बसपा ने सपा कार्यकर्ताओं पर दर्ज कराए एक लाख फर्जी मुकदमे : मुलायम

देवरिया। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने रविवार को जब चुनावी जनसभा में लोगों को सम्बोधित करना शुरू किया तो सबसे पहले उन्होंने अपने ऊपर तथा अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के ऊपर दर्ज किए गए आपराधिक मुकदमों की पीड़ा को बयां किया। उन्होंने कहा कि बसपा की सरकार ने करीब एक लाख संगीन मुकदमे उनके कार्यकर्ताओं पर नामजद दर्ज कराया है, जो सभी फर्जी हैं। करीब 46 मुकदमे तो सैफई में दर्ज कराए गए है। इतने मुकदमें एक रिकार्ड के रूप में है। जब सैफई का यह हाल है तो बाकी उत्तर प्रदेश के लोगों का क्या हाल होगा आप समझ सकते हैं।

उन्होंने कहा कि एक भी मुकदमा कांग्रेस या भारतीय जनता पार्टी के ऊपर दर्ज नहीं किए गए है। कुछ मुकदमों में हाई कोर्ट से स्टे लेना पड़ा। श्री यादव ने जिला मुख्यालय पर स्थित राजकीय इण्टर कालेज के मैदान में वादा किया कि हमारी सरकार बनेगी तो वह आदर्श सरकार कहलाएगी। सरकार बनने पर दोषी लोगों के खिलाफ जांच कराकर कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने भरोसा दिलाया कि गरीब छात्राओं के अलावा अब गरीब छात्रों को भी समान रूप से स्नातक की शिक्षा मुफ्त कर दी जाएगी और बेराजगारों को प्रतिवर्ष 12 हजार रुपया भत्ता दिया जाएगा तथा किसानों का पचास हजार रुपए तक का कर्जा माफ कर दिया जाएगा। यही नहीं जो भी सरकारी पानी होगा चाहे वह नहर का हो टयूबवेल का उसे किसानों के लिए निःशुल्क कर दिया जाएगा।

श्री यादव ने जनसभा के दौरान अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से मत डालने और डलवाने के लिए अपील करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में 95 फीसदी वोट पड़ता है, लेकिन उत्तर प्रदेश में मात्र 45 फीसदी। उन्होंने कहा कि हम इसलिए नहीं जीत पाते हैं क्योंकि उनके कार्यकर्ता घरों में बैठे अपने मतदाताओं से वोट नहीं डलवा पाते हैं, इसी वजह से वे हार जाते हैं। उन्होंने बसपा सरकार पर वार करते हुए कहा बसपा की सरकार मात्र छह या सात लोग और मायावती के भाई ही चलाते थे। इस सरकार के मंत्री और अधिकारियों ने नोएडा एवं लखनऊ में करोड़ों नहीं वरन अरबों खरबों की भूमि को हड़प लिया है। बाकी लूट खसोट अलग है। उन्होंने कहा कि बसपा की सरकार लोकतंत्र के कलंक है इसलिए अब समय आ गया है कि इसे उखाड़ फेंका जाय।

सपा मुखिया ने कांग्रेस के सीटों के बारे में टिप्पणी करते हुए कि पूरे प्रदेश में कांग्रेस पार्टी 15 से 20 सीटों पर ही जीत हासिल कर सकती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में एक ऐसा नेता है जो दूसरे प्रदेश से आया है और वहां की जनता ने उसे भगा दिया है। स्थिति यह है कि उसके द्वारा कही गई बातों को भी लोग अब गौर से नहीं सुनते हैं।

            चुनाव : वाहनों की भारी कमी, एआरटीओ ने पल्‍ला झाड़ा, प्रशासन परेशान

देवरिया। विधान सभा चुनाव के मद्देनजर जिला प्रशासन वाहनों के लिए काफी परेशान है। उसे करीब 620 वाहनों की नितान्त आवश्यकता है लेकिन उपलब्धता लगभग 200 की ही हो पा रही है। इस बारे में एआरटीओ ने जिला प्रशासन को स्पष्टरूप से बता दिया है कि मण्डलीय पुल लखनऊ से वाहनों की आवश्वकता को पूरा करा लिया जाय, वरना चुनाव का कार्य बुरी तरह से प्रभावित हो सकता है। उल्लेखनीय है कि ईवीएम मशीन, चुनाव पार्टी और फोर्स को बूथ तक ले जाने के लिए वाहनों की आवश्यकता है। इस बारे में अपर जिला अधिकारी प्रशासन कृष्ण लाल तिवारी ने बताया कि हम कोशिश कर रहे है। वैसे चुनाव आयोग को सारी स्थितियों से अवगत करा दिया गया है। 

वाहनों की उपलब्धता के बारे में एआरटीओ प्रदीप गुप्ता ने काफी माथा-पच्ची कर ली है, लेकिन वाहनों की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। उनका कहना है कि जिले में इतने वाहन हैं ही नहीं। वैसे वाहन मालिकों को काफी पहले ही रिक्वीजिशन प्रेषित कर दिया गया है। लेकिन शादी-ब्‍याह का मौसम होने के नाते वाहनों का अकाल पड़ गया हैं। कई वाहन मालिकों ने जान बूझ कर अपने वाहनों को गैराज में खड़ा करना बता दिया है तो कई ट्रैवेल एजेन्सियों एवं ट्रान्सपोर्टरों व मालिकों ने चुनाव में भाग लेने वाले प्रत्याशियों के यहां काफी पहले ही अपने अपने वाहनों की बुकिंग का रोना रोकर पल्ला झाड़ लिया है। वाहनों की व्यवस्था को लेकर जिला प्रशासन की पेशानी पर बल पड़ गया है। दूसरी तरफ चुनाव के दिन ट्रक ड्राइवरों के लिए भोजन की व्यवस्था एवं इसके लिए अतिरिक्त धन की व्यवस्था न होने से प्रभारी जिला आपूर्ति अधिकारी संजीव सिंह भी खासे परेशान हैं। 

देवरिया से ओपी श्रीवास्‍तव की रिपोर्ट.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *