प्रभात खबर, रांची के वरीय उपसंपादक राजीव रंजन का कल रात करीब एक बजे निधन हो गया

Kumud Singh : ''किसी पत्रकार की मौत सिंगल कॉलम से बड़ी खबर नहीं होती है, मेरी मौत तो संक्षेप में लगनेवाली खबर होगी…'' पत्रकार राजीव ने यह बात 2004 में मुझसे कही थी और हम लोग उस क्षण खूब हंसे थे. पर आज रोने का दिन है. प्रभात खबर रांची के वरीय उपसंपादक राजीव रंजन का कल रात करीब एक बजे निधन हो गया. वो काफी दिनों से बीमार चल रहे थे. मूल रूप से बेगूसराय के रहले वाले राजीव रंजन ने अपनी पत्रकारिता प्रभात खबर, पटना से शुरू की. उन्‍होंने पटना से निकलने वाले हिंदी दैनिक आज में भी काम किया था. वर्ष 2004 से वे प्रभात खबर, रांची में कार्यरत थे. उनका जाना मेरे परिवार के लिए बड़ी क्षति है.

Vinay Kumar hame bahut dukh hai kyunki mai unse prabhat khabar patna me  
Sonu Mishra oh bahut dukhak gapp…..
 
Ranjeet Jha Aapko koe or kam nhi hay
 
Bhupendra Pratap Singh bhagwaan unki atama ko shanti pradan karein. yeh  
Rohit Dadsena Ye vahi hai jo . . . Ansan me baithe the . . .
 
Subhash Choudhary श्रद्धा सुमन….
 
अभिषेक प्रसाद Shrdhanjali…
 
Rishi Kumar Singh dukhad!
 
Madan Kumar Jha shradhanjali.
 
Sanjeev Jha Shrdhanjali
 
Sanjay Swatantra Jab bhi kisi patrkar sathi ka nidhan hota hai, to vihwal ho jata hoon. Khas taur se samarpit sathi journalist ke liye. Beete do dashak mein jansatta me rahte hue hamne bhi kai sathion ko khoya hai. Ishwar unki aatma ko shanti de.
 
Jaipal Sharma RIP
 
Manoj Pathak अफ़सोस …क्षति ..!!!!!
 
Aditya Jha RIP
 
Vipin Kumar श्रद्धा सुमन…
 
Manoj Shukla like
 
Awesh Tiwari दुखद
 
Chandra Bhushan Jha Avirmarniy kshati. God bless him.
 
Dileep Kumar Pathak bhagban shanti de ,dukhad samachar
 
Dharm Raj Kumar Rajiv g k aatma ko rab shanti den.M too 4m begusarai
 
Kanhaiyya Mishra "Ram teri ganga maili ho gayi papiyo ke paap dhote-dhote" yahi halat hoti hai sachhe patrkar ki,jo pure zindagi aam-khas logo ke liye apna sukh-chain kho deta hai, jiska parinam newspaper ke liye sukhad hota hai, magar wahi aam-khas aur yaha tak ki newspaper bhi uske liye kuch nahi kar pata,,,khar Mout ek atal satya hai,jo sabko aani hai..meri aur se hamare sathi ke liye shrdhanjali..god yai sadma unke pariwar ko sahne ki shakti pradan kare
 
Amit Singh RIP to rajeev jee …ye wastab men mere liye ek dukhad ghatna hai bachpan men ek war unse mulakat huwa tha ek bhasan pratiyogta men bahut kuchh sikhne ko mila tha hame unse aaj saree bat yad hai
 
Krishn Kumarsingh very sad!
 
Manish Kumar Neurosurgeon Sad
 
Krishna Jha Ghatna dukhad hai. Ek patrakar hone ke nate mein apne patrakar biradiri ki trasdi ko samajh sakta hun. Patrakar ka jiwan — `chirag ke tale andhere' ki tarah hai. Ye vidambana hi to hai ki jo patrakar auron ko uchaiyan deta hai, ka swayam ka jiwan ek `unsung hero' ki tarah hota hai. Rajivji ko meri vinamra sharadhanjali. Bhagwan unki atma ko shanti den
 
Neeraj Karan Singh उन्हें श्रद्धांजलि
 
Suman Kumar Jha adieu rajiv ranjan .
 
बी.पी. गौतम श्रद्धांजलि
 
Kuber Singh is dukhad khabar ne meri aatma ko jhakjhor diya hai. ab hume wah muskurata chehra nahi milega
 
Buddhinath Mishra hamro lel atyant dukhad samachar achhi.
 
Ranjan Sriwastwa unke lia bhawbhiini sradhanjali
 
Arvind Mishra उन्हें श्रद्धांजलि .
 
Praveen Govind श्रद्धांजलि
 
Sanjeev Poonam Mishra naman….aapko
 
Aman Kumar sadar naman
 
Vipin Kumar आज उनकी एक एक शब्द जेसा उन्होंने कहा होगा आपको सच साबित हुआ प्रभात खबर के दरभंगा संस्करण में एक कोने में ये खबर छपी है अफसोस है ऐसे अख़बार प्रबंध के मानसिकता पर | लेकिन आज हर पत्रकार दुखी और मर्माहत है और उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा है भगवान राय जी के आत्मा को शांति दे |
 
Krishna Kumar Singh श्रद्धांजलि
 
Ashish Jha प्रभात खबर रांची ने भी पहले या तीसरे पन्‍ने पर नहीं दी जगह, चार नंबर पेज पर छपा संक्षिप्‍त। बेशर्मी है और क्‍या कहें।
 
Vijay Srivastava shraddhanjali. apne facebook ne itni badhiya coverage di hai na! hum sab sath-sath hain.
 
Kumud Singh विजय जी, राजीव के निधन पर इ'समाद एक दिन खामोश रहा। कोई अपडेट नहीं। हम रहेंगे तभी अखबार रहेगा। पत्रकार की मौत के लिए अखबार में जगह की कमी नहीं होनी चाहिए।
 
Vijay Srivastava e samaad ke is jazbe ko hamara salaam.
 
Vinod Rajput Kumud ji kal aapne nit me post kiya tha,ki bal thakrey nhi rahe,aapne wo post delete v kar diya,itna v breaking news mat dene lagiye ki baad me khabar jhuth nikal jaye
 
Kumud Singh इ'समाद ने कुछ नया नहीं किया है, यह आर्यावर्त और प्रदीप की परंपरा है जिसे हमने आगे बढाया है। पत्रकारों को पहले सामान नहीं समझा जाता था। आज अखबार में कोई नेता बीमार है वो तीन कालम में पहले पन्‍ने पर छप रहा है, लेकिन 30 साल का होनहार पत्रकार का निधन हो गया, एक संक्षिप्‍त खबर बन कर रह गया। कोई इस बात को याद रखे या न याद रखे मुझे राजीव की बात याद है।
 
Abhas Kumar ise chirag tale andhera kahte hain..dusron ki maut per dc to chap hee jati hai..bhagwan unki aatma ko shanti de


कुमुद सिंह के फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *