पत्रकार चंद्रेश की हत्‍या के मामले में पांच आरोपी गिरफ्तार

 

रायसेन : रायसेन जिले की पुलिस को छतरपुर के एक पत्रकार चंद्रेश खरे ओर अमित श्रीवास्तव की हत्या के मामले में पाँच आरोपियों को पकड़ने में सफलता मिली है। आरोपियों में एक सुल्तान एमसीए है तथा उसकी पत्नी अस्पताल में नर्स के पद पर कार्यरत है। जिला पुलिस अधीक्षक श्री आईपी कुलश्रेष्ठ ने बताया कि नूरगंज थाना क्षेत्र में विगत 10 जुलाई 2012 को इस दोहरे हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। पुलिस को कोलार मार्ग पर झिरी ग्राम के पास बेतवा पुल के पास एक युवक कि क्षत विक्षत लाश वरामद हुई थी। जांच के दौरान मृतक की पहचान छतरपुर के एक पत्रकार चंद्रेश खरे के रूप में हुई थी। 
 
घटना स्थल से 500 किलो मीटर दूर छतरपुर के पत्रकार की लाश मिलना पुलिस के लिए चुनौती बन गया था। एसपी ने बताया कि प्रकरण की विवेचना में यह तथ्य सामने आया कि मृतक चंद्रेश खरे अपने अन्य साथियों अमित श्रीवास्तव्, सुल्तान सिंह आदि के साथ भोपाल में बेरोजगार युवकों को नौकरी तथा संविदा शिक्षकों की नियुक्ति दिलाने के मामले में दलाली का काम करते थे। इसी दौरान पैसे के लेन देन पर चंद्रेश खरे ओर सुल्तान सिंह का विवाद हो गया।  दोस्तों के बीच हुए रुपयों के इस लेन देन के विवाद में सुल्तान सिंह ने अपने साथियों मुकेश, राहुल शाही, सोनू के साथ मिलकर चंद्रेश का रस्सी से गला घोंटकर तथा चाकू से गला काट उसकी हत्या कर दी। लाश कोलार मार्ग पर झिरी ग्राम के पास बेतवा पुल के पास फेंक दी।
 
इसी बीच में पुलिस से अमित श्रीवास्तव के परिजनों ने संपर्क कर बताया कि अमित श्रीवास्तव भी इसी घटना के बाद से लापता है। पुलिस ने जब सुल्तान सिंह से कड़ाई से पूछताछ की तो सुल्तान ने बताया कि वह और उसके साथी चंद्रेश के साथ अमित को भी बेतवा पुल के पास लेकर गए थे, जहां उनकी हत्या कर दी थी।  सुल्तान की निशादेही पर झिरी ग्राम के पास बेतवा पुल के पास अमित श्रीवास्तव का शव सड़ी गली हालत में बरामद कर लिया गया है। अमित का शव ज्यादा खराब हो जाने के कारण उसके परिजनों के साथ उसका डीएनए टेस्ट कराया जा रहा है। पुलिस एक फरार आरोपी प्रमोद चोहान की तलाश कर रही है।
 
रायसेन से राजकुमार सोनी की रिपोर्ट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *