ठगश्री को उसकी औकात समझा दी सर्वोच्च न्यायालय ने…

Sanjaya Kumar Singh : सहाराश्री तो गिरफ्तार हो गए। अब शायद वो निवेशक सामने आएं जिनके पैसे सहारा नहीं लौटा रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने मां की बीमारी के भावुक कारण पर भी राहत नहीं दी। काश इस देश में दूसरों का पैसा हड़पने वाले सभी लोगों से एक जैसा व्यवहार होता।

Harish Singh : हर मामले में मीडिया डिबेट दिखाती है क्या सुब्रत राय की गिरफ्तारी पर भी डिबेट दिखाया गया। मैं आज दिन भर टीवी नहीं देख पाया यदि कोई देखा है तो जरूर बताये। वैसे तो चैनल दिन भर चिल्लाते रहते हैं और आज …?

Samar Anarya : यहाँ सुप्रीम कोर्ट को आदेश देने के बाद मिनट मिनट मॉनिटर करना पड़ता है तब जाके सुब्रत रॉय की गिरफ्तारी होती है और आप समझे थे कि भारत नाम के 'लोकतंत्र' में क़ानून के सामने सब बराबर हैं. बड़े भोले बालम निकले आप तो …

Surendra Grover : भाई Ajit Sahni के स्टेट्स से मुझे याद आया कि अस्सी के दशक के पूर्वार्द्ध में सहारा के सर्वेसर्वा सुब्रतो रॉय पर छोटे छोटे निवेशकों का कोई एक हज़ार करोड़ रुपये हड़पने के आरोप लगे थे.. मुझे यह भी याद है कि उस समय सुब्रतो रॉय पर कई मुकद्दमें भी दर्ज़ हुए थे जिनमें पुलिस ने FR लगा कर उन मुकद्दमों को दाखिल दफ्तर कर दिया था.. मैं उस समय एक साप्ताहिक अख़बार निकाला करता था और उसमें मैंने पूरी रिपोर्ट प्रकाशित की थी… सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों का मखौल उड़ाने वाले ठगश्री को उसकी औकात समझा दी सर्वोच्च न्यायालय ने.. अब कम से कम चार मार्च तक के लिए सुब्रतो रॉय को सींखचों के पीछे जाना ही होगा…

Yashwant Singh : जरा हिंदी और अंग्रेजी न्यूज चैनलों को एक बार सर्फ करके देखिए कि किस किस पर सुब्रत राय की गिरफ्तारी और जनता से पैसे की अवैध उगाही को लेकर डिबेट चल रही है… मैं अभी टीवी के सामने नहीं हूं…

फेसबुक से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *