मां को अपमानित करने वाले आईपीएस रवि कुमार लोकू को प्रमोशन

मायावती के शासनकाल में तत्कालीन डीजीपी बृजलाल और गाजीपुर के एसपी के रूप में पदस्थ रवि कुमार लोकू तक गुहार लगाई गई कि मेरी मां को गाजीपुर में नंदगंज थाने की पुलिस ने बिना किसी कारण थाने में बिठा रखा है, उन्हें छुड़वाया जाए, पर किसी ने कुछ भी सुनने से इनकार कर दिया. लखनऊ के पत्रकारों ने बृजलाल को फोन किया, एसएमएस भेजे, पर बृजलाल कान में तेल डाले बैठे रहे. रवि कुमार लोकू को गाजीपुर के पत्रकारों ने कहा लेकिन इस शख्स ने भी नहीं सुना, अपनी अंकड़ में अंकड़ा रहा. शायद इन दोनों की मां या पत्नियां थाने में नहीं बिठाई गई थीं, इसलिए ये दोनों निश्चिंत-निर्विकार बने रहे.

बिना किसी आरोप थाने में बिठाई गई महिलाओं के वीडियो फुटेज व बयान हैं. मानवाधिकार के लिहाज से ये गंभीर मामला है. इसकी शिकायत राष्ट्रीय व राज्य मानवाधिकार आयोग से मैंने खुद की. रवि कुमार लोकू को गाजीपुर के एसपी पद से हटाकर पीएसी में भेज दिया गया और थोड़े दिन गुजरने के बाद उन्हें प्रमोट करके आजमगढ़ में डीआईजी बना दिया गया. शुरुआती जांच वगैरह के दिखावे के बाद सब कुछ शांत पड़ गया. सपा की सरकार आने के बाद ये उम्मीद थी कि रवि कुमार लोकू को उनकी करनी का दंड मिलेगा और उन्हें फील्ड की पोस्टिंग से हटा दिया जाएगा. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. रवि कुमार लोकू को तोहफे के रूप में आजमगढ़ के डीआईजी पद से हटाकर इलाहाबाद जैसे इलाके का डीआईजी बना दिया गया है.


-पढ़ें-

लुच्चा लोकू, बेइमान बृजलाल

मां के पांव छुओ बृजलाल


मुख्यमंत्री अखिलेश के शासनकाल में सिर्फ उन आईपीएस अफसरों को महत्वहीन पदों पर भेजा गया है जिनसे खुद अखिलेश के पापा, चाचा, भाई, भतीजों आदि परिजनों का पंगा था या फिर उन अफसरों को जो मायावती के बहुत करीबी अफसरों की लिस्ट में शुमार थे. बाकी उन अफसरों को, जो जनता के उत्पीड़न, मानवाधिकार के हनन, अन्याय को संरक्षित करने के आरोपी रहे हैं, उनका कुछ नहीं बिगड़ा इस शासनकाल में. उन सभी ने सेटिंग गेटिंग करके अच्छी अच्छी पोस्टिंग पा ली है. मेरी मांग है कि मां के साथ अन्याय प्रकरण की जांच नए सिरे से शुरू हो और जांच पूरी होने तक इन दोनों आईपीएस अफसरों बृजलाल और रवि कुमार लोकू को सस्पेंड कर देना चाहिए. -यशवंत, एडिटर, भड़ास4मीडिया

इस प्रकरण को विस्तार से समझने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं….

jusitce for मां

…इन्हें भी पढ़ सकते हैं…

http://www.bhadas4media.com/dukh-dard/6969-2010-10-16-11-26-00.html

http://www.bhadas4media.com/dukh-dard/6980-2010-10-17-09-05-00.html

http://www.bhadas4media.com/dukh-dard/6981-legal-provision-arrest-detention.html

http://www.bhadas4media.com/dukh-dard/6982-2010-10-17-09-56-04.html

http://www.bhadas4media.com/dukh-dard/6986-justice-for-mother-part1.html

http://bhadas4media.com/article-comment/6992-2010-10-18-10-30-20.html

http://bhadas4media.com/dukh-dard/6991-jusitce-for-mother-part2.html

http://bhadas4media.com/article-comment/6993-2010-10-18-10-46-56.html

http://bhadas4media.com/article-comment/6994-2010-10-18-11-15-58.html

http://bhadas4media.com/dukh-dard/6995-2010-10-18-11-51-57.html

http://bhadas4media.com/vividh/6996-2010-10-18-12-40-42.html

http://bhadas4media.com/dukh-dard/6999-justice-for-mother-part3.html

http://bhadas4media.com/print/7000-justice-for-mother-part4.html

http://bhadas4media.com/article-comment/7001-2010-10-19-12-10-44.html

http://bhadas4media.com/vividh/7003-2010-10-19-12-32-44.html

http://bhadas4media.com/article-comment/7006-2010-10-19-14-09-59.html

http://bhadas4media.com/article-comment/7008-2010-10-19-14-47-19.html

http://bhadas4media.com/dukh-dard/7010-mother-amar-ujala-fake-reporting.html

http://bhadas4media.com/vividh/7011-jusitce-for-mother-ayodhya-pc.html

http://bhadas4media.com/vividh/7012-justice-for-mother-upsacc-part5.html

http://bhadas4media.com/vividh/7014-2010-10-19-16-59-05.html

http://bhadas4media.com/article-comment/7015-use-rti-in-this-matter.html

http://bhadas4media.com/article-comment/7016-day-1-day-2-day-3-day-4.html

http://bhadas4media.com/article-comment/7017-2010-10-20-06-07-13.html

http://bhadas4media.com/tv/7021-2010-10-20-09-04-08.html

http://bhadas4media.com/vividh/7022-2010-10-20-09-16-02.html

http://bhadas4media.com/article-comment/7029-2010-10-20-11-06-51.html

http://bhadas4media.com/article-comment/7034-2010-10-20-12-15-29.html

http://bhadas4media.com/print/7036-2010-10-22-05-36-47.html

http://bhadas4media.com/dukh-dard/7037-2010-10-22-05-59-33.html

http://bhadas4media.com/vividh/7043-2010-10-23-16-51-08.html

http://bhadas4media.com/print/7044-2010-10-23-18-36-20.html

http://bhadas4media.com/dukh-dard/7048-2010-10-23-19-49-14.html

http://www.bhadas4media.com/vividh/7073-2010-10-26-04-56-15.html

http://www.bhadas4media.com/article-comment/7075-2010-10-26-05-32-11.html

http://www.bhadas4media.com/print/7078-2010-10-26-06-11-27.html

http://www.bhadas4media.com/vividh/7080-2010-10-26-06-30-27.html

http://www.bhadas4media.com/dukh-dard/7094-2010-10-26-14-27-42.html

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *