बीएसएफ के जनार्दन यादव की तरफ से रंगदारी टैक्स : दारू की बोतल और हजार रुपये

Yashwant Singh : बार्डर सेक्युरिटी फोर्स उर्फ बीएसएफ में कार्यरत जनार्दन जी एक दिन मुझसे मिलने आए और भड़ास रंगदारी टैक्स थमा बैठे. मैंने कहा- रुक जाइए, फोटो खींच लू ताकि दुनिया को बता सकूं कि भड़ास को चाहने वाले किस किस फील्ड के लोग हैं और क्या क्या रंगदारी टैक्स देते हैं… दारू की एक बोतल और हजार रुपये का लिफाफा… जय हो …

Vikaas Kapil Sharama wah wah kya baat hai gurudev ki
 
Uday Shankar Khaware waah…….humra bhi fotouwa kabhi chhp dihin SARKAR
 
Vikas Kumar जर्नादन बाबू को भड़ास के फैन्स की ओर से तहे दिल से धन्यवाद!!
 
Govind Patni jai jai ho
 
Pawan Raaj Sahu Jai ho maharaaj…………
 
Rishi Kumar jai ho
 
Govind Goyal badhai…
 
Shravan Kumar Shukla jai jawaan – jai bhadas… lov u both
 
Rupesh Gupta jai jawan jai kishan ……
 
Yashwant Singh thanks doston. yahi pyar bhadas team ki taaqat hai
 
Kunvar Sameer Sahi jai hind…

Shravan Kumar Shukla great..! jai bhadas

Ravindra Bharti unhone apni bhadas nikal li aur aapne apni

Hirendra ScriptWriter अच्छा तो ये उन्ही लम्हों की तसवीरें हैं जब आप दोनों महानुभावों से फोन पर बात हुई थी..जनार्दन भाई साब आपको बहुत चाहते हैं..मेरी ओर से भी स्नेह और शुभकामनाएं..

Srikant Saurav एक पैग हमरो चाही.

Sanjay Sharma Cheers..


भड़ास के संस्थापक और संपादक यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.


मीडिया के अंदर के घपले-घोटालों और संपादकों की जनविरोधी व पत्रकारिता विरोधी कारगुजारियों को उजागर करने के कारण भड़ास से जुड़े यशवंत और अनिल को मीडिया मालिकों और संपादकों ने फर्जी मुकदमें लदवाकर जेल भिजवा दिया था. भ्रष्ट मीडिया मालिकों और जनविरोधी संपादकों के इस जघन्य कृत्य का विरोध करने के लिए यशवंत ने भड़ास के जरिए और भड़ास के लिए प्रतीकात्मक तौर पर अपने पाठकों से 'रंगदारी' मांगने का अभियान शुरू किया.  इस रंगदारी मांगों अभियान से भड़ास के पास लाखों रुपये इकट्ठा हुए हैं. और, रंगदानी देने का सिलसिला जारी है. भड़ास से जुड़े यशवंत और अनिल पर लगाए गए रंगदारी, ब्लैकमेलिंग, धमकी, अश्लील एसएमएस इत्यादि के आरोपों के बारे में ज्यादा जानने और इन दोनों भड़ासियों के जेल जाने की कथा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें-

Yashwant Singh Jail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *