महिला पत्रकार से छेड़खानी (तीन) : कौन है राजेश झा?

आप जानना चाहेंगे कि आखिर कौन है राजेश झा, जिसने एक महिला पत्रकार को पिछले सोलह सालों से मानसिक प्रताड़ना दे रहा है. तो आपको बता दें कि खुद को राइटर-डाइरेक्‍टर बताने वाला यह शख्‍स बिहार के भागलपुर इलाके का रहने वाला है. शादी-शुदा है तथा बच्‍चों का पिता भी है. सोलह साल पहले यह शख्स मुंबई से प्रकाशित होने वाले एक अखबार में बिजनेस डेस्‍क पर काम करता था. यहीं पर इसके साथ यह महिला पत्रकार काम करती थी. तभी राजेश झा महिला पत्रकार के पीछे पड़ा हुआ है.

खुद को भागलपुर यूनिवर्सिटी से बिजनेस मैनेजमेंट पढ़ा बताने वाले राजेश झा को इस अखबार से निकाल दिया गया था. इसके बाद भी यह आदमी ऑफिस के बाहर घंटों खड़ा होकर महिला पत्रकार का इंतजार करता था. बाद में यह अखबार बंद हो गया, जिसके बाद महिला पत्रकार ने दूसरे संस्‍थान में ज्‍वाइन कर

राजेश झा
लिया. इसके बाद भी राजेश झा नए संस्‍थान का पता करके वहां पहुंचने लगा. इस बीच इसने लेखन और डाइरेक्‍शन का धंधा शुरू कर दिया. बिल्‍डरों के लिए छोटी-मोटी एड फिल्‍म तथा डाक्‍यूमेंट्री बनाने लगा.

यह आदमी इस कदर साइको है कि महिलाओं को छेड़खानी करने में इसको आनंद आता है. इसने एक वरिष्‍ठ पत्रकार पत्‍नी के साथ भी छेड़खानी की थी, जिसके बाद उन्‍होंने संजय निरुपम से कहकर इस आदमी को सबक सिखवाया था. छह-आठ महीने ठीक रहने के बाद फिर से यह लड़कियों और महिलाओं को परेशान करने लगा, जिसके बाद मीरा रोड स्थित इसके घर के आसपास की महिलाओं ने इसकी जमकर धुनाई की थी. इस पर आरोप है कि यह राइटर-डाइरेक्‍टर बनकर काम दिलाने के नाम पर लड़कियों को फांसता था.

इसने अपने फेसबुक प्रोफाइल में जहां खुद को शादी शुदा बताया है वहीं अपने बारे में लिख है, '' I am a Filmmaker by profession,an avid reader and traveler. I am here for my growth in profession and life. I am interested in Fun loving,Honest and Beautiful Girls… I am single and humble.'' ये अपने फेसबुक पर एड तथा डाक्‍युमेंट्री फिल्‍मों की शूटिंग की फोटो लगाकर फिल्‍म इंडस्‍ट्री में संघर्ष कर रही लड़कियों को भी अपने जाल में फंसाता है. इसके फेसबुक प्रोफाइल से ही आपको इसकी आदतों की जानकारी मिल सकती हैं. बताते हैं कि यह महिला पत्रकार के अलावा भी तमाम महिलाओं का मेंटल हरासमेंट  करता रहता है. मीरा रोड में फ्लैट खरीदने वाला यह आदमी अपनी पत्‍नी तथा बच्‍चों को बिहार में ही रखा हुआ है.     

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *