बिटिया की परेशानी देख रवीश कुमार ने दर्द-गुस्सा प्रकट किया

Ravish Kumar : मेरे अपार्टमेंट के साथ लगी एक पुरानी इमारत गिराई जा रही है। एक एक म़ंज़िल के टूटने के साथ इमारत ज़ोर से हिलती है। डर से बेटी भागे भागे चली आती है। पुलिस से लेकर सबसे शिकायत की। कोई फायदा नहीं। हम मुफ़्त में दफ़न हो जाएं तो इस स्टेटस को लेकर इंसाफ़ की लड़ाई लड़ लीजिएगा। क्योंकि मीडिया को इंसाफ़ की लड़ाई का बहुत शौक है। बिल्डर सबका बाप है। वो लोग ठीक थे जो पत्रकारिता में आकर दलाल बन गए। उनकी जान तो बच जाएगी।

Maneesh Pandey : aap patrkaro se dalali chudwane ke liye likh rahe ho, dalalo ki patrakarita bhi chodo

Neha Sharad : i second….i get scared daily… aaj to the shake was horrifying… 20 min back… me n my 10 mths old baby… 10th floor se to neeche tak pahuchne a khayaal bhi dara deta hai

Yogesh Singh : चलिए अच्छा लगा आपने पत्रकारिता में दलालों पर मुहर लगा दी, उंचाई का क्या कसूर वो तो बुनियाद पर ही निर्भर है .

Rashmee Singh : Dalalon ki jaan bachana Prashasan ki prathmikta hai:((

Sandip Naik बहुत तीखा तंज है इमारत से जोडकर दलालों की बात करना..

Rakesh Achal : dile nada tujhe huaa kya hai?

Yogesh Dubey : lekin aap bache to kaise, patrakarita ke is sankraman kal me ,daiviy sahayata lagti hai.

Ravish Kumar : maneesh ji bhashan bahut dete ho. salary ka jugaarh kar do. chalo futo yaha se…main likh raha hun to mera hi imtehaan lene lage. anna samajh liya hai kya.

Scharada Dubey : Lekin builder aur dalal patrakaar par bhi kaal aata hai zaroor. Sirf tab tak hum nirash ya compromised ho chuke hote hain

Pankaj K. Choudhary : aajkal aap bahut gusse me rehte hain….bp chek karwa lijiye….sabere koi baba ka pravchan bhi suniye….

Ravish Kumar : ye sahi hai ki gusse me rahta hun…roz sochta hu ki control karun. nahi hota hai. try karte hain.

Pankaj K. Choudhary : jab apne bol hi diya ki vetan hi watan hai…fir kyun tension hai..lagta hai sarokar ka kida abhi tak kaat raha hai aapko…

Scharada Dubey : Nirasha aur gusse ke daur bhi swabhavik hain…aur hum sab hain na, iss time mein aap ko jhelne ke liye 🙂 Muskuraiye, Ravish ji!

Prabhat Pandey : बिटिया का डर स्वभाविक है ….. उसे नहीं पता कि दुनिया का हर काम इन दिनों दलाली पर ….. और यह भी एक दलाल मरता है तो सौ …..

Maneesh Pandey : Ravish ji ye accha hai, aap ki lathi badi hai is liye mujhe bhaga doge. par nind nahi aane ki shikayat bhi to aap hi karte ho.

बी.पी. गौतम : यहाँ मरने के बाद पूजने की रीति-नीति है सर …..। जीवित व्यक्ति की इमानदारी और कर्तव्यपरायढ़्ता से प्रेरणा लेने की जगह लोग ईर्ष्या करते हैं.

Ravish Kumar : VO LOG KAMAAL KE HOTE HAIN JO THEEK SE SO LETE HAIN. AAJ TEESRAA DIN HAI…SIR LAGTA HAI PHAT JAAYEGA.

Maneesh Pandey : aap lo nind tab tak nahi aayegi jab tak …………. kyoki aap me ab tak thodi jaan bahi hai 🙂

Maneesh Pandey : mujhe lagta hai ki aap Zinda ho

एनडीटीवी के जाने माने जर्नलिस्ट रवीश कुमार के फेसबुक वॉल से साभार

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *