पत्रकार का लाइसेंस रद्द करने के लिए कोई नहीं है…

Prabhat Shunglu :  गलत काम करने पर बार काउंसिल वकील का लाइसेंस कैंसिल करती है, मेडिकल काउंसिल डाक्टर का। पत्रकार का लाइसेंस कौन रद्द करेगा। ये तय है कि हमारे मिशन-री पोजिशन वाले पत्रकार तो नहीं करेंगे। उन्हे तो ऐसे मिशन-री पोजिशन का आनंद आने लगा है। पैंती..पैंती…पैंती…सॉरी, सॉरी..सौ करोड़, सौ करोड़, सौ करोड़….

    Rajneesh Prakash सर शायद ही किसी डॉक्टर का लाइसेंस अभी तक कैंसल हुआ है …
 
    Prabhat Shunglu मान भी लें अगर रजनीश – कम से कम ऐसी संस्था तो है। जो नज़र रख सके।
   
    Irfan Shaikh Ek number kahe sir aapne..ct.com
    
    Adarsh Tripathi sahab jab hamre bhai bandhu patrakarita chhod kar chatukarita karane lage to ham log kare bhi to kya….unke pas dalali or chaplusi ki digry hai….patrakar kam chatukar jyada
     
    Sarvesh Shukla sahi kaha aap ne prabhat bhai jo bhi pichle dino media me hua bura tha…hume kadam uthana chahiye
     
    Prabhat Shunglu maine to do kadam uthaya hai – Newsroom Live likh ke. Pls padhna. http://www.flipkart.com/newsroom-live-9380069302/p/itmdf87nfkwjp8uc?pid=9789380069302&ref=8c72cd89-51d7-4780-b1ce-23d7ef5b926f
    http://www.flipkart.com/newsroom-live-9380069302/p/itmdf87nfkwjp8uc?pid=9789380069302&ref=8c72cd89-5
    www.flipkart.com
     
    Adarsh Tripathi बेबाक पत्रकारिता पर दलाल पत्रकारिता और भ्रष्ट पुलिस तंत्र का हमला तेज़ हुआ
     
    Sarvesh Shukla prabhat bhai maine uske panne palatne shuru hii kiye hai ki dekha sab samne sach bhi dikhne laga bura laga aur is par ye safaai ki sabhi karte hai pakde gaye to chor nahi to dukan chal rahi hai …dekh kar sun kar aur bura lagta hai lagta hai is gandagi ka hum bhi hissa hai
     
    Saurabh Tiwari जी न्यूज का सुधीर चौधरी ने कबाड़ा कर दिया…रातों रात जी का संपादक बनाकर उनके मालिक ने अपने पैर पर कुल्हाड़ी मार ली…लाइव इंडिया को डुबाकर वो जी का धंधा गंदा कर चुके है…वो कितने पाक साफ है इस बात का पता उमा खुराना प्रकरण से चलता है…
     
    Anant Vijay आप तो काटजू की भाषा बोल रहे हैं
     
    Umesh Sharma Jo Pakda Gaya Vo Chor.Baki Kaunse Doodh Ke Dhule H ?
     
    Ashish Chaubey अब पत्रकारिता की छवि को कायम रखने के लिए अब पत्रकारों को ही अपनी मर्यादा तय करनी होगी …और ऐसे कथित पत्रकारों ( या फिर समन्वयको) से दूरी बनाना शुरू कर देना होगा ..ताकि पत्रकार और दलाल में अंतर जाहिर हो सके ….
     
    Samarendra Jha Sir journalism ko jab se maine jana hai tab se ye mujhe kamission ka dhandha hi laga kabhi v mujhe ye mission nahi laga.agar zee news wali baat sahi hai to ye koi aaschrya ki baat nahi hai.patrakar aur neta ke sambhandho ki janch jarur honi chahiye.
 
    Samarendra Jha Aaj mein khush hu ki mein is dhandhe(maafi chahta hu dhandha kahne ke liye) me nahi hu iimc se jude hone ke baad v.

पत्रकार प्रभात शुंगलू कई चैनलों में वरिष्ठ पदों पर रह चुके हैं. उनका यह लिखा उनके फेसबुक वॉल से लिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *