ममता को आलोचना बर्दाश्‍त नहीं : कार्टून बनाने वाले प्रोफेसर को गिरफ्तार करवाया

कोलकाता: कहीं निरंकुशता की तरफ तो नहीं बढ़ रही हैं ममता बनर्जी! मीडिया को दो तरीके से कंट्रोल करने के तरीके से तो यही लग रहा है कि उनको अपने खिलाफ उठने वाली आवाज पसंद नहीं आ रही है। उनके फैसले उनके अपने राजनीतिक नजरिए से सही हों, पर बहुसंख्‍य लोगों के नजरिए से उनके फैसले स्‍वीकार योग्‍य नहीं हैं। अभी रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी और सरकारी लाइब्रेरियों में चुनिंदा अखबार रखने का विवाद थमा भी नहीं था कि एक और विवाद सामने आ गया है।

नई खबर है कि ममता बनर्जी को अपने ऊपर बनाया गया एक कार्टून नागवार गुजरा है। इस कथित आपत्तिजनक कार्टून बनाने तथा उसे सोशल नेटवर्किंग साइट के जरिए सार्वजनिक करने के आरोप में जादवपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अम्बिकेश महापात्रा को गिरफ्तार किया गया है। उन्हें अलीपुर कोर्ट में पेश किया जाएगा। कोलकाता से सटे दक्षिण 24 परगना जिले में स्थित यूनिवर्सिटी में महापात्रा रसायन शास्त्र के प्रोफेसर हैं। महापात्रा पर मुख्यमंत्री के आपत्तिजनक कार्टून बनाने का आरोप है, जिनमें ममता के अलावा पूर्व रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी और मौजूदा रेलमंत्री मुकुल रॉय की तस्वीरें बनी हुई थीं।

इस कार्टून में ममता को दिनेश त्रिवेदी को 'दुष्टू लोक' (दुष्ट लोग) और मुकुल रॉय को 'भालो लोक' (भले लोग) कहते हुए दिखाया गया है। प्रोफेसर ने यह कार्टून सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फेसबुक पर पोस्ट भी किया था। प्रोफेसर पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 66 के तहत मामला दर्ज किया गया है, और बंगाल सरकार का माखौल उड़ाने का आरोप लगाया गया है। बताया जा रहा है कि आपत्तिजनक कार्टून से नाराज़ होकर टीएमसी कार्यकर्ताओं ने प्रोफेसर की गिरफ्तारी से पहले उनके घर में घुसकर पिटाई भी की थी। कोलकाता पुलिस के डिप्टी कमीश्नर सुजॉय चंदा ने कहा कि प्रोफेसर अंबिकेश महापात्रा को किसी सम्मानित व्यक्ति के खिलाफ अपमानजनक संदेश भेजने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।''

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *