जिंदल को जेल भेजने की नहीं, जिंदल को क्लीन चिट दिलाने की मुहिम हुई शुरू

नवीन जिंदल इस सिस्टम के दोगलेपन के सबसे बड़े उदाहरण हैं. उन्हें जिन मामलों में जेल भेजा जाना चाहिए, उन्हें उन मामलों में क्लीन चिट दिलाने के लिए मुहिम शुरू कर दिया गया है. कोलगेट स्कैम को लेकर नवीन जिंदल के खिलाफ एफआईआर, उनके घर पर सीबीआई का सर्च आदि खबरों को मीडिया ने पी लिया. जी न्यूज को छोड़कर किसी मीडिया हाउस ने इस पर स्पेशल शो नहीं किया, कोई डिबेट आयोजित नहीं की, नवीन जिंदल के कारनामों को उजागर करने का बीड़ा नहीं उठाया.

ऐसा इसलिए क्योंकि जिंदल बड़ा आदमी है, जिंदल केंद्र में सत्ताधारी कांग्रेसी सरकार का खास आदमी है, जिंदल बड़ा उद्योगपति है, जिंदल कांग्रेस सांसद है, जिंदल भारत के भावी पीएम राहुल गांधी का खास है… इसलिए इस जिंदल से मीडिया के मालिकान या तो डरते हैं या फिर मैनेज हो जाते हैं. इसलिए चैनल वाले जिंदल को छोड़कर बाकी सभी खबरों पर हाय हाय कर रहे हैं.

ताजा मजेदार प्रकरण यह है कि जिंदल को जेल भेजने के लिए कहीं से कोई आवाज भले न उठी हो, उन्हें क्लीनचिट देने की आवाज उठ गई है. हरियाणा के कांग्रेसी नेता सुरजेवाला ने जिंदल के प्रति भाईचारा दिखाते हुए उन्हें क्लीनचिट दिए जाने की मांग की. इस बारे में टाइम्स आफ इंडिया में मनवीर सैनी की एक खबर प्रकाशित हुई है, जो इस प्रकार है…

Surjewala defends Navin Jindal, say Jindal will get clean chit as he has made no mistake

CHANDIGARH: Haryana public works (building and roads) minister, Randeep Singh Surjewala today expressed solidarity with Kurukshetra MP Navin Jindal, saying that he would get clean chit from investigating agencies. "NaveenJindal would get clean chit as he is innocent and he has made no mistake,'' Surjewala said. Surjewala was interacting with media persons after laying the foundation stone of SardarVallabhbhai Patel NirmanBhawan in Kaithal city.

The Haryana minister is apparently the first such Haryana Congressman who has supported industrialist turned politician, MP Navin Jindal. Recently, CBI has added Jindal, whose company Jindal Steel and Power has been allocated a coal block, in the case registered by it. Jindal and the former coal minister's names were added earlier this week.

Surjewala not only defended his party colleague and Kurukshetra MP but also trained his guns towards opposition parties in the state, as well national politics. He ruled out the possibility of formation or success of third front in the country, outright. "Third front has no future in the ensuing Lok Sabha elections as it neither has any policy nor any motive. The alliance made to enjoy power would never succeed," he said.

You go through the records from 1960 to 2004; one thing is clear that third front had never succeeded in providing stability within the group as well as in the country, he added. Referring to BJP, Surjewala minced no words in saying that Bhartiya Janata Party (BJP) should first decide that who would wear the crown. "At present, BJP is in a dilemma as to whom they should present the crown," Surjewala said, adding that the party which could not respect its seniors and did not know their culture and traditions, has no right to do politics.

टाइम्स आफ इंडिया में प्रकाशित Manveer Saini की रिपोर्ट.


इन्हें भी पढ़ें…

Coalgate scam: CBI conducts raid in Naveen Jindal’s residence
 
xxx
 
जिंदल पर रहम, जी वालों पर जुल्म… इस अंधेरगर्दी पर बाकी मीडिया वाले चुप क्यों?
xxx
 तो नवीन जिंदल के खिलाफ मुकदमें को इसलिए तूल नहीं दिया न्यूज चैनलों ने!
xxx
 नवीन जिंदल के भारत लौटते ही उनके घर में घुसी सीबीआई, कागजात ले गए
xxx
 कोल ब्लाक के लिए नवीन जिंदल ने सवा दो करोड़ रुपये घूस तत्कालीन कोयला राज्यमंत्री नारायण राव को दिया था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *