पत्रकार ज्ञानेश श्रीवास्तव के साथ लूटपाट की कहानी, उन्हीं की जुबानी

Gyanesh Srivastava : मित्रों, कल यानी 25 जनवरी को मैं भी सरेशाम लूटेरों का शिकार हो गया। दो अपराधियों ने मुझे गन-प्वाइंट पर वैशाली अंसल प्लाजा के सामने डाबर रेड लाइट (तिराहा) के पास मुझे कुछ देर के लिए किडनैप कर लिया, और फिर कैश, एक अंगूठी, और कलाई घड़ी लूटने के बाद चलते बने। घटना करीब शाम आठ से साढ़े आठ बजे की है।

मैं अपने ऑफिस अंसल प्लाजा से अपने घर आईपी एक्सटेंशन की ओर जा रहा था। जैसे ही डाबर तिराहे वाली रेडलाइट के चंद कदम आगे बढ़ा, एक फोन रिसीव करने के लिए अपनी कार को साइड किया। अभी बात शुरू ही किया था कि सामने से टहलते आ रहे दो युवक आए।

एक मेरे ड्राइवर सीट के पास आ कर खड़ा हो गया जबकि दूसरे ने बगल से दरवाजे खोलकर अंदर आ गया। मेरे पास खड़े अपराधी ने विदेशी रिवाल्वर मेरे कनपटी पर सटा दी। फिर जल्दी से सारा कैश देने को कहा। सब कुछ इतनी जल्दी में हुआ कि समझ में नहीं आया कि क्या करूं।

तब तक मेरे ब्लेजर में हाथ डालकर सारा कैश, (3000) अंगूठी और कलाई घड़ी उतरवा ली। उसके बाद लुटेरों ने धमकाते हुए मुझे सीधे जाने को कहा। मैं गाड़ी आगे बढ़ा दिया और फिर पुलिस को फोन करते हुए सामने कुछ ही दूरी पर स्थित कौशांबी पुलिस चौकी पहुंचा। वहां से करीब सात-आठ पुलिसवालों के साथ तुरंत घटनास्थल पर पहुंचा और काफी देर तक अपराधियों को खोजने का प्रयास किया लेकिन तब तक वे लोग निकल गए थे।

मैंने पुलिस थाने में देर रात रिपोर्ट दर्ज करा दी है। दिल्ली में रहते करीब 18 साल हो गए, ये पहला हादसा था मेरे साथ। इस पूरे हादसे में सबसे खास बात ये रही कि मेरा लैपटॉप, जो पीछे वाली सीट पर था, और मेरे दोनों मोबाइल को अपराधियों ने हाथ नहीं लगाया। अपराधियों का हुलिया, कदकाठी और बोलने का अंदाज ऐसा था मानो कोई पुलिसवाला हो। अपराधियों ने कनपटी पर जो रिवाल्वर सटाया था, वो माउजर था, कोई कट्टा नहीं।

उपर वाले की मेहरबानी थी कि कोई बड़ा हादसा होने से बच गया, क्योंकि जिस अंदाज में लुटेरों ने लूटपाट की, और चहलकदी करते चले गए उससे तो यही लग रहा था कि वो कुछ भी कर सकते थे। आज सुबह पुलिस वालों से पता चला कि मेरे पहले ठीक यानी उसी समय इसी अंदाज में एक व्यापारी से दोनों लूटेरों ने लूटपाट की थी। ईश्वर को साधुवाद कि एक बड़ा हादसा टल गया।

पत्रकार ज्ञानेश श्रीवास्तव के फेसबुक वॉल से.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *