दिल्ली पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार का संबंध हथियार दलाल से रहा है : प्रशांत भूषण

नई दिल्ली : पांच साल की बच्ची से बर्बर रेप के बाद लोगों का आक्रोश सातवें आसमान पर है। दिल्ली पुलिस रेप के मुद्दे पर चौतरफा घिरी हुई है और पुलिस कमिश्नर को बर्खास्त करने की मांग चरम पर है। नीरज कुमार को बर्खास्त करने की मांग न केवल बीजेपी और आम आदमी पार्टी कर रही है बल्कि कांग्रेस की तरफ से भी उठ रही है। इन मांगों के बीच आम आदमी पार्टी के सदस्य और सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील प्रशांत भूषण ने नीरज कुमार पर कुछ दस्तावेजों का हवाला देकर गंभीर आरोप लगाए हैं।

प्रशांत भूषण ने सोमवार शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि दिल्ली पुलिस कमिश्नर के संबंध नेवी वार रूम केस के आरोपी अभिषक वर्मा से रहे हैं। गौरतलब है कि अभिषेक वर्मा का नाम इंटरनैशनल हथियार दलाली में प्रमुखता से लिया जाता है। अभिषेक वर्मा रक्षा सौदों में दलाली के आरोप में फिलहाल जेल में बंद है। अभिषेक वर्मा पूर्व कांग्रेसी नेता श्रीकांत वर्मा का बेटा है।

आम आदमी पार्टी से जुड़े प्रदर्शनकारियों के बीच प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए प्रशांत भूषण ने कहा कि नीरज कुमार को पद से बर्खास्त केवल इसलिए नहीं किया जाए कि वह दिल्ली में रेप की बढ़ती वारदात को रोकने में नाकाम रहे हैं बल्कि इसलिए भी किया जाना चाहिए कि उनके रिश्ते हथियारों की दलाली करने वाले अभिषेक वर्मा से रही है। उन्होंने हथियार दलाल अभिषेक वर्मा के सहयोगी एडमंड्स अलेन के उस खत का हवाला दिया जिसने सरकार को पहले ही लिखकर आगाह किया था कि नीरज कुमार का संबंध हथियार दलालों से है।

प्रशांत भूषण ने कहा कि जब नीरज कुमार सीबीआई में जॉइंट डायरेक्टर थे तब उन पर भ्रष्टाचार के कई आरोप थे। भूषण ने कहा कि जॉइंट डायरेक्टर रहते हुए नीरज कुमार ने अभिषेक वर्मा को बचाने की कोशिश की थी। उन्होंने आरोप लगाया कि कहा कि नीरज कुमार कभी अभिषेक वर्मा के करीबी रहे हैं।

उधर, दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने आम आदमी पार्टी के इन आरोपों पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। नीरज कुमार ने कहा कि प्रशांत भूषण ने इससे पहले भी अपमानजनक, हास्यास्पद और बेबुनियाद आरोप लगाए हैं। मैंने इन आरोपों के बाद प्रशांत भूषण के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है। नीरज कुमार ने कहा कि मुझे पता है कि ये सारी कोशिशें मौके का फायदा उठाकर बदनाम करने की है। कुछ लोग मेरा पर्सनल नुकसान पहुंचाने का इरादा रखते हैं। प्रशांत भूषण ने इससे पहले भी मुझे बदनाम करने की कोशिश की है।

उन्होंने कहा, यह आरोप एक ऐसे व्यक्ति के इशारे पर लगाए गए हैं जो सीबीआई में मेरे कार्यकाल के दौरान मेरी अगुवाई में हुई जांच में आरोपी ठहराए गए थे। उन्होंने सेवानिवृत्त नौकरशाह एमजी देवासहायम को एक कानूनी नोटिस भेजा है, जिन्होंने इसी तरह के आरोप लगाए थे।  (पीटीआई)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *