नेशनल दुनिया में छपा- सांसद मूत मूल्य तय करने का सूत्र!

ये शुद्ध रूप से मानवीय गलती है. प्रूफ की गलती है. ऐसी गल्तियां अक्सर अखबारों में हो जाया करती. इसलिए यह कोई मुद्दा या खबर नहीं है. पर हां, इसमें से कुछ गल्तियां मनोरंजक हो जाती हैं जिसे पढ़ देखकर हंसा जा सकता है और हंसने से सेहत ठीक रहती है सो हंसने का मौका क्यों चूके.. देखिए, नेशनल दुनिया अखबार में प्रकाशित एक स्टोरी में हुई प्रूफ की गलती. इसे पढ़ने के बाद सांसद लोग अपने मूत्र को यूं ही जाया नहीं करेंगे बल्कि एक जगह इकट्ठा करने लगेंगे कि क्या पता, उसका भी मूल्य लग जाए…. 🙂

national dunia ki magazine (13-19 may 2012 issue) cover story ke page number 27 ke box me विधायक की तरह सांसद मूत मूल्य तय करने का सूत्र छापा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *