डीएम साहब पहले समलैंगिक संबंध बनाते धरे गए, अब महिला का यौन शोषण किया!

भोपाल। इनसे मिलिए यह हैं श्योपुर के कलेक्टर साहब ज्ञानेश्वर पाटिल। इनका और विवादों का चोली-दामन-सा साथ रहा है। हां, इनसे जुड़े विवाद कुछ अलग तरह के होते हैं। वर्ष 2009 में ज्ञानेश्वर पाटिल जब पंचायत विभाग में थे, तब एक पंचायत सचिव के साथ समलैंगिक संबंध बनाते रंगे हाथों धरे गए थे। अब उन पर श्योपुर के जिला शिक्षा केंद्र के राजीव गांधी मिशन के तहत डाटा एंट्री का काम करने वाली महिला ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। यह मामला इन दिनों मीडिया की सुर्खियों में है। महिला ने इस मामले की शिकायत मध्य प्रदेश मानवाधिकार आयोग में की है।

वर्ष 2009 में पंचायत सचिव के साथ समलैंगिक संबंध बनाने के आरोप में फंसने के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया था। उसके बाद से वे लूप लाइन में थे। दरअसल, आईएएस एसोसिएशन इनकी बहाली चाह रही थी, जबकि पंचायत सचिव संगठन आईएएस को बर्खास्त करने की मांग पर अड़ा था। हालांकि, उस समय तक यही माना जाता रहा था कि पाटिल पर पंचायत सचिव द्वारा लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं, लेकिन श्योपुर की घटना के बाद अब कोई भी उनके पक्ष में मुंह खोलने को तैयार नहीं है।

श्योपुर के जिला शिक्षा केंद्र के राजीव गांधी मिशन के तहत डाटा एंट्री का काम करने वाली एक महिला ने कलेक्टर ज्ञानेश्वर पाटिल पर यौन शोषण का आरोप लगाया है। इस मामले का संज्ञान लेते हुए आयोग ने चंबल संभाग के कमिश्नर से जांच रिपोर्ट मांगी थी। चंबल कमिश्नर ने स्वयं जांच न करते हुए कलेक्टर से ही पूछ लिया। इस पर नाराज होते हुए आयोग ने चंबल संभाग के कमिश्नर को फटकार लगाई। आयोग ने मुख्य सचिव को पत्र लिखकर 15 दिन के अंदर इस मामले की रिपोर्ट मांगी है। इधर त्वरित न्याय न मिलने के कारण महिला ने हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ में याचिका लगाई। इस मामले में हाईकोर्ट ने पांच लोगों को नोटिस जारी किया है।

मानवाधिकार आयोग के संयुक्त संचालक जनसंपर्क रोहित मेहता ने बताया कि श्योपुर के जिला शिक्षा केंद्र के राजीव गांधी मिशन के तहत डाटा एंट्री का काम करने वाली महिला ने मानवाधिकार आयोग में शिकायत की थी कि श्योपुर कलेक्टर ज्ञानेश्वर बी पाटिल उसके साथ अश्लील हरकत करते हैं। वो उस पर शारीरिक संबंध बनाने के लिए दबाव डाल रहे हैं। कलेक्टर की मांग पूरी न करने के कारण कलेक्टर के कहने पर राज्य शिक्षा केंद्र ने उन्हें पांच माह से वेतन नहीं दिया और उसकी सीआर खराब कर दी।

मानवाधिकार आयोग ने इस मामले को संज्ञान में लेते हुए कमिश्नर चंबल से पूरे मामले की जांच रिपोर्ट मांगी थी। कमिश्नर चंबल ने दोनों पक्षों को न बुलाकर, केवल कलेक्टर ज्ञानेश्वर बी पाटिल को आयोग का पत्र भेजकर मामले की जानकारी मांगी। ज्ञानेश्वर बी पाटिल ने खुद को बेगुनाह बताते हुए महिला के चरित्र पर कई तरह के आरोप लगाए। कलेक्टर द्वारा दिए गए स्पष्टीकरण को कमिश्नर ने आयोग को भेज दिया। अधूरी जांच और एक पक्ष द्वारा दिए गए स्पष्टीकरण से नाराज आयोग ने कमिश्नर को फटकार लगाते हुए लिखा है कि अधूरी जांच रिपोर्ट से स्पष्ट हो रहा है कि कलेक्टर ज्ञानेश्वर बी पाटिल को बचाने की कोशिश की जा रही है। आयोग ने इस मामले में मुख्य सचिव को पत्र लिखकर पूरे मामले की जांच रिपोर्ट मांगी है।

हाईकोर्ट ने भेजा नोटिस : महिला को मानवाधिकार आयोग से त्वरित न्याय नहीं मिला। इस मामले में महिला ने 9 नवंबर 2012 को शिकायत की थी। इसके बाद महिला ने हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ में याचिका लगाई थी। इस पर सुनवाई करते हुए खंडपीठ ने पांच लोगों को नोटिस भेजा है।

शबनम के साथ रात बिताने आतुर थे : ज्ञानेश्वर पाटिल श्योपुर जिले के पूर्व कलेक्टर की पहली पत्नी के साथ रात बिताने के लिए ज्यादा ही आतुर थे। इस संबंध में शबनम ने प्रदेश के मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव को कुछ वीडियो क्लिप्स भेजे हैं। ये वीडियो क्लिप्स दैनिक भास्कर डॉट कॉम के पास भी उपलब्ध हैं। जिला शिक्षा केंद्र में पदस्थ शबनम खान पर पाटिल इस कदर मोहित थे कि उनके साथ गेस्टहाउस में रात बिताने के लिए उन्होंने जिला परियोजना समन्वयक केसी गोयल और अपने कार्यालय के जमादार भोलाराम आदिवासी को शबनम के पीछे लगा दिया था। यही नहीं, पिछले दस साल से बेहतर सीआर पाने वाली शबनम की सीआर बिगाड़ी गई और उनका वेतन भी रोका गया। मजबूरी में शबनम ने कलेक्टर के दूत के रूप में काम करने वाले भोलाराम आदिवासी से बातचीत की और छुपे हुए कैमरे से वीडियो बना लिया।

अर्धनग्न हालत में पकड़े जा चुके हैं : ज्ञानेश्वर पाटिल वर्ष, 2009 में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के दफ्तर में अर्धनग्न हालत में पकड़े गए थे। घटना के वक्त मीडिया के लोग वहां मौजूद थे। दरअसल,  एक पंचायती कर्मी ने आरोप लगाया था कि ज्ञानेश्वर पाटिल धमकी देकर उसका यौन शोषण करते हैं।

पाटिल इसलिए बनाए गए थे कलेक्टर : कलेक्टर बनने से पहले मध्यप्रदेश कॉडर में वर्ष 2003 बैच के आईएएस ज्ञानेश्वर पाटिल ऐसे अधिकारी रहे हैं, जिनके जूनियर कलेक्टर बने, लेकिन उनको मौका नहीं दिया गया। बाद में आईएएस एसोसिएशन के दबाव में लॉबिंग के चलते उन्हें श्योपुर का कलेक्टर बना दिया गया। (भास्‍कर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *