देखिए और पढि़ए.. स्‍वतंत्र ‘वीरू’ मिश्रा के किसी ”शुभचिंतक” की मेहनत

सहारा मीडिया के पूर्व हेड स्‍वतंत्र मिश्रा दो दिन पूर्व सुर्खियों में रहे. हालांकि वो चाहते तो शायद यह खबर सुर्खी नहीं बनती, लेकिन आदत से मजबूर मिश्रा जी ने मौके पर चौका मारने की सोची, परन्‍तु रन आउट हो गए. लखनऊ विश्‍वविद्यालय की एलएलबी परीक्षा में नकल करते पकड़े गए तो पत्रकार होने की हेकड़ी काम नहीं आई. पहले अध्‍यापकों को अर्दब में लेने की पहली रणनीति अपनाई. यह बेकार चली गई.

दूसरी रणनीति श्राप देने की अपनाई. सबको दुश्‍मन बताते हुए शापित करने लगे. पता नहीं कौन से भगवान को कन्‍फ्यूज किए, यह पता नहीं चल पाया, हां यह योजना भी फेल हो गई. इसके बाद मिश्रा जी आखिरी पैंतरा अपनाते हुए शोले के 'वीरू' बन गए. छत पर चढ़ गए और कूदने की धमकी देने लगे. लेकिन यहां भी लोग 'मौसी' बनकर उन्‍हें नीचे उतार लाए. इसके बाद यह सूचना जंगल के आग की तरह चारों तरफ फैल गई.

लखनऊ के सभी अखबार वालों को खबर हो गई. सभी अखबारों ने इन्‍हें प्रमुखता से प्रकाशित की. अब मिश्रा जी के शुभचिंतकों की कोई कमी तो है नहीं, लिहाजा उनके एक शुभचिंतक ने लखनऊ के कई अखबारों में प्रकाशित खबर की कटिंग बहुत ही मेहनत के साथ भड़ास के पास भेजी है. हम उनकी मेहनत को सम्‍मान देते हुए सारी कटिंग नीचे प्रकाशित कर रहे हैं.   


मूल खबर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंकों पर क्लिक करें – नकल करते पकड़े गए सहारा मीडिया के पूर्व हेड स्‍वतंत्र मिश्रा बने शोले के वीरू

हिंदुस्‍तान और जागरण में भी पढि़ए नकलची 'वीरू' मिश्रा की कारस्‍तानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *