डीके दुनिया का पहला रोबोट है जिसकी शक्ल और हरकतें इंसान के इतना करीब हैं (देखें तस्वीर)

Sanjay Sinha : आखिर आदमी ज़िंदा क्यों रहना चाहता है? वो कौन सी शक्ति है जो आदमी को जीवित रहने के लिए मजबूर करती है? हो सकता है आपके जेहन में ये सवाल कभी उठा हो, हो सकता है आपने कभी इस बारे में सोचा ही न हो। हम और आप सोचें या न सोचें कोई फर्क नहीं पड़ता। दुनिया के फिलॉसफरों ने इस पर बहुत सोचा है। ईसा मसीह का कहना था, "आदमी भावनाओं की वजह से जीना चाहता है।"

किसी ने धर्म को जीवन का आधार माना, तो किसी ने भूख को। फ्रॉयड जैसे फिलॉसफर ने तो सेक्स को ही जीवन का आधार ठहरा दिया। और आइंस्टाइन जैसे फिलॉसफर ने जीवन को सापेक्षता के सूत्र में पिरो दिया। पर सवाल वही रहा कि हम जीवित क्यों हैं? मैं जानता हूं सवाल मुश्किल है। हमारे जीवित होने की कोई ठोस वजह हम तलाश ही नहीं पाते। ज्यादातर लोग क्योंकि जीवित हैं, इसलिए जीवित हैं। अब देखिए न दो दिन पहले मैं डेनमार्क के एक दंपति से मिला – मिस्टर एंड मिसेज हेनरिक शार्फ (Henrik Schärfe) से।

आप लोगों में से बहुत लोगों ने इनका नाम सुना होगा और जिन लोगों ने नहीं सुना उनसे मेरी गुजारिश है कि इंटनेट पर इनके बारे में पढ़े। हां, तो हेनरिक शार्फ एक नौजवान वैज्ञानिक हैं, और दिल्ली आए थे इंडिया टुडे कॉन्कलेव में। मैंने उनके बारे में पढ़ा था, और उनके भारत आने की खबर से ही उत्साहित था। मैं जानता था कि उनके साथ उनका एक दोस्त होगा – जिसे वो प्यार से जिमोनाइड डीके (Geminoid-DK) बुलाते हैं। मैं सिर्फ डीके बुलाउंगा।

डीके बहुत खास दोस्त है। एक बार आप उससे मिलेंगे तो आप भी उन्हें अपना दिल दे बैठेंगे। डीके से मैं मिला। जैसे ही मैं उसके पास गया मुड़ कर उन्होंने मेरी ओर देखा और फिर अपनी नीली-नीली आंखें मटकाईं। मैं जानता हूं कि अब आप मुझसे ज्यादा दिलचस्पी डीके में लेने लगे हैं…और अब आप बाकी की कहानी डीके के मुंह से सीधे सुनना चाहते हैं।

अफसोस…डीके आपको अपनी कहानी खुद नहीं सुना सकता। छह फीट का डीके, नीली आंखें, भूरे बाल, एकदम छरहरा बदन और शानदार सूट में इतना जंच रहा था कि क्या बताऊं। और उसके साथ सोफा पर बैठे थे हेनरिक शार्फ। अब आपको डीके की कहानी सुननी हो तो मिस्टर शार्फ ही सुना सकते हैं। मिस्टर शार्फ ने मुझे बताया कि डीके की उम्र करीब तीन वर्ष है। हालांकि दोनों आज चालीस साल के दिखते हैं, दोनों के बाल, कपड़े, रंग रूप सब एक जैसे हैं…बस फर्क इतना सा है कि मिस्टर शार्फ भावुक इंसान हैं, और डीके बिल्कुल भावुक नहीं।

बस यही फर्क मैं समझ सकता था मिस्टर शार्फ और डीके के बीच। मिस्टर शार्फ बता रहे थे कि उन्होंने डीके के लिए एक दफ्तर बना रखा है। रात में जब डीके सोता है तो उसके लिए वो बत्ती बंद करते हैं और गुडनाइट कहते हैं। सुबह फिर गुडमार्निंग कहते हैं, उसके बदन की सफाई करते हैं, कपड़े दुरुस्त करते हैं। मिस्टर शार्फ ही नहीं, उनकी पत्नी भी डीके की भरपूर सेवा करती हैं। उसकी हर छोटी-मोटी जरुरतों का ध्यान रखती हैं।

डीके का जन्म मिस्टर शार्फ की पत्नी की कोख से नहीं हुआ, ना ही वो उनका कोई रिश्तेदार है। लेकिन अगर आप मिस्टर शार्फ से मिलेंगे और डीके के प्रति उनके प्यार को देखेंगे तो चौंक जाएंगे। आप सोच ही नहीं सकते कि डीके कोई जीते जागते मनुष्य नहीं। वो एक रोबोट हैं। सिलिकॉन और तमाम इलेक्ट्रिानिक उपकरणों से बना एक रोबोट। मिस्टर शार्फ लड़ाकू पायलट नहीं बन पाए तो वैज्ञानिक बन गए। इलेक्ट्रानिक उपकरणों से उनका प्यार उन्हें जन्म देने पर मजबूर किया डीके यानी एक ऐसे रोबोट को, जिसे देख कर आपको उससे प्यार हो जाएगा। तमाम शोधों में डीके अब मि. शार्फ की मदद करता है।

मैंने देखा कि मिस्टर शार्फ जिस वक्त मुझे डीके से मिला रहे थे, उस वक्त कोई तकनीकी समस्या आ गई और डीके की हरकतें कुछ समय के लिए बंद हो गईं तो मिस्टर और मिसेज शार्फ की आंखें नम गई थीं। अपने रोबोट की कुछ तारों को कैंची के काटते हुए वो बहुत उदास हो गए थे। और जब डीके की हरकतें वापस लौट आईं, तो मिस्टर शार्फ की आंखों में चमक लौट आई थी।

बेशक उस इलेक्ट्रानिक मनुष्य में भावनाएं नहीं, लेकिन उस प्लास्टिक के मनुष्य के लिए मिस्टर शार्फ के भीतर भावनाओं का जो ज्वार भाटा है…वही फर्क करता है…किसी के आदमी होने और नहीं होने में। वही फर्क करता है जीने में और जिंदा रहने में। वह साबित करता है कि सचमुच आदमी भावनाओं की वजह से जीता है, वर्ना वो प्लास्टिक का आदमी भी जी रहा होता। आप भी तस्वीर देखिए मिस्टर शार्फ और डीके की – और हमें बताएं कि कौन है ईश्वर के हाथों बनाया आदमी…और कौन आदमी का बनाया आदमी? किसकी आंखों में आप भावनाएं देख रहे हैं, और किसकी आंखें बिना भावनाओं की हैं? और कौन जी रहा है…और कौन नहीं?

डीके दुनिया का पहला रोबोट है जिसकी शक्ल और हरकतें इंसान के इतना करीब हैं। वो बातें कर सकता है, गर्दन घुमा सकता है, आपके सामने ऐसे पेश आ सकता है मानो वो सब सुन और समझ रहा हे। जब मैं पहली बार डीके से मिला तो वो अकेला कुर्सी पर बैठा था और मैंने हैलो कह कर हाथ मिलाने की कोशिश भी की। उसे कोई भी इंसान मान लेगा…लेकिन अफसोस वो जीवित नहीं, क्योंकि उसमें भावनाएं नहीं।

टीवी टुडे ग्रुप में कार्यरत वरिष्ठ पत्रकार संजय सिन्हा के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *