जी के जले जिंदल मीडिया मुगल बनने की तैयारी में, खरीद लिए चैनल!

''मीडिया के जले उद्योगपति और कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल आने वाले दिनों में नए मीडिया मुगल के अवतार में नजर आ सकते हैं. उनसे जुड़े सूत्रों ने बताया कि उन्होंने अपने ससुर व उद्योगपति अभय ओसवाल के मार्फत देश के एक सबसे बड़े न्यूज चैनल जो कि कांग्रेस और वाम के प्रति अपनी वफादारी तथा भाजपा-मोदी विरोध के लिए जाना जाता है, की 26 प्रतिशत की हिस्सेदारी खरीद ली है. 

उससे पूर्व जिंदल ने नार्थ-ईस्ट के एक प्रमुख न्यूज चैनल व उसके अधीनस्थ चैनलों को भी खरीद लिया है. नार्थ ईस्ट का यह चैनल नरसिम्हा राव सरकार में मंत्री रह चुके एक कांग्रेसी नेता का है, जिनका अपनी पत्नी से चैनल के स्वामित्व को लेकर विवाद चल रहा था…''

उपरोक्त जानकारी पंजाब केसरी अखबार में त्रिदीब रमण के मिर्च मसाला कालम में प्रकाशित की गई है. अगर उपरोक्त जानकारी सच है तो फिर जिस बड़े चैनल की बात की गई है वो एनडीटीवी है और जिस पूर्व मंत्री के चैनलों की बात कही गई है वो मतंग सिंह हैं जिनका अपनी पत्नी से विवाद चल रहा था.

वैसे अब सभी को मान लेना चाहिए कि ये बड़े छोटे न्यूज चैनल और बड़े छोटे अखबार किसी सरोकार या आम जनता के दुख दर्द को उजागर करने के लिए नहीं बल्कि पावर गेम में शामिल रहने और अपनी सत्ता धंधा बिजनेस बनाए रखने और बढ़ाते रहने के मकसद से चलाए जा रहे हैं. तो क्या आप कहेंगे कि ये कारपोरेट न्यूज चैनल और भीमकाय अखबार घराने आदि चौथा स्तंभ हैं? इन्हें धंधा स्तंभ कहें तो ज्यादा सटीक रहेगा क्योंकि इनके आड़ में बाकी धंधे खूब चमकाएं जाते हैं सो इन्हें धंधा स्तंभ कहना बिलकुल सटीक रहेगा. 

(कानाफूसी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *