माफिया डॉन बृजेश को हीरो बना डाला जनसंदेश टाइम्‍स ने

बनारस में जनसंदेश टाइम्‍स की संपादकीय समझ को लेकर लोग खूब चर्चा कर रहे हैं. खासकर मीडिया वाले. इस अखबार ने चचेरे भाई की तेरहवीं में पहुंचे माफिया डॉन बृजेश सिंह पूरे एक पेज पर इस तरह से कवरेज दी है, जैसे वो कोई बड़ा महात्मा, नेता, सेलेब्रिटी, मंत्री या पवित्र आत्‍मा हो. बनारस के अन्‍य अखबार जहां सूचनात्‍मक तरीके से एक न्‍यूज देकर इस खबर को छूटने नहीं दिया वहीं जनसंदेश टाइम्‍स ने पहले पन्‍ने पर कथित रूप से बृजेश से फेस टू फेस बातचीत की खबर छापने के अलावा सात नम्‍बर पेज पर फुल पेज फोटो फीचर की कवरेज की है.

बनारस में जनसंदेश टाइम्‍स के इस कवरेज को लेकर थू-थू हो रही है. कछ लोगों का कहना है कि ये पूरा पेड न्यूज का मामला है. इस संदर्भ में जानकारी के लिए संपादक आशीष बागची को फोन किया गया, परन्‍तु उन्‍होंने फोन रिसीव नहीं किया. माना जा रहा है कि बृजेश चंदौली से लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारियां कर रहा है. अगर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद कुछ अड़ंगा हुआ तो अपनी विधान परिषद सदस्‍य पत्‍नी को चुनाव लड़वा सकते हैं. इसके पहले भी बृजेश चंदौली जिले के सैयदराजा विधानसभा क्षेत्र से विस चुनाव लड़ चुका है.

विस चुनाव के दौरान भी बृजेश की खबर छापने को लेकर हुए बवाल के बाद हिंदुस्‍तान, बनारस के एनई अनिल मिश्रा और रतन सिंह की बलि ली जा चुकी है. अनिल मिश्रा और उनके कुछ सहयोगियों पर आरोप लगा था कि इन लोगों ने पैसे लेने के बाद बृजेश की बड़ी खबर प्रकाशित कर दी थी. इस घटना के बाद कई अखबारों ने बृजेश को व्‍यापक कवरेज देने तथा विज्ञापन छापने से खुद को रोकने का एकतरफा निर्णय ले लिया था. अब देखना है कि माफिया डॉन को हीरो बनाने वाले लोगों के खिलाफ जनसंदेश टाइम्‍स प्रबंधन क्‍या कार्रवाई करता है.

उपरोक्त पहली कटिंग पेज नंबर एक पर प्रकाशित इंटरव्यू की है. दूसरी कटिंग पेज नंबर सात का है, जहां फुल पेज कवरेज दिया गया है, कैप्शन और अन्य संवादों के साथ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *