निशिकांत ठाकुर का किला ध्वस्त होने की ओर

साथियों, दैनिक जागरण में आज जो हड़कंप मचा है, उसकी एक मात्र वजह इसके मुख्य महाप्रबंधक और स्थानीय सम्पादक निशिकान्त ठाकुर ही हैं. जिस संस्थान ने उसे एक क्लर्क से इतने बड़े पद पर भेजा, उसी संस्थान का बेड़ा गर्क करने की कोई कसर इस महानुभाव ने नहीं छोड़ी. जालंधर में तीन अलग अलग गोत्र वाले लोगों – a.c. chandra, b.c. mishra, kavilash batsal- (ये तीनों इसके सगे साले हैं) को भरती किया.

तीनों का अगर आज टेस्ट ले लिया जाये तो पांचवीं कक्षा न पास होगी इनसे. लेकिन ख़ुदा मेहरबान तो गधा पहलवान वाली कहावत इन पर लागू होती है. तीनो गधे जीजा जी की कृपा से मालदार हो चुके हैं. एक भांजा जो दैनिक जागरण से निकाला जा चुका था, उसको फिर से लाकर न केवल नौकरी दी बल्कि चीफ रिपोर्टर भी बनाया. आजकल चंडीगढ़ में है. अगर एक भी खबर कोई ब्रेक की हो तो उसका नाम बताये! निशिकांत ने मामा जी नाम के एक JHA sahib को जालंधर में रखा है…कहते हैं बिहार के हैं और रिश्तेदार हैं… खूब मजे में हैं…उनकी ड्यूटी क्या है, किसी को भी नहीं पता.

जिस कमलेश रघुवंशी का पाला-पोसा, पालतू बनाया जालंधर पूरा खाया, उसको झारखण्ड में भेज दिय…वहां गयी श्रवन गर्ग और विष्णु त्रिपाठी की टीम ने जो उसकी हवा निकाली उसका भी पता चला है.  न्यूज़ एडिटर की तो बलि ले ली गयी, कमलेश को कहा कि उसे स्टेट हैड किसने बनाया? इतनी बेइज़्ज़ती? शाहिद रज़ा जैसे व्यक्ति को जालंधर में न्यूज़ एडिटर बना कर अपना उल्लू सीधा करते रहे. पंजाबी में एक नौकर को हुज़ूरिया कहते हैं, इस हुज़ूरिया शाहिद रज़ा का अब तबादला कर दिया गया है, उस पे तरस नहीं किया कि अब उसकी कोठी कौन पूरी करवाएगा, सारी लिवाली तो अब गयी!

वीरेंद्र रैना १४ साल से तरक्की की इंतज़ार में वफादारी के साथ डटा रहा, लेकिन तरक्की चंद्रशेखर को…ludhiana unit में. इसके पहले पंजाब हेड राकेश शांतिदूत को जाने पे विवश किया था…

अब एक एक करके इनके गुर्गे जाने लगे हैं …निशिकन्त का किला ध्वस्त होने की ओर अग्रसर है… कविलाश ने तो हिंदुस्तान में नौकरी की गुहार लगाई थी…इंकार हो गया है. बाकी लोगों का क्या होगा कालिया? सूरज ढलता भी है निशिकांत भूल गया था… निशिकांत नहीं, भगवान सबको रोज़गार देता है, व्यक्ति को उसकी मेहनत आगे ले जाती है, उसकी किस्मत आगे बढ़ाती है … निशिकांत को लगता था कि वही ऐसा कर सकता है… सब झूठ पकड़ा गया है… सुदामा पाठक वाला मामला भी सामने आने वाला है। इसमें पेपर रील घोटाला खुलेगा जल्द …!

अभी तो विष्णु त्रिपाठी और श्रवण गर्ग की टीम ने जो हौसला दिखाया है… उनके कहे पर संजय गुप्ता ने जो एक्शन लिया है, उसके लिए जागरण को बधाई ! निशिकांत की कोटरी के लोग अब अपने साथियों को पानी देने के लिए चुल्लुओं का प्रबंध कर लें!

ऋषि कुमार नागर

Rishi Kumar Nagar
News Director
106.7 RED FM, Calgary.
Alberta, Canada.
C- +1-587-899-1060.
Twitter.com/@RedFMRishi
rishikumarnagar@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *