai ?
    
    Surya Raj तुम जगते भी हो
     
    Shekhar Tripathi yes ! enjoy. aap kitno ka man todete ho. ho sakta hai kisi ka koi virodhi jo aap ki website ki news sae khus hua. aur nam samne nahi lana chata ho.

भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *