निशिकांत ठाकुर को एक और झटका, नहीं मिला भाजपा का टिकट

दैनिक जागरण अख़बार से निकाले गए पूर्व चीफ जनरल मैनेजर और पूर्व स्थानीय सम्पादक निशिकांत ठाकुर को एक और झटका लगा है. वह भारतीय जनता पार्टी में लोकसभा टिकट मिलने की लालसा से शामिल हुए थे लेकिन उनका सपना चूर चूर हो गया.

मीडिया के बाद राजनीति से भी चार पैसे व शान-ओ-शौकत कमा लेने की चाहत पालने वाले निशिकांत ठाकुर के सपने पर भाजपाइयों ने वज्रपात कर दिया. मधेपुरा (बिहार) से निशिकांत ठाकुर को टिकट नहीं मिला. उनकी जगह विजय कुमार कुशवाहा को भारतीय जनता पार्टी ने टिकट दे दिया है. इस तरह निशिकांत न इधर के रहे न उधर के. निशिकांत ठाकुर अपना टिकट पक्का मान कर चल रहे थे. इसी कारण वे मधेपुरा में पिछले कई दिनों से प्रचार प्रसार के काम में जुटे हुए थे.

दैनिक जागरण अखबार भी उन्हें खूब प्रोजेक्ट कर रहा था. पर भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें मेंबर तो बना लिया पर टिकट के मामले में घास तक नहीं डाला. बताया जाता है कि निशिकांत ठाकुर चैन से बैठने वालों में से नहीं हैं. वे अब कोई नया क्षेत्र ढूंढ रहा है आगे की जिंदगी काटने के वास्ते. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि वे लोकसभा चुनाव का टिकट न मिलने के बाद अब बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा की तरफ से विधायकी का टिकट मिलने की आस लगाए हुए हैं.

इस बारे में मधेपुरा के पत्रकार डा. देवाशीष बोस, जो बिहार वर्किंग जर्नलिस्‍ट यूनियन के प्रदेश महासचिव हैं, कहते हैं- ''अब निशिकांतजी की सारी तैयारी बेकार चली गयी। ठाकुरजी को टिकट देने के बजाय विजय कुमार सिंह को भाजपा ने टिकट दे दिया है। यों निशिकान्‍तजी का मधेपुरा संसदीय क्षेत्र के पटुआहा गांव में घर होने के अलावा उनकी कोई स्‍वीकार्यता नहीं है। ये अलग बात है कि कई ब्राह्मण युवकों को उन्‍होंने दैनिक जागरण में नौकरी जरूर दिया है। लेकिन उन युवाओं का परिवार समाज में प्रभावकारी नहीं हैं। भाजपा इस इलाके में मुख्‍य धारा की पार्टी भी नहीं मानी जाती है। निशिकान्‍तजी इस इलाके में परिचित नाम भी नहीं हैं। ऐसी स्थिति में अचानक राजनीति में आकर चुनाव लड़ना उनकी संतुष्टि के अलावा कुछ नहीं है।''

भड़ास तक सूचनाएं bhadas4media@gmail.com के जरिए पहुंचा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *