फर्रुखाबाद से ‘आप’ उम्मीदवार मुकुल त्रिपाठी ने भी लौटाया टिकट

केजरीवाल को और उनकी आम आदमी पार्टी का नौसिखियापन सामने आता जा रहा है. ऐसे ऐसे लोगों को टिकट दे दिया जो अब चुनाव लड़ने से ही इनकार करने लगे हैं. एक के बाद एक कई लोगों ने टिकट लौटाया है. ताजा मामला यूपी के फर्रुखाबाद का है. यहां 'आप' उम्मीदवार मुकुल त्रिपाठी ने पार्टी को लोकसभा टिकट लौटा दिया है.

'आप' ने मुकुल को कांग्रेस उम्मीदवार सलमान खुर्शीद के खिलाफ टिकट दिया गया था लेकिन मुकुल ने पार्टी पर सहयोग नहीं करने का आरोप लगा दिया है. इससे पहले भी आम आदमी पार्टी के कई प्रत्याशी पार्टी पर सहयोग न करने का आरोप लगा चुके हैं. सविता भट्टी ने तो पार्टी पर सहयोग न करने की बात कहते हुए पार्टी तक छोड़ दी थी.

मुकुल त्रिपाठी का कहना है कि वह पिछले एक महीने से पार्टी से बात करने की कोशिश में थे लेकिन उन्हें पार्टी से किसी भी तरह का कोई सहयोग नहीं मिला. पार्टी से किसी तरह का कोई न सहयोग मिलने से वह बहुत नाराज हैं इसीलिए वह पार्टी का टिकट लौटा रहे हैं. गौरतलब है इससे पहले भी आम आदमी पार्टी के कई उम्मीदवार पार्टी से सहयोग न कहने की बात कहकर टिकट लौटा चुके हैं. नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली से आप ने पहले महेंद्र सिंह को टिकट दिया था लेकिन उन्होंने भी पार्टी से सहयोग न मिलने की बात कहकर टिकट लौटा दिया था. इसके बाद आप ने राखी बिड़लान को टिकट दिया था.

वहीं आम आदमी पार्टी के पॉलिटिकल अफेयर कमेटी के सदस्य इलियास आजमी ने भी लखीमपुर खीरी से टिकट लौटा दिया था. इलियास लखनऊ से टिकट चाहते थे. अयोध्या से इकबाल मुस्तफा ने भी यही बात कहकर आप का टिकट लौटा दिया था. अब मुकुल त्रिपाठी के टिकट लौटाने से एक बार फिर यह सवाल खड़ा होता है कि आखिर क्यों एक के बाद एक आम आदमी प्रत्याशी टिकट लौटा रहे हैं..

कहीं ऐसा तो नहीं कि 'आप' वाले जेनुइन लोगों को इगनोर कर ऐसे कमजोर लोगों को टिकट दे दिया जो बीच मझधार में नैया को छोड़ भाग चले. जो भी हो, 'आप' नेताओं को अपने भरोसेमंद कार्यकर्ताओं की एक पूरी कतार तैयार करनी पड़ेगी जो किसी भी हाल में भागे नहीं. लोकसभा का चुनाव पार्टी के लिए एक बड़ा सबक होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *