नागपंचमी पर इंडिया टीवी ने दिखाई फर्जी खबर

अपनी खबरों को लेकर हमेशा संदिग्‍ध विश्‍वसनीयता में रहने वाले इंडिया टीवी ने एक बार फिर फर्जी और गलत खबर चलाई है. मामला 24 जुलाई का है. इंडिया टीवी ने 24 जुलाई को खून के प्‍यासे गांव नाम से खबर चलाई थी. खबर यूपी के चंदौली जिले का था. इस खबर पर जो फुटेज चलाई गई वो एक साल पुराना था. जबकि इस साल ऐसा कोई आयोजन हुआ ही नहीं. 

 
दरअसल मामला चंदौली जिले के दो गांवों का था, जहां सदियों से परंपरा चली आ रही थी कि इन दो गांवों के लोग नागपंचमी के दिन एक दूसरे पर पत्‍थरबाजी करते थे. और जब तक किसी को खून नहीं निकल आता था तब तक यह पत्‍थरबाजी चालू रहती थी. ये सारा खेल प्रशासन के सामने चलता था. इस अंधविश्‍वास के बारे में मान्‍यता थी कि अगर पत्‍थरबाजी का खेल नहीं हुआ तो गांव में महामारी फैल जाएगी, फसल अच्‍छी नहीं होगी या सूखा पड़ जाएगा. 
 
लिहाजा नामपंचमी पर यह खेल हमेशा चलता आ रहा था, परन्‍तु इस बार कुछ बुद्धिजीवियों ने सदियों से चले आ रहे इस अंधविश्‍वास को खतम करने का फैसला किया. इस कुप्रथा का अंत करवाने के लिए प्रवचन का कार्यक्रम रखा गया, जिसके लिए दोनों गांवों के लोग तैयार हो गए. इसलिए इस साल पत्‍थरबाजी की कोई घटना नहीं हुई, लोग प्रवचन सुनकर नागपंचमी का त्‍योहार मनाया, लेकिन इंडिया टीवी ने पत्‍थरबाजी की फर्जी खबर दिखाकर ना सिर्फ दर्शकों के साथ छल किया बल्कि खुद की विश्‍सनीयता पर भी सवाल खड़ा किया.
 
 
 
 
एक पत्रकार द्वारा भेजा गया पत्र. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *