बाबा रामदेव उर्फ एक दयनीय संन्यासी जो शहर के होर्डिंगों पर टंगा है

Rajen Todariya : कल मैं हरिद्वार था। हरिद्वार में जाते ही आपका ध्यान जगह-जगह लगे बाबा रामदेव के होर्डिंगों पर जाता है। ऐसा आत्मप्रचार, ऐसी आत्म मुग्धता और छवि का ऐसा व्यापार किसी संन्यासी में मैने नहीं देखा। एक दयनीय संन्यासी जो शहर के होर्डिंगों पर टंगा है। शुक्ल यजुर्वेद में संन्यासियों के लिए प्रावधान किए गए हैं कि वे सांसारिक चीजों से दूर रहेंगे। भोग विलास नहीं बल्कि त्याग का आदिम जीवन जियेंगे। गेरुआ वस्त्र की आचार संहिता है कि गेरुआधारी व्यक्ति किसी गृहस्थ की दहलीज में अंदर नहीं जायेगा।

कुल तीन घरों से भिक्षा मांगेंगे और पात्र में नहीं बल्कि हाथ में भिक्षा लेंगे। भिक्षा का संग्रह नहीं करेगा। गांधी जी ने इस अपरिग्रह का नाम दिया। सन्यासी किसी पक्के मकान पर नहीं रह सकता। रामदेव जिन स्वामी विवेकानंद की भक्ति का नाटक करते हैं उन्होंने संन्यासी के लिए जीवन बिताने की आचार संहिता तैयार की थी। करतल भिक्षा, तरुतल वास। यानी संन्यासी को हथेली पर भिक्षा ग्रहण करनी है और पेड़ के नीचे सोना है। ये संन्यासी एयरकंडीशंड में सो रहे हैं। रामदेव को यदि जीवन के भोग विलास में ही रहना है तो गृहस्थ की तरह रहें। वे सारे कष्ट भी झेलें जो आम गृहस्थ झेलता है। कबीर ने संन्यासियों का मजाक उड़ाते हुए कहा था, ‘‘मन तो रंग्यो नहीं कपड़ा रंग दियो’’। यानी मन से तो विलासी बने रहे और कपड़े वैराग्य के पहन लिए। यह सरासर ठगी है और धर्म का दुरुपयोग है। यह सन्यास की वस्त्र आचार संहिता का भी उल्लंघन है।

        Ashok Jivram Mishra aajkal kuch sanyaashiyo ki vajah se pure sanyasiyo ka naam khraab ho raha hai.
 
        Avinash Vidrohi like
 
        Raghuveer Negi jee uchit pratit hota hai kabir ka kathan …………………
   
        Mahendra Bisht Togadiya ji aap Samalochak nah aalochak ho ess baat se saabit hai…
    
        Manoj Negi samay ke saath sab kuch badlta hai
     
        Manoj Negi jab duniya high tech ho rahi hai to fir baaba ji kyo nahi
      
        Mahendra Bisht yes Ramdev is great and Togadiya ji mainly anti Congrees per hi commnet karte hain
       
        Raghuveer Negi Tadoriya je meri ek baat se naraj na hon ……….. main aapko ye bhi batana chahta hun ki kabir jee ne ek doha ye bhi kaha tha ………. bura dhundne ………… pr mujsa bura na milya koi………….
        
        Raghuveer Negi pahle ptrkaar log bhi ek jhola khaddar ka kameej paijaama pahan kr niklte the aur jagah jagah paidal jaya karte the ……….. lekin ab to wo bhi chaupaye par baith kar chai nasta nahin balki murga daaru se kam ………… hath main mahange leptop………… wagerha wagerh ……….es par aap kya kahenge ………..
         
        Mahendra Bisht Raghu ji app sahi kah rahe hai
         
        Raghuveer Negi Bist jee tab tak pass mat kariye jab tak rajen jee ne no. nahin diye
         
        Mahendra Bisht Ranjan ji aapko (_ )Minis main number denge
         
        Raghuveer Negi chalo koi nahin ……………
         
        Raghuveer Negi bhale hi aadami ganda ho par uski rah achhi ho to rodey bichhne ke bajay hatana chahiye ………. isi main uski mahnta hoti hai …………
         
        Manoj Negi Yadi koi bhi ensaan samay ke saath nahi badlega to wo peechhe rah jayega , aur isiliye aadiwasi ( tribes ) aaj peeche rah gaye
         
        Shankar Vishwanath samay ke sath badalna parta hai.. ye samay ki mang hai.. ramdav is the brand name of indian ayurveda n yoga
         
        Shankar Vishwanath rishi hamesha se hi rajneeti me disha nirdesh ka karya karte hain. ramdev bhi vahi kar rahe hain or samay ke sath tareeke bhi badal jate hain..
         
        Ravindra Belwal Pahadi Chora yada yada hi adharmasya galanir bahwatu baruta ….abuthanam adharmasyaya sambhwaami yuge yuge..
         
        दिनेश आर्य 'दीनू' Ramdev ko aaj ki sthiti mein kisi bhi lihaj se sanyasi ya baba nahi kaha ja sakta, shuruaati dino ke fatafat yoga programs ne unko sohrat di lekin unka ekmatr agenda vyapar hi raha. ab apne rogiyon ki bhakti ka labh lekar wo rajneti karne lage hain.

उत्तराखंड के वरिष्ठ पत्रकार राजेन टोडरिया के फेसबुक वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *