भ्रष्‍ट मीडिया व सिस्‍टम को बेनकाब करने की कीमत है यशवंत की गिरफ्तारी : प्रभात

लखनऊ। भाई यशवंत आपकी तथाकथित गिरफ्तारी की खबर सुन कर मुझे यकीन नहीं हो रहा है कि यह सच है। लेकिन आपकी गिरफ्तारी जिस तरह से नोयडा पुलिस ने की है उसके पीछे कोई न कोई ऐसी साजिश है, जिसका पर्दाफाश होना बहुत जरूरी है। मैं इस पूरी घटना की निंदा करता हूं। और प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मांग करता हूं कि इस घटना की पूरी जांच साफ सुथरे तरीके से निष्‍पक्ष होना चाहिए। किसी पत्रकार को अगर गिरफ्तार करना हो तो उसका तौर तरीका अच्छा होना चाहिए।

पुलिसिया जुर्म और बर्बरता का शिकार अगर पत्रकार होगा तो खाकी पर से विश्‍वास सभी का उठ जाएगा। आपकी गिरफ्तारी का तौर तरीका काफी बबर्रता भरा था। जो हिटलरशाही को दर्शाता है। इस पूरे घटना की मैं निंन्दा करता हूं और इसकी किसी एजेंसी से जांच कराने की मांग करता हूं। मुझे यह महसूस हो रहा है कि इस पूरी घटना में इण्डिया टीवी के पत्रकार कापड़ी जी के साथ आपको फंसाने के लिए कोई न कोई ऐसी ताकत काम कर रही है, जो आपके मिशन को बीच में रोकना चाहती है। आप इससे बिल्कुल न घबराइए। अच्छा काम करने वालों के सामने कई तरह की मुसीबतें सामने आती हैं। इसका सामना पूरी हिम्मत से किया जाना चाहिए। मैं आपके साथ हूं। मैं हर मौके पर आपकी साहस की सराहना करता हूं। आप कतई विचलित न हो। आपकी जमानत होनी है उसे कोई रोक नहीं सकता। इसके लिए मैं आपकी क्या मदद कर सकता हूं मुझे बताएं।

मेरा मानना है कि आपका भड़ास पोर्टल लगातार ऊंचाइयों की तरफ जा रहा था। आपने लगातार निष्‍पक्ष खबरों को चलाया है और अपनी बात को लोगों के बीच दमदार ढंग से रखा है। जिसके कारण आपके खिलाफ साजिश रची गई है। आपके कार्यों की सराहना किया जाना चाहिए था। मैं यूपी की मीडिया में जिस तरह से कुछ तथाकथित पत्रकारों को बेनकाब करने का काम कर रहा हूं उसमें कई तरह की अड़चने आती हैं, लेकिन मैं अपने मिशन में लगा हूं। और लगातार उन पत्रकारों को चिन्हित करने का काम कर रहा हूं, जो जनहित याचिका के नाम पर लम्बी-लम्बी दलाली करते हैं। मेरा मिशन लगातार जारी है। सफलता मिलना न मिलना यह अलग बात है लेकिन मैं अपने मिशन में लगा हुआ हूं।

यशवंत भाई आप अकेले नहीं हैं। हजारों पत्रकार आपके साथ हैं। मैं इस पूरे घटना की निंदा करते हुए अपने सभी पत्रकार भाइयों की तरफ से प्रदेश के डीजीपी व प्रमुख सचिव गृह से मांग करता हूं कि इसकी पूरी जांच निष्‍पक्ष कराकर आप पर हुए पुलिसिया बर्बरता से निपटा जा सके। कहीं ऐसा तो नहीं कि मायावती सरकार में आपने जिस पुलिस आला अधिकारी को बेनकाब किया हो उसके संबंध कापड़ी से हों और आपको झूठा फंसा दिया गया हो। यह जांच का विषय है। कुल मिलाकर मैं इस पूरे प्रकरण की घोर निंदा करता हूं। और मांग करता हूं कि इसकी निष्‍पक्षता से जांच की जाए। आपके इस मुद्दे पर आंदोलन करना पड़ेगा तो मै सबसे आगे हूं। मेरी कहीं भी जरूरत हो मैं हर समय आपके लिए तैयार हूं।

प्रभात कुमार त्रिपाठी

राज्‍य मुख्‍यालय मान्‍यता प्राप्‍त संवाददाता
ब्‍यूरो प्रमुख दैनिक समाजवाद का उदय
आफिसर्स कालोनी, कैसरबाग, लखनऊ
मो0 9450410050


इसे भी पढ़ें…

Yashwant Singh Jail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *