फाइलों में सिमटा डीएलए, गाजियाबाद दफ्तर में लगा ताला

छह साल पहले धमाकेदार एंट्री करने वाले डीएलए के गाजियाबाद कार्यालय में आखिर तीन दिसम्बर को ताला लग गया. जुलाई में इंदु शेखावत, रोहित शर्मा व सरकुलेशन की टीम को निकालने से सरकुलेशन पर बुरा असर पड़ा था. जुलाई 2013 को इंदु शेखावत, रोहित शर्मा, व सरकुलेशन की टीम को निकाल दिया गया था. उसके बाद डीएलए के सरकुलेशन पर बुरा असर पड़ा था. नोएडा में मई में कार्यालय बंद कर दिया गया था. 
 
नोएडा कार्यालय के बंद होने के कुछ दिन बाद दिल्ली में 16 में से 13 कर्मियों को हटा दिया गया. उसके बाद गाजियाबाद से चार कर्मियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. इनमें दो सरकुलेशन से जुड़े लोग थे. इसका नतीजा यह हुआ कि गाजियाबाद में अधिकांश स्थानों से एजेंसियां बंद हो गईं. नवयुग मार्केट और तुराबनगर जैसे स्थानों पर सरकुलेशन बंद हो गया, सिर्फ कंप्लीमेंट्री कापी आ रही थी. 
 
अब गाजियाबाद, साहिबाबाद, मोदीनगर, मुरादनगर, पिलखुवा, सिंभावली, बहादुरगढ़, सिकदंराबाद, गुलावठी में अखबार बंद हो गया. रिपोर्टर भूपेंद्र तालान, शोभित शर्मा व फोटोग्राफर मुकेश कर्दम को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. परसों कार्यालय का सारा फर्नीचर, कंप्यूटर भी आगरा के लिए रवाना कर दिया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *