‘भड़ास आजीवन सदस्यता’ हासिल करने वालों की पहली सूची

भड़ास को सपोर्ट करने की मुहिम के तहत इसके प्रत्येक पाठक से 'भड़ास आजीवन सदस्यता' के लिए हजार रुपये की जो 'रंगदारी' मांगी गई थी, (यहां क्लिक करें- दें 'रंगदारी' ) उसका रिस्पांस आने लगा है. कई लोगों ने एसएमएस और मेल के माध्यम  से लिखित में संदेश भेजा है कि वे भड़ास को हजार रुपये का सहयोग करेंगे. कुछ लोगों ने दो हजार से लेकर पांच हजार रुपये तक देने का वादा किया है. 'भड़ास आजीवन सदस्यता' ग्रहण करने वाले साथियों के नाम की सूची नीचे दी जा रही है.

इन सभी का सिर्फ फर्स्ट नेम दिया जा रहा है ताकि उनकी गोपनीयता भी बनी रहे और उन्हें संदेश भी मिल जाए कि उनके सहयोग को सार्वजनिक रूप से स्वीकारा गया है, ताकि पारदर्शिता बनी रहे.  इन साथियों से अनुरोध है कि जिनका डिटेल हम लोगों के पास नहीं है, वे अपना नाम, पता, काम, परिचय आदि डिटेल लिखकर अपनी तस्वीर के साथ हम तक पहुंचा दें.  इस जानकारी को भड़ास डाटाबेस में सेव रखा जाएगा, ताकि इन आजीवन भड़ासी सदस्यों से फीडबैक लिया जा सके और भड़ास संचालन के लिए भविष्य में बनने वाली एक कोर टीम हेतु आमंत्रित किया जा सके.


इन साथियों ने एसएमएस या मेल, किसी एक माध्यम से 'भड़ास आजीवन सदस्यता' स्वीकारने के बारे में सहमति दी है… इनका फर्स्ट नेम और  दी जाने वाली राशि का उल्लेख यहां किया जा रहा है…

  1. दिनेश (1)  1000/-
  2. दिनेश (2)  1000/-
  3. संजय(1)   1000/-
  4. संजय(2)    1000/-
  5. विजय        1000/-
  6. जसबीर      1000/-
  7. अतुल         1000/-
  8. राजेंद्र         1000/-
  9. राजेश         5000/-
  10. चंदन          2000/-
  11. भरत          2000/-
  12. श्रवण         1000/-
  13. अमित       1000/-
  14. गोविंद       2000/-
  15. शंभू           1000/-
  16. धीरज        1000/-
  17. अभिषेक    1000/-
  18. उत्कर्ष       1000/-
  19. कुमार       1000/-
  20. कल्याण    1000/-
  21. नीरज       1000/-
  22. बबलू        1000/-
  23. बृजेश       1000/-
  24. ………       1000/-

चौबीसवें साथी का नाम नहीं मालूम हो सका है, उनका एसएमएस आया है, पर उनसे बात अभी तक नहीं हो पाई है, बात होते ही उनका भी नाम दे दिया जाएगा. उपरोक्त सभी साथियों से अनुरोध है कि वे सहयोग राशि जमा कराने के बाद मुझे मेल या एसएमएस से सूचित कर दें.

यशवंत

एडिटर

भड़ास4मीडिया

yashwant@bhadas4media.com

09999330099


क्या है ये मसला, क्यों हो रहा है ये सब….. इसे जानने-समझने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..

भड़ास के हर पाठक से यशवंत ने मांगी रंगदारी, हजार रुपये करें भड़ास के नाम जारी


Related News- Bhadas Membership

tagSupport B4M, Yashwant Singh Jail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *