फर्जी पैथोलाजी सेंटर चलाने के आरोप में पत्रकार के भाई स‍मेत चार गिरफ्तार

देवरिया। चिकित्सा विभाग एंव जिला प्रशासन की संयुक्त टीम ने छापा मार कर पांच फर्जी पैथालाजी सेन्टरों को सील कर दिया तथा तथा इस सम्बन्ध में चार लोगों को गिरफतार किया। टीम ने एक फर्जी डाक्टर को भी हिरासत में लिया है जो आयुर्वेद की डिग्री पर अंग्रेजी दवाओं के माध्यम से मरीजों का ईलाज करता था। पुलिस ने पकड़े गए सभी अभियुक्तों के विरूद्ध आई पी सी की धारा 419, 420, 471, 468 एवं इण्डियन मेडिकल काउन्सिल एक्ट की धारा 15(3) के तहत मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया।

पकड़े गए एक अभियुक्त का भाई अमर उजाला समाचार पत्र का देवरिया का पूर्व ब्यूरो प्रमुख बताया जाता है। प्रभारी जिलाधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी एस राजलिंगम ने बताया कि माननीय उच्च न्यायालय के निर्देश पर जिला मुख्यालय में छापेमारी की कार्यवाही की गई है और दोषी पाए गए लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही की जाएगी। किसी को बख्शा नहीं जाएगा।

इस सम्बन्ध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 ए एन तिवारी ने बताया कि जिलाधिकारी कुमार रवि कान्त सिंह के निर्देश पर शहर के नई कालोनी में सोमवार को विभिन्न प्राईवेट पैथालाजी सेन्टरों का औचक निरीक्षण किया गया। इस दौरान आस्था क्लीनिक के संचालक डा0 बी एस शर्मा को पकड़ा गया जिनकी डिग्री तो आयुर्वेद की है लेकिन वे अंग्रेजी पद्धति से मरीजों का ईलाज ही नहीं करते थे, बल्कि बकायदा मरीजों को अपने यहां भर्ती भी करते थे तथा नर्सिंग होम भी चलाते थे।

डा0 तिवारी ने बताया कि नई कालोनी के ही जल कल काम्पलेक्स से योगेश्वर पैथालाजी सेन्टर से उसके संचालक डा0 सुभाष चन्द्र शर्मा को पकड़ा गया जो बिना वैध लाईसेन्स के पैथालाजी सेन्टर चला रहा था। उन्होने बताया कि इसी तरह से नई कालोनी के ही परमार्थी पोखरे के पास से एक्सेल डायग्नोटिक्स सेन्टर से अमित श्रीवास्तव एवं रिंकी श्रीवास्तव नाम के दो लोग पकड़े गए जो गोरखपुर के किसी मुकेश श्रीवास्तव नांमक सरकारी डाक्टर के नाम पर पैथालाजी सेन्टर चलाते थे। अमित श्रीवास्तव देवरिया के अमर उजाला समाचार पत्र के पूर्व ब्यूरो प्रमुख समीर श्रीवास्तव का बड़ा भाई बताया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *