बसपा नेता को कमरा बंद कर एसडीएम और गार्डों ने पीटा

: निजाम बदलते ही बदल गए तेवर : गाड़ियों पर सपा के झंडे लगे : अखिलेश के आदेश को ठेंगा : देवरिया जिले के बरहज बाज़ार में सत्ता परिवर्तन की हनक दिखी. कल तक जिस कर्मचारी को प्रशासन के लोग नेताजी कह कर पुकारते थे, उसे आज लतिया दिए. सरकार बदलने का असर सपा कार्यकर्ताओं पर ही नहीं, अब साहबों पर भी छाने लगा है. बरहज तहसील परिसर में एक नगर पालिका के कर्मचारी बसपा नेता को एसडीएम और उनके सुरक्षा गार्डों ने जमकर पीटा तथा सत्‍ता बदल जाने का एहसास कराया.

नगर पालिका परिषद में तैनात बसपा नेता अपने बाधित वेतन को लेकर एसडीएम से मिलने गया था, किसी बात को लेकर मामला गर्म हो गया. चुनाव नहीं होने के चलते डीएम और एसडीएम ही नगर प्रशासक के रूप में नगर पालिका, नगर पंचायत की जिम्‍मेदारी संभाल रहे हैं. बात के दौरान दोनों पक्षों में तनातनी बढ़ी तो एसडीएम के सुरक्षागार्डों ने कमरा बंद कर लिया और अंदर नेताजी की जमकर खातिरदारी की. हालांकि इस मामले में नेताजी ने किसी से शिकायत नहीं की है.

इस संबंध में एसडीएम बीएल मौर्य ने कहा कि वह नगरपालिका का कर्मचारी है. कर्मचारी नेता नहीं हो सकता. ऐसे में कोई गलती करेगा तो उसे जेल भी भेज दूंगा. बताया जा रहा है कि नेताजी इस खातिरदारी के मामले को तूल नहीं देना चाहते हैं क्‍योंकि उन्‍हें एहसास हो गया है कि प्रदेश में निजाम बदल चुका है. साथ ही वो अत्‍यंत गोपनीय खातिरदारी को सार्वजनिक करके बेइज्‍जत भी नहीं होना चाहते हैं.

सत्‍ता बदलने के बाद पांच साल तक दहशत में जी रहे सपाई अब मुखर हो गए हैं. अब वे किसी की बात सुनने या मानने को बाध्‍य नहीं है. ताजा मामला सपा के झंडे के दुरुपयोग की है. राज्‍य के नए मुख्‍यमंत्री ने सबसे पहले सपा नेताओं को गुंडई न करने की सलाह दी तथा चुनाव जीतने के बाद उन्‍होंने बाकायदा एक आदेश दिया कि पार्टी के सांसद, विधायक और जिले के महत्‍वपूर्ण पदाधिकारियों के अलावा कोई सपा के झंडे नहीं लगाएगा. पर उनके इस आदेश को देवरिया जिला के सपाई नहीं मानते.

हो भी क्‍यों नहीं, पार्टी के लिए मेहनत जो की है. जनपद के विभिन्‍न रोड़ पर गाडि़यों में समाजवादी पार्टी के लगे झंडे नए मुखिया के आदेश को ठेंगा दिखा रहे हैं. विभागों में अपनी धाक-धमक और क्षेत्र में अपनी पहचान कायम रखने के लिए नेता अपना काम कर रहे हैं. गोरखखपुर-देवरिया मार्ग पर स्थित कोआवरेटिव बैंक के पास एक ब्‍लॉक प्रमुख की काले रंग की स्कार्पियो, पटनावापुल के समीप के रहने वाले एक प्रधान की काले रंग की स्कार्पियो, सदर कोतवाली के सबसे वीआईपी रोड पर मालवीय रोड पर दर्जनों बोलेरो गाड़ियों का रेला हो या फिर दूसरी जगहों की गाडि़यां ज्‍यादातर पर सपा के झंडे ही दिख रहे थे.

 

 
 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *