पत्रकार सुरेश बहादुर पर हमला करने वालों को तुरंत पकड़ो : सीएम अखिलेश यादव

लखनऊ : मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने वरिष्ठ पत्रकार सुरेश बहादुर सिंह पर हुए जानलेवा हमले के आरोपियों की तत्काल गिरफ्तारी और घटना में शामिल अभियुक्तों के खिलाफ सक्ख्त कार्रवाई के आदेश दिए हैं। उन्होंने मुख्य सचिव जावेद उस्मानी से कहा है कि पुलिस महकमे के अफसरों को इस प्रकरण में फौरी कार्रवाई के निर्देश दें। मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के अध्यक्ष हेमंत तिवारी के नेतृत्व में आज एक प्रतिनिधि मण्डल से मुलाकात के दौरान मुख्य सचिव को बुलाकर यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा है कि पत्रकारों की सुरक्षा हर हाल में सुनिश्चित की जायेगी।

समिति ने आज मुख्यमंत्री को उनक आवास पर इस विषय में एक ज्ञापन सौंपकर कहा था  कि वरिष्ठ पत्रकार पर हमले के तीन दिन बाद भी पुलिस दोषियों को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। ज्ञापन में कहा गया है कि पत्रकारों के उत्पीड़न और उन पर हो रहे हमलों को लेकर सरकार गंभीरता का परिचय दे और सुरेश बहादुर सिंह के हमलावरों को तत्काल गिरफ्तार कर उनके विरूद्ध गुण्डा एक्ट के तहत कार्रवाई सुनिश्चित करें। श्री तिवारी ने मांग की है कि पत्रकारों के उत्पीड़न और उनके खिलाफ हो रहे हमलों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए पूर्व में गठित की गयी राज्य स्तरीय और जिला स्तरीय स्थायी समितियों को पुर्नजीवित किया जाय। मुख्यमंत्री से मिलने पर प्रतिनिधि मंडल में समिति के उपाध्यक्ष सत्यवीर सिंह, नरेन्द्र श्रीवास्तव, नीरज श्रीवास्तव, राजेश शुक्ला, श्रीधर अग्निहोत्री, दिलीप सिन्हा, अरूण कुमार त्रिपाठी और अविनाश मिश्रा शामिल थे।

सीएम को दिया गया ज्ञापन…

दिनांक 17.08.2013

सेवामें,                                      
श्री अखिलेश यादव जी
मुख्यमंत्री
उत्तर प्रदेश.

विषयः- वरिष्ठ पत्रकार सुरेश बहादुर सिंह पर हुए जानलेवा हमले के अभियुक्तों के विरुद्ध कठोर कार्यवाई के सम्बन्ध में।      
आदरणीय महोदय,

आपको विदित होगा कि राजधानी के वरिष्ठ पत्रकार सुरेश बहादुर सिंह पर दिनांक 14 अगस्त 2013 की रात यूपी प्रेस क्लब के बाहर अज्ञात अराजक तत्वों ने जानलेवा हमला किया जिससे उन्हें गम्भीर चोटें लगीं हैं। श्री सिंह यूपी प्रेस क्लब और उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के सचिव पदों पर रहे हैं, और राज्य मुख्यालय के वरिष्ठ पत्रकार हैं। इस घटना की प्राथमिकी लखनऊ के कैसरबाग थाने में दर्ज है। लखनऊ के पत्रकारों ने प्रदेश शासन और जिला प्रशासन से जुड़े जिम्मेदार अधिकारियों को इस विषय में विधिवत जानकारियां दी हैं। इसके बावजूद अभी तक नितांत असंतोषजनक कार्यवाई हुई है।

वरिष्ठ पत्रकार पर हमला करने वाले अराजक तत्वों की पहचान और उनके विरुद्ध नियम संगत कार्यवाई को लेकर पुलिस का रवैया अत्यंत संवेदनहीन रहा है, जिसका हमें कष्ट है। आग्रह है कि सम्बन्धित अधिकारियो को तत्काल निर्देशित कर पत्रकार पर हमला करने वाले गुण्डों की गिरफ्तारी सुनिश्चित करायें और राजधानी में सार्वजनिक स्थान पर आतंक का वातावरण बनाने वाले ऐसे तत्वों के खिलाफ कठोर कार्यवाई गैंगस्टर एक्ट सहित सुसंगत धाराओं के अन्तर्गत प्रभावी कार्यवाई के भी निर्देश देने की कृपा करें।

आपको याद दिलाना चाहुंगा कि प्रदेश में मीडिया पर हो रहे हमलों के विषय में समिति की ओर से कई ज्ञापन पूर्व में प्रेषित किये गये हैं, लेकिन कष्ट का विषय है कि आपके मौखिक निर्देशों के बावजूद प्रदेश शासन के अधिकारियों ने इस विषय में कोई अग्रेतर कार्यवाही नहीं की है। इस पत्र के साथ विगत मार्च माह में आपको सम्बोधित एक अन्य प्रत्यावेदन की प्रति संलग्न है।

भवदीय

हेमंत तिवारी

अध्यक्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *