तहलका के बयान से पीड़िता असंतुष्ट, तेजपाल पर कानूनी कार्रवाई की मांग तेज

तहलका के सम्पादक तरुण तेजपाल पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली महिला पत्रकार ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा है कि वह "तहलका द्वारा के बयान से बहुत निराश है." तहलका के कर्मचारियों के इस कार्यवाही से संतुष्ट होने की बात पर उसने कहा कि ये बिल्कुल गलत है. "तहलका में अभी लोगों के सामने मेरी गवाही को नहीं रखा गया है उन्हें केवल तरुण का पत्र दिया गया है."
 
कल शाम तरुण तेजपाल ने घटना की स्वीकारोक्ति के बाद तहलका से खुद को 6 महीने के लिए अलग कर लिया था. ये मामला इसी महीने गोवा में पत्रिका की तरफ से हुए एक कार्यक्रम से सम्बन्धित है जिसमें दुनिया की कई हस्तियां पहुंची थीं.
 
इस घटना पर महिला कार्यकर्ताओं ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि इतनी बड़ी घटना के लिए ये कदम निहायत ही अनुचित और अपर्याप्त है. उन्होंने इसके लिए कानूनी कार्रवाई की मांग की है. राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्या निर्मला सामन्त ने कहा है " ये क्या है कि कोई अपराध करता है और फिर उसके लिए खुद ही सजा तय कर लेता है. ये सही नहीं है, इसके लिए हमारे पास न्यायपालिका है."
 
महिला कार्यकर्ता कविता कृष्णन जो पीड़िता की करीबी रह चुकी हैं, ने कहा, कि इस घटना पर तहलका की कार्रवाई अपर्याप्त और चौंकाने वाली है. इसके लिए कानून है जिसकी एक प्रक्रिया है और उसकी जगह कोई प्रायश्चित नहीं ले सकता. मैं चकित हूं कि तहलका ने ये दावा किया है कि शिकायतकर्ता पूरी तरह से संतुष्ट है जबकि शिकायतकर्ता ने मुझसे कहा है कि वह संतुष्ट नहीं है.
 
यौन शोषण की शिकार महिला पत्रकार ने तरुण तेजपाल से लिखित माफी की मांग की है. वहीं पूर्व आईपीएस अधिकारी किरन बेदी ने कहा है कि तहलका को ये स्पष्ट करना चाहिए कि क्या उनके पास तरह की यौन उत्पीड़न की शिकायतों के निपटारे एवं जांच के लिए कोई आंतरिक कमेटी है. (एनडीटीवी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *